पृथ्वी शॉ के जीवन जीने का तरीका पड़ रहा उनके करियर पर

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

पृथ्वी शॉ की लाइफ स्टाइल पड़ रही है उनके करियर पर भारी, ऐसे चला तो ज्यादा नहीं चलेगा करियर 

पृथ्वी शॉ की लाइफ स्टाइल पड़ रही है उनके करियर पर भारी, ऐसे चला तो ज्यादा नहीं चलेगा करियर

भारतीय टीम के युवा सितारे पृथ्वी शॉ ने इंडिया अंडर19 टीम को 2018 में विश्व कप जीताया था. उसके बाद उन्हें भारतीय टीम में मौका मिला. जिसके बाद उनका करियर चोट और बैन के कारण प्रभावित रहा है. अब रिपोर्ट्स आ रही है कि पृथ्वी शॉ के जीवन जीने का तरीका उनके करियर को बहुत ज्यादा प्रभावित कर रहा है.

पृथ्वी शॉ के जीवन जीने का तरीका करियर पर पड़ा भारी

पृथ्वी शॉ की लाइफ स्टाइल पड़ रही है उनके करियर पर भारी, ऐसे चला तो ज्यादा नहीं चलेगा करियर 1

मुंबई के युवा सलामी बल्लेबाज पृथ्वी शॉ ने भारतीय टीम के लिए 2018 में वेस्टइंडीज के खिलाफ अपना पर्दापण किया था. जहाँ पर 2 मैच के सीरीज में उन्होंने 237 रन बनाये हैं. जिसके कारण वो मैन ऑफ़ द सीरीज भी बने थे. लेकिन उसके बाद से वो टीम में दोबारा खेलते हुए नहीं नजर आयें हैं.

ऑस्ट्रेलिया दौरे पर अब वो टीम का हिस्सा थे. लेकिन चोट के कारण बाहर होने के बाद वो उस दौरे पर टीम में वापसी नहीं कर पायें. उस दौरे पर भी उनके जीवन जीने के तरीके पर कई अनुभवी खिलाड़ियों ने सवाल भी उठाया था. जिसके कारण वो अपने फिटनेस पर भी अच्छे से ध्यान नहीं दे पायें थे.

बैन ने रोक दिया पृथ्वी शॉ की वापसी

पृथ्वी शॉ
पृथ्वी शॉ

जिसके बाद वो वेस्टइंडीज दौरे पर टीम का हिस्सा होने वाले थे. लेकिन उसके बाद उनपर बैन लग गया. जिसके कारण वो टीम में वापसी नहीं कर पायें. पिछले एक साल के ज्यादा के समय से वो अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से दूर चल रहे हैं.

हाल में वो न्यूजीलैंड ए के खिलाफ खेलने वाले थे. लेकिन कंधे में चोट के कारण वो बाहर गये हैं. हालाँकि उम्मीद है की वो वहां पर वो इंडिया ए के लिए टेस्ट सीरीज खेल पायेंगे. लेकिन उसके बाद भी उन्हें न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में खेलने का मौका नहीं मिल पायेगा.

सूत्र के मुताबिक खुद दोषी हैं पृथ्वी शॉ

पृथ्वी शॉ की लाइफ स्टाइल पड़ रही है उनके करियर पर भारी, ऐसे चला तो ज्यादा नहीं चलेगा करियर 1

रिपोर्ट्स का मानना है की उसकी वजह खुद पृथ्वी शॉ ही है. जिसके बारें में टाइम्स ऑफ़ इंडिया के सूत्र ने बताया है कि

” यह किसका नुकसान है? उन्हें यह समझने में कितना समय लगेगा कि उन्हें मयंक अग्रवाल से आगे टेस्ट टीम में लाया गया था, जो उस समय घरेलू सर्किट में सबसे सफल और लगातार रन बनाने वाले खिलाड़ी थे. यदि पृथ्वी अवसर की गिनती नहीं कर रहा है, तो वह केवल खुद को दोषी ठहरा सकता है. यह उनकी जीवन शैली के कारण सभी गड़बड़ियाँ हैं.”

 

Related posts