रविन्द्र जडेजा को इन पांच खूबियों की वजह से मिला भारतीय वर्ल्ड कप टीम मे खेलने का

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

रविन्द्र जडेजा को इन 5 वजह से मिलना चाहिए भारतीय टीम के प्लेइंग इलेवन में जगह 

रविन्द्र जडेजा को इन 5 वजह से मिलना चाहिए भारतीय टीम के प्लेइंग इलेवन में जगह

विश्व कप 2019 की शुरुआत मेजबान इंग्लैंड की जीत के साथ शुरू हुआ था. और 14 जुलाई को इसका फाइनल लॉर्ड्स के मैदान पर खेला जाएगा. इस बार दस टीमों मे से पांच टीमों को जीत का दावेदार माना जा रहा था. पर टूर्नामेंट शुरू होने के बाद यह गणित गड़बड़ होता दिख रहा. भारत आज बुधवार को अपना पहला मैच दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेल रही है, जिसमे क्रिकेट प्रेमी की नजरें रविन्द्र जडेजा पर भी रहेंगी.

1. रविन्द्र जडेजा के पास है अनुभव

रविन्द्र जडेजा

मेहनत के साथ अगर अनुभव मिल जाए तब तो कामयाबी मिलना तय हैं. ऐसा ही कुछ है रविन्द्र जडेजा के साथ भी है. अगर किसी ने 2013 चैंपियंस ट्रॉफी की जीत देखी होगी, तो उसने देखा होगा कि जडेजा भारत की जीत के प्रमुख कारणों में से एक थे.

टूर्नामेंट में बल्ले, गेंद और मैदान पर उनका योगदान महत्वपूर्ण था. 2015 विश्व कप में सेमीफाइनल में उनको जगह मिली थी. 2017 मे इंग्लैंड में चैंपियंस ट्राफी के दौरान भी वह भारतीय टीम का हिस्सा थे.

2. हरदम से एक खतरनाक फील्डर रहे

रविन्द्र जडेजा

हर भारतीय क्रिकेट प्रशंसक मानता है कि रवींद्र जडेजा इस समय भारतीय टीम में सर्वश्रेष्ठ फील्डर हैं. उनकी वजह से  गेंदबाजों को बहुत सहायता मिलती है. हमेशा से वह शानदार कैच पकड़ते हैं या अलग ढंग से रन आउट करते हैं.

इससे ज्यादा कुछ तो नहीं पर 5-10 रन बच जाते है और मैच निर्णायक साबित हो जाते हैं. इस विश्व कप में पहले से ही बेन स्टोक्स का एक बेहतरीन प्रदर्शन देखने को मिला है सबकी नजरे अटकी है  जडेजा पर.

3. बल्लेबाजी मे खुद को निखारा है रविन्द्र जडेजा ने

रविन्द्र जडेजा

हम सब ही जानते हैं, कि रविन्द्र जडेजा एक आल राउंडर खिलाड़ी है. जब भी हम उनकी बल्लेबाजी को याद करते है तो कभी भी इंग्लैंड के खिलाफ 2009 का टी 20 विश्व कप मैच को नहीं भुला पाएंगे जहा हमने जडेजा की बल्लेबाजी का लुत्फ़ उठाया था.

शिखर धवन के बाद जडेजा ही एक बाएं हाथ के बल्लेबाज के रूप मे उभरे हैं. पिछले कुछ सालों से जडेजा की बल्लेबाजी में सुधार आया है. पिछली 10 टेस्ट पारियों में, उन्होंने 53 की औसत से दो बार 80 और एक बार 100 रन बनाए वो भी सिर्फ 53 के औसत से.आईपीएल मे भी उनका प्रदर्शन शानदार रहा है.

4. कुलदीप और भुवनेश्वर का खराब फार्म

रविन्द्र जडेजा

हमने देखा है कि पिछले कुछ सालों से किसी भी एकदिवसीय टीम में कलाई के स्पिनर और डेथ बॉलर की मौजूदगी ने विपक्षी बल्लेबाजी पर रोक लगाने मे कामयाब रहे है.

आदिल रशीद, शादाब खान, एडम ज़म्पा और इमरान ताहिर जैसे खिलाड़ियों ने अपनी टीम को मजबूती प्रदान की है. जबकि भारत की टुकड़ी में युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव की भी शानदार उपस्थिति है. ऐसे मे जडेजा का अनुभव और मौजूदगी भारत को मजबूती देगा.

5. टीम को संतुलन प्रदान करेंगे रविन्द्र जडेजा

रविन्द्र जडेजा

जडेजा को अपने अनुभव का फायदा ही मिल रहा है कि विश्व कप मे बल्लेबाजी एक मजबूत इकाई साबित होती है. ऐसे में जरुरी है कि टीम के निचले क्रम के खिलाड़ी भी अच्छी बल्लेबाजी कर टीम को संभल कर रखे.

ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड जैसी टीमों ने नौवें नंबर का खिलाड़ी भी शानदार बल्लेबाजी करता है, जबकि इंग्लैंड का नंबर 11 का खिलाडी भी मैच जीताने की काबिलियत रखता है.

दूसरी ओर, भारत की तरफ से रविन्द्र जडेजा नंबर 8 पर खेल कर शीर्ष क्रम का प्रेशर कम कर सकेंगे और टीम के संतुलन को भी बेहतर बना सकेंगे.

Related posts