रणजी फाइनल 83 साल 2 रणजी फाइनल होल्कर स्टेडियम इंदौर

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

रणजी 2017-18: रणजी क्रिकेट के 83 साल के इतिहास में पहली बार घटा है यह अद्दभुत संयोग 

रणजी 2017-18: रणजी क्रिकेट के 83 साल के इतिहास में पहली बार घटा है यह अद्दभुत संयोग
Kolkata: Vidarbha bowler RN Gurbani makes a successful LBW appeal against Karnataka batsman STR Binny (C) during 4th day of Ranji Trophy semifinal match at Eden Garden in Kolkata on Wednesday. PTI Photo by Swapan Mahapatra (PTI12_20_2017_000222A)

रणजी क्रिकेट का इतिहास 83 साल पुराना है, इस दौरान इस टूर्नामेंट में कई रिकॉर्ड बन गये हैं, किसी ने सबसे अधिक रन बनाए तो किसी ने सबसे अधिक विकेट. लेकिन इस दौरान इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट के इतिहास में एक रिकॉर्ड कभी नहीं जुड़ा था, जो रणजी के फाइनल मैच के साथ जुड़ गया. यह रिकॉर्ड बेहद अनोखा है. इसी रिकॉर्ड के साथ इंदौर क्रिकेट स्टेडियम भी इतिहास में दर्ज हो गया.

रणजी 2017-18: रणजी क्रिकेट के 83 साल के इतिहास में पहली बार घटा है यह अद्दभुत संयोग 1

83 साल के इतिहास में यह पहला अवसर-

रणजी 2017-18: रणजी क्रिकेट के 83 साल के इतिहास में पहली बार घटा है यह अद्दभुत संयोग 2

मध्य प्रदेश के शहर इंदौर के होल्कर स्टेडियम में शुक्रवार को रणजी ट्रॉफी के फाइनल मैच का आगाज हो गया. यह मैच नवम्बर 29 नवम्बर 2017 से शुरू होकर 2 जनवरी 2018 तक चलेगा. रणजी इतिहास में यह  पहला मौका है जब, एक ही साल 2 रणजी मैच के फाइनल मुकाबले खेल जाएंगे.

इसी साल 2016-17 सीजन का भी फाइनल जनवरी में खेला गया था- यानी एक ही साल दो रणजी फाइनल. दिलचस्प यह है कि 2016-17 का फाइनल मुकाबला भी 29 दिसम्बर से ही शुरू हुआ था. साथ ही वह मुकाबला भी  इंदौर के होल्कर स्टेडियम में खेला गया था. 

विदर्भ की कसी गेंदबाजी से दिल्ली भी जूझी-

रणजी 2017-18: रणजी क्रिकेट के 83 साल के इतिहास में पहली बार घटा है यह अद्दभुत संयोग 3

पहली बार रणजी ट्रॉफी के फाइनल में पहुंची विदर्भ ने इस साल से फाइनल मुकाबले में शुरुआत भी बहुत ही उत्साहभरी की है. विदर्भ ने सेमीफाइनल में सबसे मजबूत टीम कर्नाटक को हराया था, जबकि फाइनल मैच में भी उसकी कसी गेंदबाजी के आगे दिल्ली की टीम सम्मानजनक स्कोर ही बना पाई.

गुरुबानी ने लगाया छक्का-

रणजी 2017-18: रणजी क्रिकेट के 83 साल के इतिहास में पहली बार घटा है यह अद्दभुत संयोग 4

ध्रुव शोरे (नाबाद 123) और हिम्मत सिंह (66) ने विदर्भ के खिलाफ रणजी ट्रॉफी फाइनल में दिल्ली को सम्मानजनक स्थिति में पहुंचा दिया. दिल्ली ने पहले दिन शुक्रवार का अंत 6 विकेट के नुकसान पर 271 रनों के साथ किया. दूसरे दिन टीम 24 रन अपने खाते में और जोड़ 295 में आल आउट हो गयी. इस मैच में गुरुबानी एक बार फिर घातक साबित हुए उन्होंने पहली पारी में 6 विकेट झटके.

विदर्भ ने मैच में टॉस जीत पहले गेंदबाजी  करने का फैसला लिया था.

Related posts

Leave a Reply