भारत के इस दिग्गज खिलाड़ी ने लालच के चलते अपनी ही टीम को दिया धोखा, अब प्रसंशको के दिलो में नहीं बचेगी इज्जत 1

भारत में क्रिकेट का बुखार इस कदर है, कि हर दूसरा बच्चा बस क्रिकेटर ही बनना चाहता है. मगर 1 अरब 35 करोड़ वाले इस देश में बहुत कम ही लोग एसे हो पाते है, जो भारत की जर्शी पहन पाते है और भारत की जर्शी पहनने वाले क्रिकेटर में भी एसे बहुत कम क्रिकेटर है, जो भारत के लिए लगातार खेल पाते है. वरना अधिकतर क्रिकेटर एसे होते है,खुला बड़ा राज: विराट कोहली और धोनी ने नहीं बल्कि बीसीसीआई के इन अधिकारियों की वजह से भारत को करना पड़ा हार का सामना

जो भारत के लिए कुछ मैच खेल कर गुम हो जाते है और बस अपनी भारतीय टीम में जगह बनाने के लिए संघर्ष करते ही रह जाते है. इन्ही क्रिकेटरो में से एक नाम है रोबिन उथप्पा का. रोबिन उथप्पा भारतीय क्रिकेट का एक बड़ा नाम है, मगर आजकल वह अपनी रणजी टीम कर्नाटक को छोड़ने के लिए सुर्खियों में बने हुए है.

खेलेंगे दूसरी रणजी टीम से 

भारत के इस दिग्गज खिलाड़ी ने लालच के चलते अपनी ही टीम को दिया धोखा, अब प्रसंशको के दिलो में नहीं बचेगी इज्जत 2
photo credit with google

पहले खबर आई थी कि रोबिन उथप्पा घरेलू क्रिकेट में कर्नाटक की टीम को छोड़कर केरल की टीम के लिए खेल सकते है. जिसके लिए उनकी बात केरल के क्रिकेट अधिकारीयों से चल रही थी. मगर अब ये खबर है कि वो कर्नाटक की टीम को छोड़ने के बाद विदर्भ की टीम से खेल सकते है.

लालच में खेलेंगे विदर्भ से

भारत के इस दिग्गज खिलाड़ी ने लालच के चलते अपनी ही टीम को दिया धोखा, अब प्रसंशको के दिलो में नहीं बचेगी इज्जत 3
photo credit with google

 

कुछ दिन पहले तक खबर यह थी कि रोबिन उथप्पा केरल की टीम से खेलने के लिए ही  (केएससीए) से नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट (एनओसी) की मांग कर रहे थे, मगर अब समीकरण पूरी तरीके से बदल चुके है, अब ताजा खबर यह है कि रोबिन उथप्पा अपना पहला विकल्प विदर्भ को चुनना चाह रहे है, क्योंकि विदर्भ क्रिकेट एसोसिएशन ने रोबिन उथप्पा को केरला की टीम से कही ज्यादा सैलरी पैकेज देने की बात कही है.

मिल गई है (एनओसी)

रणजी का ये सत्र किसी और रणजी टीम से खेलने के लिए रोबिन उथप्पा को कर्नाटक राज्य क्रिकेट संघ (केएससीए) से नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट (एनओसी) की जरूरत थी, जो रोबिन उथप्पा को (केएससीए) ने 20 जून रविवार को ही दे दी है. मगर रोबिन उथप्पा अभी भी अपनी नई रणजी टीम का चुनाव नहीं कर पाए है.इस खिलाड़ी को अंतिम 11 में जगह देने को लेकर विराट कोहली से लड़ बैठे अनिल कुंबले, गँवानी पड़ी कोच पद

पिछले सत्र में रहा था निराशाजनक प्रदर्शन 

भारत के इस दिग्गज खिलाड़ी ने लालच के चलते अपनी ही टीम को दिया धोखा, अब प्रसंशको के दिलो में नहीं बचेगी इज्जत 4
photo credit with google

रोबिन उथप्पा ने पिछले रणजी सत्र में 6 मैचों की 11 परियों में मात्र 328 रन मारे जिसमे से उन्होंने एक शतक कमजोर मानी जाने वाली असम के खिलाफ लगाया था. रोबिन उथप्पा ने आजतक 130 रणजी मैचों में 41.28 की औसत से 8793 रन बनाए है.

vineetarya

cricket is my first and last love, I know cricket only cricket, I love watching cricket because cricket is my passion and my passion is my work my favourite player Mike Hussey and Kl Rahul