रवि शास्त्री

ऐसा कहा जा रहा है कि जुलाई में टीम इंडिया की जो बी टीम श्रीलंका का दौरा करेगी उसके कोच राहुल द्रविड (Rahul Dravid) होंगे. टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री (Ravi Shastri) उस वक्त सीनियर टीम के साथ इंग्लैंड दौरे पर होंगे. चर्चा की इस बात की भी जोरो पर है कि क्या रवि शास्त्री (Ravi Shastri) को कुछ समय पर कोच पद से हटा कर राहुल द्रविड (Rahul Dravid) को कोच बना दिया जाएगा.

राहुल द्रविड (Rahul Dravid) ने इंडिया अंडर-19 और इंडिया ए टीम का कोच रहते हुए शानदार काम किया है. मगर रवि शास्त्री (Ravi Shastri) भी पीछे नहीं हैं. आंकड़े बताते हैं कि उनके कोच रहते हुए टीम इंडिया का जीत का प्रतिशत शानदार रहा है.

रवि शास्त्री के कोच रहते टीम इंडिया ने किया दमदार प्रदर्शन

रवि शास्त्री

रवि शास्त्री (Ravi Shastri) को जुलाई 2017 में अनिल कुंबले के स्थान पर टीम इंडिया का हेड कोच बनाया गया था. तब से अब तक भारतीय टीम 174 इंटरनेशनल मैच खेल चुकी है. इसमें टीम को 114 में जीत मिली है.

एक तरह से देखा जाए तो रवि शास्त्री (Ravi Shastri) के कार्यकाल में भारत का ओवरऑल सक्सेस रेट 65% से ज्यादा रहा है. रवि शास्त्री (Ravi Shastri) का कोच रहते हुए कार्यकाल उनके शानदार काम को देखते हुए दोबारा बढ़ाया गया था.

रवि शास्त्री की कोचिंग में तीनों प्रारूपों में टीम का बेहतरीन प्रदर्शन

रवि शास्त्री

रवि शास्त्री (Ravi Shastri) की कोचिंग में भारतीय टीम ने 38 में से 23 टेस्ट मैचों में जीत हासिल की है. सक्सेस रेट 60% का रहा. वहीं, वनडे में 76 में से 51 में जीत मिली. सक्सेस रेट 67% रहा. इसी तरह टी-20 में भारत को 60 में से 40 मैचों में जीत मिली. 66% सस्केस रेट रहा.

टेस्ट क्रिकेट में 20 या इससे ज्यादा मैचों में टीम इंडिया की कोचिंग करने वालों में रवि शास्त्री (Ravi Shastri) का रिकॉर्ड सबसे अच्छा है. वनडे क्रिकेट में भी उनकी सफलता की दर 20 से ज्यादा मैचों में कोचिंग करने वालों में सबसे ज्यादा है.

शास्त्री ने वो कर दिखाया जो नहीं कर सके अन्य कोच

रवि शास्त्री

रवि शास्त्री (Ravi Shastri) के कोचिंग करियर की सबसे बड़ी उपलब्धि टीम इंडिया को ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज में जीत दिलवाना है. वह भी एक नहीं दो-दो बार। 2018-19 और 2020-21 में भारत ने ऑस्ट्रेलिया को उसके घर में हराया.

इससे पहले भारत क्या कोई भी एशियाई टीम ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज नहीं जीत पाई थी। 2020-21 में तो भारत ने युवा खिलाड़ियों के दम पर ऑस्ट्रेलिया को हराया. भारतीय टीम के जो भी कोच रहे है उसमें शास्त्री (Ravi Shastri) का कार्यकाल में टीम का प्रदर्शन सबसे बेहतर रहा है.

2017 में टीम के कोच बनने वाले रवि शास्त्री (Ravi Shastri) को 2019 में एक्सटेंशन मिला था. उनका कार्यकाल 2021 वर्ल्ड कप तक है. इससे पहले उन्हें ICC टेस्ट चैम्पियनशिप और इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में भी टीम के साथ रहना है.

वर्तमान में शास्त्री और द्रविड की भूमिका

रवि शास्त्री

2017 में टीम के कोच बनने वाले रवि शास्त्री (Ravi Shastri) को 2019 में एक्सटेंशन मिला था. उनका कार्यकाल 2021 वर्ल्ड कप तक है. इससे पहले उन्हें ICC टेस्ट चैम्पियनशिप और इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में भी टीम के साथ रहना है.

वहीं राहुल द्रविड (Rahul Dravid) की बात करें तो 2017 जब अनिल कुंबले कोच पद से हटे थे तब भी राहुल द्रविड़ से पूछा गया था कि क्या वे टीम इंडिया के कोच बनेंगे. द्रविड़ (Rahul Dravid) ने तब कहा था कि वे परिवार के साथ ज्यादा समय बिताना चाहते हैं. इसी को ध्यान में रखते हुए द्रविड़ (Rahul Dravid) ने बेंगलुरू में नेशनल क्रिकेट एकेडमी (NCA) के हेड का पद भी संभाला है.