सौरव गांगुली के बीसीसीआई अध्यक्ष बनने से रवि शास्त्री को हो सकते हैं ये नुकसान

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

सौरव गांगुली के बीसीसीआई अध्यक्ष बनने से रवि शास्त्री को हो सकते हैं ये नुकसान 

सौरव गांगुली के बीसीसीआई अध्यक्ष बनने से रवि शास्त्री को हो सकते हैं ये नुकसान

सौरव गांगुली को बीसीसीआई का अध्यक्ष चुना गया है. वह भारतीय टीम के पूर्व कप्तान रह चुके हैं और उनकी कप्तानी में भारतीय टीम शानदार प्रदर्शन भी कर चुकी है. उन्होंने काफी मुश्किल समय में भारतीय टीम की कप्तानी मिली थी, लेकिन उन्होंने अपनी कप्तानी में भारत को 2003 विश्व कप के फाइनल तक पहुंचाया था. आज हम बात करने वाले है, कि गांगुली के बीसीसीआई का अध्यक्ष बनने से रवि शास्त्री को क्या नुकसान हो सकते हैं.

रवि शास्त्री और गांगुली के रिश्ते आपस में अच्छे नहीं

सौरव गांगुली

रवि शास्त्री और सौरव गांगुली के बीच अच्छे रिश्ते नहीं रहे हैं. कई बार दोनों के बीच का झगड़ा मीडिया में भी आया हुआ हैं. दोनों ने एक-दूसरे के खिलाफ कई बार मीडिया में बयान दिए हुए हैं.

सौरव गांगुली के बीसीसीआई के अध्यक्ष बनने की खबर आने के बाद से ही भारतीय टीम के कोच रवि शास्त्री को सोशल मीडिया में जमकर ट्रोल किया जा रहा है. लोग रवि शास्त्री को लेकर मिम्स बना रहे हैं.

अब नहीं चल पायेगी रवि शास्त्री की मनमानी!

रवि शास्त्री

यह बात किसी से भी छिपी नहीं है, कि भारतीय ड्रेसिंग रूम में जितने भी फैसले लिए जाते हैं. वह सिर्फ और सिर्फ कोच रवि शास्त्री और कप्तान विराट कोहली के ही होते है. इन दोनों के अलावा किसी भी खिलाड़ी या अन्य कोचिंग स्टाफ के फैसलों को इतनी महत्वता नहीं मिलती है.

युवराज सिंह ने भी हाल में ही अपने एक बयान में कहा था, कि भारतीय क्रिकेट से जुड़े सारे फैसले कुछ चंद लोग हो ले रहे हैं और उनका सीधा इशारा रवि शास्त्री और विराट कोहली पर था.

हालांकि, अब सौरव गांगुली के अध्यक्ष बनने के बाद रवि शास्त्री अपनी मनमानी नहीं कर पायेंगे. उनके गलत फैसलों में निश्चित रूप से सौरव गांगुली की नजर रहेगी.

शास्त्री की मनमानी से भारत के हाथ से फिसला था विश्व कप

रवि शास्त्री

2019 विश्व कप में कई बार भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री ने गलत फैसले लिए थे. बल्लेबाजी क्रम से लेकर प्लेइंग इलेवन तक के चयन में विराट कोहली और रवि शास्त्री की मनमानी देखने को मिली है. कप्तान और कोच की मनमानी के चलते भी कहीं ना कहीं भारतीय टीम के हाथ से यह विश्व कप फिसला है.

हालांकि, अब सौरव गांगुली के बीसीसीआई अध्यक्ष बनने के बाद से उम्मीद है, कि टीम के सभी फैसले सिर्फ कोच और कप्तान ही नहीं लेंगे. अन्य खिलाड़ी व सपोर्ट स्टाफ को भी पूरी महत्वता मिलेगी.

Related posts