विवादों के बीच कुंबले के समर्थन में उतरा धोनी के सबसे पसंदीदा खिलाड़ियों में से एक यह खिलाड़ी | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

विवादों के बीच कुंबले के समर्थन में उतरा धोनी के सबसे पसंदीदा खिलाड़ियों में से एक यह खिलाड़ी 

विवादों के बीच कुंबले के समर्थन में उतरा धोनी के सबसे पसंदीदा खिलाड़ियों में से एक यह खिलाड़ी

जब से टीम इंडिया ने लंदन की फ्लाइट पकड़ी है, कोच और खिलाड़ियों के बीच मन-मुटाव की खबरों ने सुर्खिया बनायीं हुई है. कुंबले पर सीनियर खिलाड़ियों द्वारा ड्रेसिंग रूम का माहौल खराब करने और आज़ादी पर लगाम लगाने के आरोप लगाये गए.

हालाँकि इस बात का कोई पुख्ता साबुत नहीं मिला है, न ही कुंबले और न ही भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड की ओर से इन सभी खबरों पर कोई भी बयान या सफाई अभी तक दी गयी है. इस सब का सच क्या है, यह तो टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली और कोच अनिल कुंबले ही बेहतर जानते है, लेकिन इस सब के बीच इन दोनों ही खिलाड़ियों के साथ खेल चूके भारत के पूर्व तेज़ गेंदबाज़ आरपी सिंह ने कुंबले के पक्ष में बयान दिया है और इन खबरों को महज़ अफवाह करार दिया है.  बीसीसीआई ने किया साफ़ अनिल कुंबले नहीं रहेंगे भारतीय टीम के कोच, इन नियमो के तहत किया जायेगा नये कोच का चयन

इस विवाद पर कुंबले का साथ देते नज़र आये रुद्र प्रताप सिंह

आरपी सिंह ने इस विवाद के बारे में कहा, “मुझे इन रिपोर्ट्स पर बिलकुल भी भरोसा नहीं है, मैंने अनिल भाई और विराट दोनों के साथ क्रिकेट खेला है और दोनों की कप्तानी में भी मैं खेल चूका हूँ और मैं यह जानता हूँ, कि यह दोनों किस तरह सोचते है. 2008 में ऑस्ट्रेलिया में हमारी सफलता का पूरा श्रेय मैं अनिल भाई को ही दूंगा.”

सिंह ने आगे कहा, “मुझे जब भी कभी सुझाव की ज़रूरत पड़ती थी, तो मैं उनसे ही बात करता था और अपने सुझाव भी देता था, हालाँकि उन्हें कुछ सही लगते और कुछ नहीं, लेकिन वो मुझे समझाया करते थे, कि हमे क्यों कुछ और सोचना चाहिए.”

कुंबले के मैनेजमेंट के बारे में बात करते हुए आरपी सिंह ने कहा

जब वो कप्तान थे हमने उन्हें केवल इसलिए ही आदर नहीं दिया बल्कि उन्होंने यह आदर अपने प्रदर्शन से कमाया है, वो जिस तरह से टीम को संभाल रहे थे वो देखने लायक था. टीम में ऐसा होता रहता है, कि दो व्यक्ति कभी एक बात पर सहमत न हो, लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि उनके बीच मन-मुटाव है.  लम्बे समय से भारतीय टीम से बाहर चल रहे भारतीय ऑल राउंडर इरफ़ान पठान ने किया चैंपियंस ट्रॉफी की फाइनल 2 टीमों का खुलासा

हम हमेशा उनके विचारों और तकनीक पर भरोसा जताते रहे थे, केवल इसलिए नहीं क्योंकि वो एक सीनियर खिलाड़ी थे, बल्कि इसलिए क्योंकि उनकी रणनीति हमारे लिए नतीजे निकाल कर दे रही थी.

कुंबले क्या ज्यादा कठोर है?

जब आरपी सिंह से पूछा गया, कि क्या अनिल कुंबले कुछ ज्यादा ही कठोर है? तो इस पर आरपी सिंह ने जवाब देते हुए कहा, कि “यह बात बिलकुल गलत है , अनिल भाई ने हम पर कभी भी दबाव नहीं डाला और अगर किसी के पास कोई रणनीति होती थी और उससे टीम को फायदा मिल सकता था, तो उसे मैदान पर अंजाम देने की भी छूट हमे मिली हुई थी.”   नेट्स गेंदबाज़ ने बताया कोहली, धोनी या युवराज नहीं बल्कि टीम इंडिया के इस बल्लेबाज़ ने किया सबसे अधिक प्रभावित

कोच या कप्तान टीम इंडिया में किसके पास होती है ज्यादा ताकत?

आरपी सिंह ने इस पर बात करते हुए कहा, कि “किसी भी टीम में कप्तान ही अंतिम निर्णय लेता है, लेकिन कोच का काम होता है युवा और नए खिलाड़ियों को परखे और उन्हें सही समय पर इस्तेमाल करे. आखिर में टीम का हित ही सबसे ऊपर होना चाहिए.”

Related posts