प्रवीण आमरे ने शॉट टाइमिंग के मामले में 22 साल के इस खिलाड़ी को बताया विराट और रोहित के समान | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

प्रवीण आमरे ने शॉट टाइमिंग के मामले में 22 साल के इस खिलाड़ी को बताया विराट और रोहित के समान 

प्रवीण आमरे ने शॉट टाइमिंग के मामले में 22 साल के इस खिलाड़ी को बताया विराट और रोहित के समान

रिषभ पंत के लगातार ख़राब प्रदर्शन के बावजूद भारत के पूर्व खिलाड़ी एवं दिल्ली कैपिटल्स के बैटिंग कोच प्रवीण आमरे ने उनका समर्थन किया है.

दरअसल रविवार को साउथ अफ्रीका के खिलाफ जब भारतीय टीम राहुल और श्रेयस की बेहतरीन पार्टनरशिप के बाद अच्छी स्थिति में था तो उस समय पंत को टीम का मोमेंटम बरक़रार रखने की जरूरत थी लेकिन पंत ने एक बार फिर फैंस को निराश किया.

बांग्लादेश के खिलाफ मात्र 6 रन बनाकर आउट हो गए थे पंत

राहुल के आउट होनें के बाद नंबर 4 पर ऋषभ पंत को ही बैटिंग पर भेजा गया। पंत ने एक बार फिर अपने खराब शॉट सिलेक्शन से टीम मैनेजमेंट की चिंताओं को बढ़ा दिया। यह युवा लेफ्टहैंडर बल्लेबाज 9 गेंदों में मात्र 6 रन बनाकर पविलियन लौट गया। पंत जब क्रीज पर आए थे तब श्रेयस उनके साथ दूसरे छोर पर मौजूद थे और अच्छा टोटल बनाने के लिए परिस्थितियां भी माकूल थीं। हालाँकि श्रेयस ने जबरजस्त 62 रनों की पारी खेल कर भारत का स्कोर 174 तक पहुँचाया.

क्या लंबे समय तक टीम में अपनी जगह कायम रख पाएंगे पंत?

वर्ल्ड कप 2019 से पहले मोहाली के मैदान पर पंत को पहले भी कड़वा घूंट पीना पड़ा था। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ यहां खेले एक वनडे मैच में पंत की विकेटकीपिंग की तब खूब आलोचना हुई थी और इसी के चलते उन्हें वर्ल्ड कप 2019 की टीम में (पहली पसंद के रूप में) जगह नहीं मिल पाई थी। अब सवाल एक बार फिर वही है कि क्या धोनी के विकल्प के तौर पर देखे जा रहे पंत लंबे समय तक टीम में अपनी जगह कायम रख पाएंगे

लगातार ख़राब प्रदर्शन के बावजूद भारत के पूर्व खिलाड़ी एवं दिल्ली कैपिटल्स के बैटिंग कोच प्रवीण आमरे ने पंत का समर्थन किया है और टीम मैनेजमेंट से पंत को और समय देने की गुजारिश की है.

प्रवीण आमरे ने कहा-

पंत भी बैट से टाइमिंग के मामले रोहित तथा विराट कोहली के सामान है, बस उन्हें समय देने की आवश्यकता है. शास्त्री और कोहली को पंत को लेकर दिल्ली कैपिटल्स से कुछ सीख लेनी चाहिए। दिल्ली कैपिटल्स के लिए अपने पहले साल में वह अच्छा नहीं कर पाए थे। लेकिन अगले साल में वह एक अलग ही बल्लेबाज नजर आए। खिलाड़ी को विकसित होने में समय लगता है।”

Related posts