बीसीसीआई का बड़ा ऐलान, 86 साल के इतिहास में पहली बार नहीं खेला जाएगा सबसे बड़ा घरेलू क्रिकेट टूर्नामेंट 1

10 जनवरी से सैयद मुश्ताक़ अली ट्रॉफ़ी के साथ भारतीय क्रिकेट में घरेलू सत्र की शुरुआत हो चुकी है. इसके अलावा 5 फ़रवरी भारत और इंग्लैंड के बीच शुरु होने वाली टेस्ट सीरीज़ कोरोना महामारी के बाद भारत में हो रही पहली अंतरराष्ट्रीय सीरीज़ है. इस भारत दौरे पर इंग्लिश टीम को 4 टेस्ट, 5 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों की सीरीज़ खेलनी है.

इसके अलावा घरेलू क्रिकेट को लेकर अब भारतीय क्रिकेट नियंत्रण बोर्ड (बीसीसीआई) ने एक बड़ा फ़ैसला लिया है. इसके तहत बोर्ड ने इस सत्र में होने वाले घरेलू क्रिकेट टूर्नामेंट्स का कार्यक्रम जारी कर दिया है. बीसीसीआई द्वारा जारी किए गए इस कैलेंडर नें कई चौंकाने वाले फ़ैसले हैं.

86 साल में पहली बार नहीं खेली जाएगी रणजी ट्रॉफ़ी

भारतीय घरेलू क्रिकेट

बीसीसीआई ने कोरोना महामारी की वजह से प्रभावित हुए कई घरेलू क्रिकेट टूर्नामेंट्स को इस सत्र में करने का ऐलान कर दिया है. इस दौरान सीनियर पुरुष क्रिकेट, सीनियर महिला क्रिकेट और जूनियर क्रिकेट में 50 ओवर के टूर्नामेंट्स का आयोजन किया जाएगा. ये सभी टूर्नामेंट्स कोरोना महामारी की वजह से खेले नहीं जा सके थे.

इसके अलावा बीसीसीआई ने एक बड़ा फ़ैसला लेते हुए इस सत्र में रणजी ट्रॉफ़ी न खेले जाने का आधिकारिक ऐलान कर दिया है. 1934-35 में रणजी ट्रॉफ़ी की शुरुआत के बाद ये पहली बार है जब भारतीय क्रिकेट का ये बड़ा टूर्नामेंट देखने को नहीं मिलेगा. बीसीसीआई ने इस फ़ैसले की जानकी सभी राज्य क्रिकेट संघों को पत्र के ज़रिए दी.

कोविड़ प्रोटोकॉल्स के बीच क्रिकेट कैलेंडर बनाना एक मुश्किल काम – बीसीसीआई

बीसीसीआई का बड़ा ऐलान, 86 साल के इतिहास में पहली बार नहीं खेला जाएगा सबसे बड़ा घरेलू क्रिकेट टूर्नामेंट 2

बीसीसीआई सचिव जय शाह ने इस मसले पर बोर्ड का पक्ष रखते हुए कहा कि,

“जिस तरह के बचाव प्रोटोकॉल मैचों का सफ़ल आयोजने कराने के लिए कराए जा रहे हैं उनके आधार पर क्रिकेट कैलेंडर प्लान करना एक बेहद मुश्किल काम है. हमारे लिए ये सुनिश्चित करना बेहद ज़रूरी था कि घरेलू क्रिकेट सत्र में महिला क्रिकेट को भी जोड़ा जाए.

मुझे ये बताते हुए बेहद खुशी हो रही है कि हम विजय हजारे ट्रॉफ़ी के साथ-साथ महिलाओं के लिए भी 50 ओवर के एक घरेलू क्रिकेट टूर्नामेंट का आयोजन करेंगे. इसके बाद जूनियर अंडर-19 क्रिकेट में भी वीनू मांकड़ ट्रॉफ़ी का आयोजन किया जाएगा.”

राज्य क्रिकेट संघों से भी मांगा गया है सुझाव – जय शाह

बीसीसीआई का बड़ा ऐलान, 86 साल के इतिहास में पहली बार नहीं खेला जाएगा सबसे बड़ा घरेलू क्रिकेट टूर्नामेंट 3

इसके अलावा शाह ने इस मसले पर आगे विस्तार से बताते हुए और स्टेट क्रिकेट एसोसिएशंस से तालमेल पर चर्चा करते हुए बताया कि,

“इन सभी टूर्नामेंट्स को लेकर जितनी भी डिटेल्स  हैं वो जल्द ही राज्य क्रिकेट संघों को सूचित कर दिया जाएगा.”

बीसीसीआई ने घरेलू क्रिकेट सत्र को लेकर सभी राज्य क्रिकेट संघों से सुझाव भी मंगाए हैं. ये सुझाव इसलिए भी मायने रखते हैं क्योंकि कोविड़ सुरक्षा इंतज़ामात के चलते बीसीसीआई को आईपीएल का पिछला सीज़न में यूएई में कराना पड़ा था.

इससे पहले 24 दिसंबर को हुई बीसीसीआई वार्षिक आम बैठक में आईपीएल आयोजन को लेकर संभावनाओं पर विस्तार से चर्चा की थी. लेकिन हाल ही में बीसीसीआई ने कोविड़ महामारी की वजह से इस टूर्नामेंट के आयोजन में असमर्थता जताते हुए इस साल आयोजन न करने का आधिकारिक ऐलान कर दिया है.