REPORTS: दो साल और बढ़ सकता है एमएसके प्रसाद का कार्यकाल 1

भारतीय टीम के मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद पर लगातार सवाल उठते रहे हैं। उन्होंने भारत के लिए चंद मैच खेले हैं और इसमें उनका प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा है। यही वजह है कि उन पर हमेशा सवाल खड़े किये जाते हैं। सुनील गावस्कर जैसे दिग्गज ने भी उनके इंटरनेशनल क्रिकेट के अनुभव पर सवाल खड़ा कर दिया था।

कार्यकाल बढ़ सकता है

REPORTS: दो साल और बढ़ सकता है एमएसके प्रसाद का कार्यकाल 2

एमएसके प्रसाद का अगले दो सालों के लिए भी भारतीय क्रिकेट टीम का मुख्य चयनकर्ता बनाया जा सकता है। उन्हें साल 2016 में टी-20 विश्व कप के बाद भारतीय सीनियर टीम के मुख्य कोच की जिम्मेदारी मिली थी।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड की नियम के मुताबिक मुख्य चयनकर्ता की नियुक्ति 5 सालों के लिए होती है। यह नियम अपनाया गया तो एमएसके प्रसाद साल 2021 तक भारतीय टीम के मुख्य चयनकर्ता बने रह सकते हैं।

सौरव गांगुली का होगा फैसला

REPORTS: दो साल और बढ़ सकता है एमएसके प्रसाद का कार्यकाल 3

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और बीसीसीआई के नये अध्यक्ष सौरव गांगुली ही एमएसके प्रसाद पर अंतिम फैसला लेंगे। हालाँकि, मुंबई मिरर की रिपोर्ट को माने तो वह बीसीसीआई के नियम के तरह जाकर प्रसाद को 5 साल का समय लेना चाहते हैं।

REPORTS: दो साल और बढ़ सकता है एमएसके प्रसाद का कार्यकाल 4

बांग्लादेश के खिलाफ सीरीज के लिए टीम घोषणा के बाद एमएसके प्रसाद ने पत्रकारों से बात की। यहाँ उनके भविष्य को लेकर सवाल किया गया लेकिन उन्होंने सवाल का कोई जवाब नहीं दिया।

घरेलू मैच में पैसे बढ़ेंगे

REPORTS: दो साल और बढ़ सकता है एमएसके प्रसाद का कार्यकाल 5

भारतीय घरेलू मैच में खेलने वाले खिलाड़ियों को एक दिन के 35 हजार रूपये मिलते हैं। सौरव गांगुली ने अध्यक्ष बनने के बाद ही कहा था कि वह सबसे पहले घरेलू मैचों में खेलने वाले खिलाड़ियों पर काम करेंगे और ऐसा होता भी दिख रहा है।

मुंबई मिरर की ही रिपोर्ट में कहा गया है कि 35 हजार की जगह खिलाड़ियों को एक दिन के 50 हजार रूपये मिलेंगे। भारत में घरेलू मैचों में खेलने वाले खिलाड़ियों को कोई कॉन्ट्रैक्ट नहीं दिया जाता है। उन्हें बीसीसीआई ही प्रति मैच दिन का पैसा देती है।