सचिन के खिलाफ मध्यप्रदेश हाईकोर्ट में ‘भारत रत्न’ वापस लेने की मांग पर याचिका दायर

मास्टर ब्लास्टर “सचिन तेंडुलकर” के खिलाफ उनसे ‘भारत रत्न’ वापस लेने की मांग पर मध्यप्रदेश हाईकोर्ट में एक याचिका दायर की गई है. भोपाल के वीके नस्वा ने याचिका दायर की है जिसमे कहा गया है कि भारत रत्न से नवाजे गए सचिन तेंडुलकर अभी भी विज्ञापनों में काम कर रहे हैं जो कि सर्वोच्च सम्मान का इस तरह से इस्तेमाल किया जाना सही नहीं है.   मामले में अगली सुनवाई 23 जून को होगी।

वीके नस्वा के अनुसार देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान पाने वाले किसी भी व्यक्ति को टीवी पर इस तरह से विज्ञापनों में काम नहीं करना चाहिए.और ये सिर्फ मेरा ही नहीं बल्कि कई लोगो का ऐसा मानना है.   
42 साल की उम्र में सचिन इस समय 12 से अधिक ब्रांडों का समर्थन कर रहे हैं. जिनमे अवीवा लाइफ इंश्योरेंस, एमआरएफ और बूस्ट कंपनियां शामिल हैं.

 एक शानदार 24 साल के अंतरराष्ट्रीय कैरियर का आनंद लेने के बाद नवंबर 2013 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने वाले तेंदुलकर भारत रत्न पाने वाले पहले खिलाड़ी बने थे. उन्होंने अपने क्रिकेट करियर में शानदार प्रदर्शन करते हुए 200 टेस्ट में 15,921 रन और 463 एकदिवसीय मैचों में खेलकर 18,426 रन बनाए हैं.

Related Topics