रिपोर्ट में भारतीय खिलाड़ियों के नस्लीय दुर्व्यवहार की पुष्टि, क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने किया ये गलत काम 1

भारत और आस्ट्रेलिया के बीच खेली गई 4 टेस्ट मैचों की सीरीज के तीसरे टेस्ट मैच के दौरान सिडनी के मैदान पर खेले गए मैच में आस्ट्रेलिया के कुछ फैंस द्वारा भारतीय खिलाड़ियों पर नस्लीय टिप्पणी की गई थी। इसके बाद काफी विवाद बढ़ गया, खेल कुछ समय तक रोक गया था, वहीं कुछ दर्शकों को स्टेडियम से बाहर भी कर दिया गया था। वहीं अब रिपोर्ट आ रही है की जो फैंस स्टेडियम से बाहर हुए थे, उन्होंने नस्लीय टिप्पणी नहीं की थी।

भारतीय खिलाड़ियों पर की गई थी नस्लीय टिप्पणी

रिपोर्ट में भारतीय खिलाड़ियों के नस्लीय दुर्व्यवहार की पुष्टि, क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने किया ये गलत काम 2

सीडी के मैदान पर खेले गए तीन टेस्ट मैचों की सीरीज के तीसरे मैच के तीसरे और चौथे दिन एक शर्मनाक घटना सामने आई। दरअसल स्टेडियम में मैच देखने आए कुछ आस्ट्रेलियाई फैन भारतीय खिलाड़ियों पर नस्लीय टिप्पणी करने लगे। फैंस ने भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज और बुमराह पर टिप्पणी की थी।

दोनों खिलाड़ियों पर टिप्पणी होने के बाद भारतीय कार्यवाहक कप्तान अजिंक्य रहाणे और दोनों खिलाड़ियों ने मैच रेफरी और अंपायर से शिकायत की। इसके बाद आस्ट्रेलिया बोर्ड ने सख्त कदम उठाने का आश्वासन दिया। वहीं जब खेल के पांचवें दिन भी भारतीय टीम मैदान पर उतरी तो एक बार फिर उनपर टिप्पणी की गई।

कुछ दर्शकों को किया गया स्टेडियम से बाहर

रिपोर्ट में भारतीय खिलाड़ियों के नस्लीय दुर्व्यवहार की पुष्टि, क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने किया ये गलत काम 3

खेल के चौथे दिन जब फिर भारतीय खिलाड़ियों पर टिप्पणी की गई तो खेल रोक दिया गया। लगभग 10 मिनट तक खेल रुक रहा था। फिर ग्राउंड स्टाफ ने पुलिस बुलाई और उन्होंने कुछ दर्शकों को स्टेडियम से बाहर कर दिया, इसके बाद मैच दोबारा शुरू हुआ।

भारतीय खिलाड़ियों के साथ हुई ऐसी घटना के बाद बोर्ड ने इस घटना की जांच करने का आश्वासन भी दिया था। क्रिकेट आस्ट्रेलिया ने भारतीय खिलाड़ियों से माफी भी मांगी थी। इसी क्रम में अब आस्ट्रेलिया बोर्ड ने जांच शुरू की। स्टेडियम में लगे सीसीटीवी कैमरे की मदद से क्रिकेट आस्ट्रेलिया ने जांच शुरू की।

स्टेडियम से बाहर जाने वाले फैंस निर्दोष

भारतीय

भारतीय खिलाड़ियों पर हुई नस्लीय टिप्पणी के बाद जब जांच शुरू की गई तो क्रिकेट आस्ट्रेलिया ने पहले उन दर्शकों पर नजर डाला जो स्टेडियम से बाहर भेजे गए थे तो वह सभी निर्दोष साबित हुए। ताज़ा आ रही मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक यह पुष्टि हो चुकी है की खिलाड़ियों पर नक्सलीय टिप्पणी की गई थी।

हालांकि अभी तक यह तय नहीं हुआ है की टिप्पणी किसने की थी। लेकिन यह स्पष्ट हो गया है की जो दर्शक बाहर किए गए थे, उन्होंने टिप्पणी नहीं की थी।