virat kohli-rishabh pant

ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी खेली जा रही है। इस चार मैचों की टेस्ट सीरीज का चौथा और अंतिम टेस्ट मैच 15 जनवरी से ब्रिस्बेन में खेला जाएगा। इस टेस्ट सीरीज में दोनों ही टीमों के बीच जबरदस्त मुकाबला देखा जा रहा है। जहां पहले दोनों ही टेस्ट मैचों में टीमों ने 1-1 की बराबरी के बाद सिडनी में खेले गए तीसरे टेस्ट मैच को ड्रॉ खेला।

सिडनी में ऋषभ पंत को भेजा ऊपर

सिडनी के एससीजी में खेले गए मैच में आखिर तक भारतीय टीम ने जबरदस्त लड़ाई की। भारत को ऑस्ट्रेलिया ने जीत के लिए 407 रनों की मुश्किल लक्ष्य दिया था। जिसे भारतीय टीम के लिए बनाना या उससे बचना भी मुश्किल दिख रहा था।

रिकी पोंटिंग ने बताया, सिडनी टेस्ट मैच के ड्रॉ होने का टर्निंग पॉइंट 1

भारत ने चौथे दिन दोनों सलामी बल्लेबाजों को खोने के बाद पांचवें दिन कप्तान अजिंक्य रहाणे को 102 रन के स्कोर पर ही खो दिया। जहां से भारतीय टीम का बचना काफी मुश्किल हो चला। यहां टीम मैनेजमेंट और कप्तान ने हर किसी को चौंकाते हुए ऋषभ पंत को बल्लेबाजी के लिए भेज दिया।

ऋषभ पंत ने खेली 118 गेंद में 97 रन की पारी

वैसे तो मैच की स्थिति और इस पॉजिशन को देखते हुए तो हनुमा विहारी का आना था, लेकिन भारतीय टीम मैनेजमेंट ने ऋषभ पंत को भेज दिया। ऋषभ पंत ने कमाल की बल्लेबाजी करते हुए लंच तक भारत को जीतने के बारे में सोचने की स्थिति में ला दिया।

रिकी पोंटिंग ने बताया, सिडनी टेस्ट मैच के ड्रॉ होने का टर्निंग पॉइंट 2

ऋषभ पंत ने जबरदस्त पारी खेलते हुए भारतीय टीम को लंच तक अच्छी स्थिति में ला दिया। पंत लंच के बाद आउट हुए लेकिन उन्होंने केवल 118 गेंद में 97 रन बनाकर भारत के लिए मैच में जान ला दी। और साथ ही ऑस्ट्रेलिया को एक बारगी तो डरा ही दिया था।

आगे भेजने की रणनीति को रिकी पोंटिंग ने बताया शानदार मूव

इस सिडनी  टेस्ट मैच में ऋषभ पंत की कमाल की पारी के बाद ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान और आईपीएल में दिल्ली कैपिटल्स के कोच रिकी पोंटिंग ने पंत की जमकर तारीफ की। पोंटिंग ने पंत को आगे भेजने को भी एक शानदार मूव माना।

रिकी पोंटिंग ने बताया, सिडनी टेस्ट मैच के ड्रॉ होने का टर्निंग पॉइंट 3

ऋषभ पंत को लेकर पोंटिंग ने कहा कि “ऋषभ को ऊपर भेजने के लिए बहुत अच्छी प्रोएक्टिव कप्तानी या कोचिंग थी। भारत को जीतने के मौके के साथ रहने के लिए ऐसा करने की जरूरत थी। टिम पेन ने दो मौकों पर पन्त का कैच छोड़ दिया इसलिए उनके साथ थोड़ा भाग्य भी था। पंत ने सिर्फ धमाका ही नहीं बल्कि उनमें कौशल भी है। वो प्रोपर टेस्ट मैच बल्लेबाज हैं जैसा कि कुछ कमेंटेटर भी कह रहे थे।”