in ,

AUSvsIND- टॉप ऑर्डर के बल्लेबाजों को बनाने चाहिए थे रन: चेतेश्वर पुजारा

भारतीय क्रिकेट टीम की शुरुआत ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर वैसी नहीं रही जैसा हर किसी को उम्मीद थी। विराट कोहली एंड कंपनी से टेस्ट सीरीज में काफी उम्मीदें लगायी जा रही थी लेकिन एडिलेड में आज से शुरु हुए पहले टेस्ट मैच में भारतीय टीम के बल्लेबाजों ने बुरी तरह से निराश किया।

चेतेश्वर पुजारा ने भारतीय टीम के लिए खेली खास पारी

जहां एक तरफ तो भारतीय टीम के सभी टॉप ऑर्डर बल्लेबाजों ने सरेंडर कर दिया तो वहीं भारतीय टीम की बल्लेबाजी की रीढ़ चेतेश्वर पुजारा एक अलग ही अंदाज में नजर आए।

चेतेश्वर पुजारा ने इस टेस्ट मैच में शानदार बल्लेबाजी करते हुए 246 गेंदों में 123 रनों की एक बहुत ही खास पारी खेली। चेतेश्वर पुजारा ने इसके साथ ही ये अपने टेस्ट करियर का 16वां शतक पूरा किया।

इस विकेट पर था मुश्किल लेकिन, मैं सेट था तो ली जिम्मेदारी

पहले दिन के खेल के बाद भारतीय टीम के शतकवीर चेतेश्वर पुजारा ने अपनी इस पारी को सबसे खास करार दिया। पुजारा ने कहा कि “ये मुश्किल था लेकिन मैं सेट था तो मैं अपने शॉट खेल सकता था। हमने 7 विकेट खो दिए थे। इसके बाद मेरी और एश(अश्विन) के बीच अच्छी साझेदारी हुई।”

“और जब हमने एश को खो दिया उसके बाद मैंने सोचा कि अब मुझे खुद जिम्मेदारी लेनी होगी और अपने शॉट्स को खेलना होगा। हम जानते थे कि इस विकेट पर किस तरह की शॉट खेलनी हैं।”

इस पारी में मेरा प्रथम श्रेणी और टेस्ट क्रिकेट का अनुभव आया काम

अपने आप के रन आउट होने पर पुजारा ने कहा कि “ये बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है लेकिन मैंने सोचा कि अगले ओवर में स्ट्राइक पर मुझे रहना चाहिए। लेकिन ये नहीं हो सका। टॉप ऑर्डर बल्लेबाजों ने गलती की लेकिन उम्मीद है कि वो इन गलतियों से सीखेंगे।”

“मेरा जो स्कोर हुआ उसके लिए तो मैंने अच्छी तरह से तैयारी की थी। और मेरा टेस्ट क्रिकेट और प्रथम श्रेणी क्रिकेट का जो अनुभव है वो आज काफी काम में आया।”

ये मेरे करियर की टॉप-5 पारियों में से एक

अपनी इस पारी की महत्वतता के बारे में पूछने पर पुजारा ने कहा कि “हां, ये मेरे करियर की सबसे अच्छी पारियों में से एक है। मैं कह सकता हूं कि ये टॉप-5 में है। मैं इसको रेट तो नहीं करना चाहता लेकिन ये बेस्ट पारी रही।”

“ईमानदारी से कहूं तो हमें कुछ बेहतर बल्लेबाजी करनी चाहिए थी। और उन्होंने भी पहले दो सेशल में बढ़िया गेंदबाजी की। मैं जानता था कि धेर्य रखना है और लूस गेंद मिलते ही शॉट खेलने हैं। वो सही इलाके में गेंदबाजी कर रहे थे, लेकिन मुझे लगा कि टॉप ऑर्डर इससे बेहतर कर सकता था लेकिन हमें इससे सीखना होगा।”

आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया हो तो प्लीज इसे लाइक करें। अपने दोस्तों तक इस खबर को सबसे पहले पहुंचाने के लिए शेयर करें। साथ ही कोई सुझाव देना चाहे तो प्लीज कमेंट करें। अगर आपने हमारा पेज अब तक लाइक नहीं किया हो तो कृपया इसे लाइक करें, जिससे लेटेस्ट अपडेट आपको हम जल्दी पहुंचा सके।