धोनी

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी पिछले साल हुए आईसीसी क्रिकेट विश्व कप के बाद से ही क्रिकेट से पूरी तरह से दूर हैं। इस बीच भारतीय टीम ने तो कई सीरीज खेली लेकिन महेन्द्र सिंह धोनी को किसी भी सीमित ओवर की सीरीज में मौका नहीं मिला। ऐसे में लगातार ये कयास लगाए जा रहे हैं कि वो जल्द ही संन्यास ले सकते हैं।

रोजर बिन्नी ने महेन्द्र सिंह धोनी के करियर को लेकर दी प्रतिक्रिया

फिलहाल तो महेन्द्र सिंह धोनी ने अपने करियर को लेकर किसी तरह का कोई फैसला नहीं किया है। इन पिछले कुछ महीनों से महेन्द्र सिंह धोनी के करियर को लेकर कई पूर्व दिग्गजों ने अपनी राय दी है।

धोनी

उसी बीच भारतीय क्रिकेट टीम के साल 1983 विश्व कप विजेता टीम के खिलाड़ी रहे रोजर बिन्नी ने भी एमएस धोनी के करियर को लेकर अपनी प्रतिक्रिया दी हैं। जिसमें उन्होंने उनके भविष्य को लेकर बात की।

रोजर बिन्नी ने कहा, महेन्द्र सिंह धोनी का बीत चुका है अच्छा समय

भारत के इस पूर्व तेज गेंदबाज रोजर बिन्नी का स्पोर्ट्स कीड़ा के फेसबुक पेज पर एक इंटरव्यू किया गया। इस इंटरव्यू में कहा कि एमएस धोनी के सबसे अच्छे दिन उनके अतीत में रहे है और ये उनके लिए अगली पीढ़ी के लिए रास्ता बनाने का समय है। उनका मानना है कि महेन्द्र सिंह धोनी का बेस्ट अब बीत चुका है।

महेंद्र सिंह धोनी

रोजर बिन्नी ने कहा  “पिछले कुछ सीजन से उन्हें देखकर लगता है कि उनका सर्वश्रेष्ठ वक्त गुजर चुका है। मुझे लगता है कि अपनी समझ और ताकत के दम पर वो जो हारा हुआ मैच जिता देते थे वो समय अब बीत चुका है।और साथ ही खिलाड़ियों का हौंसला बढ़ाने की उनकी खूबी भी अब पहले जैसी नहीं रही।”

धोनी करते हैं हर किसी का बहुत सम्मान

इसके अलावा रोजर बिन्नी ने एसएस धोनी की फिटनेस को लेकर बात करते हुए कहा कि “उनकी फिटनेस भी अब पहले जैसी नहीं रही है और कई युवा खिलाड़ी भी इस सिस्टम में आ रहे हैं। सही मायनों में उनका बेस्ट गुजर चुका है और इसका सही फैसला करने वाले वो खुद होंगे।”

महेन्द्र सिंह धोनी के करियर को लेकर इस दिग्गज भारतीय खिलाड़ी का बड़ा बयान, कहा उनका बीत चुका है अच्छा समय 1

रोजर बिन्नी जब धोनी कप्तान थे तो टीम के चयनकर्ता के रूप में काम किया है। उस अनुभव के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि “महेन्द्र सिंह धोनी पूर्व क्रिकेटरों का बहुत सम्मान करते हैं। इस चीज की मैं तारीफ करता हूं। वो काफी जमीन से जुड़े हुए इंसान हैं और क्रिकेटर्स के लिए उनके मन में बहुत सम्मान है और वो समय था। वो आपके पास आकर बात करते थे और बताते थे कि आखिर उन्हें क्या चाहिए।”