राहुल द्रविड़ को भी था ये अंधविश्वास, करते थे इसी से बल्लेबाजी

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

राहुल द्रविड़ हैं काफी अंधविश्वासी, मैदान पर उतरने से पहले करते हैं ये काम 

राहुल द्रविड़ हैं काफी अंधविश्वासी, मैदान पर उतरने से पहले करते हैं ये काम

क्रिकेट के मैदान में जब ये बल्लेबाज उतरना था तो विरोधी टीम के कप्तान और गेंदबाज ये सोचने पर मजबूर हो जाते थे कि आखिर इस बल्लेबाज को जल्द से जल्द कैसे आउट करना रहा। इस बल्लेबाज में एक ऐसी ताकत थी जो बहुत कम में देखने को मिलती थी। जो है किसी भी तरह की परिस्थितियों और किसी भी तरह की पिच पर टिकने की क्षमता…

धैर्य और संयम की जबरदस्त मूरत थे राहुल द्रविड़

किसी बल्लेबाज के लिए घंटों पर पिच पर टिकना और धैर्य के साथ बल्लेबाजी करना इतना आसान नहीं रहता है लेकिन इस बल्लेबाज में ये कला तो कूट-कूट पर भरी पड़ी थी। जो पिच पर टिके भी रहते थे और गेंदबाजों को कोई मौका तक नहीं देते थे।

राहुल द्रविड़ हैं काफी अंधविश्वासी, मैदान पर उतरने से पहले करते हैं ये काम 1

इस बल्लेबाज में धैर्य और संयम का जबरदस्त सामंजस्य था जो उन्हें बिल्कुल अलग बनाता था और आज इस बल्लेबाज को भारतीय क्रिकेट टीम की दीवार के रूप में जाना जाता है। अब तो आपको पता चल ही गया होगा कि हम यहां पर राहुल द्रविड़ की बात कर रहे हैं….

राहुल द्रविड़ भी करते थे अंधविश्वास

राहुल द्रविड़ क्रिकेट जगत में धैर्य के साथ ही अपनी बेहतरीन तकनीक के लिए जाने जाते थे। इनकी बल्लेबाजी तकनीक देखकर तो आज के युवा बल्लेबाज बहुत कुछ सीख सकते हैं। पिच पर टिकने की क्षमता और उस पर भी तकनीकी रूप से दक्षता राहुल द्रविड़ को औरों से काफी अलग बनाती थी।

राहुल द्रविड़ हैं काफी अंधविश्वासी, मैदान पर उतरने से पहले करते हैं ये काम 2

राहुल द्रविड़ ये बात बखूबी जानते थे कि कौनसे गेंदबाज की कौनसी गेंद को किस तरह से खेलना है। इसी कारण से इनकी खूबी ही विरोधी टीम के गेंदबाजों को पस्त करने के लिए काफी थी। और इसी खूबी ने राहुल द्रविड़ को विश्व क्रिकेट का एक बड़ा बल्लेबाज बनाया।

हर टेस्ट मैच से पहले करते थे किसी ना किसी नए कपड़े का यूज

टेस्ट क्रिकेट में 36 शतक और वनडे क्रिकेट में 12 शतक जड़े। राहुल द्रविड़ ने यहां तक पहुंचने के लिए एक जबरदस्त समर्पण किया है जिसमें उन्होंने खूब मेहनत की है और इसी के दम पर आज यहां तक पहुंचे हैं लेकिन साथ ही ये दिग्गज बल्लेबाज एक अंधविश्वास को भी अपने साथ लेकर चलता था।

राहुल द्रविड़ हैं काफी अंधविश्वासी, मैदान पर उतरने से पहले करते हैं ये काम 3

जी हां… भले आपको विश्वास हो या ना हो लेकिन राहुल द्रविड़ बल्लेबाजी करने से पहले एक टोटके का इस्तेमाल करते थे। राहुल द्रविड़ अपनी बल्लेबाजी के दौरान कई तरह के टोटके करते थे जिसे वो अपने लिए लकी मानते थे। जिसमें हमें मिली जानकारी के अनुसार द्रविड़ हर टेस्ट मैच में एक नया कपड़ा पहनते थे।

नींद ना आने पर रात को ही शीशे के सामने बल्ला पकड़ हो जाते थे खड़े

इतना ही नहीं इसके अलावा राहुल द्रविड़ जब मैदान में बल्लेबाजी करने उतरते तो वो हमेशा अपना दायां पांव पहले अंदर रखते थे। तो बल्लेबाजी के लिए तैयार होते समय वो हमेशा सीछे पांव की थाई पैड को पहले पहनते थे। तो साथ ही एक बात और करते जिसमें वो किसी भी सीरीज की शुरुआत में कभी भी नए बल्ले का इस्तेमाल नहीं करते थे।

राहुल द्रविड़ हैं काफी अंधविश्वासी, मैदान पर उतरने से पहले करते हैं ये काम 4

बल्लेबाज मैच से पहले मैदान में नेट्स में बल्लेबाजी का अभ्यास करता है लेकिन राहुल द्रविड़ होटल के कमरे या बेडरूम में प्रैक्टिस किया करते थे। इसी बात को लेकर एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया था कि जब उन्हें नींद नहीं आती थी तो वो अपने बल्ले को उठाते थे और शीशे के सामने शैडो प्रैक्टिस करते थे। कई बार तो बैट फर्श से टकरा जाता था तो आवाज आती थी इसी कारण उनके साथी उन्हें चिढ़ाते थे तो साथ ही उनकी शादी के बाद पत्नी विजेता को तो ये लगता था कि द्रविड़ को नींद में क्रिकेट खेलने की बीमारी है।

Related posts