VIDEO : बिना पैर के क्रिकेट खेल रहे बच्चे को देख भावुक हुए सचिन तेंदुलकर, देख रो पड़ेंगे आप 1

छत्तीसगढ़ के एक दिव्यांग बच्चे से हैरान होकर क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने ट्वीट किया है. इस ट्वीट में उन्होंने दंतेवाड़ा के दिव्यांग बच्चे मड्‌डा राम के हौसलों को सलाम किया है. सचिन ने साल 2020 की शुरुआत बेहद ही भावुक और प्रेरणादायी वीडियो को शेयर कर की है.

अपनी बल्लेबाजी से लाखों क्रिकेटरों के लिए प्रेरणा माने जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने अपने ट्विटर अकाउंट से एक ऐसा वीडियो पोस्ट किया है जो किसी भी इंसान को लड़ने और आगे बढ़ने की सीख देता है.

मड्‌डा राम का वीडियो सचिन ने किया शेयर 

सचिन तेंदुलकर ने ट्विटर पर एक वीडियो पोस्ट किया है जिसमें एक बच्चा क्रिकेट खेल रहा है और उसके पांव नहीं हैं. वो बच्चा शॉट लगाता है और रन के लिए दौड़ता है. बच्चे के पांव नहीं है, लेकिन वो हाथों के बल दौड़ रहा है. उसके शरीर का निचला हिस्सा जमीन पर रगड़ खा रहा है लेकिन इसके बावजूद वो रन पूरा करने में कामयाब रहता है.

सचिन ने ये वीडियो शेयर करते हुए लिखा, ‘2020 का आगाज इस प्रेरणादायी वीडियो से कीजिए जिसमें ये बच्चा मड्‌डा राम अपने दोस्तों के साथ क्रिकेट खेल रहा है. इसने मेरे दिल में जज्बा पैदा किया, यकीन है आपके साथ भी ऐसा होगा.’ सचिन के इस वीडियो को फैंस कर रहे हैं और उसे शेयर भी कर रहे हैं.

VIDEO : बिना पैर के क्रिकेट खेल रहे बच्चे को देख भावुक हुए सचिन तेंदुलकर, देख रो पड़ेंगे आप 2

सचिन तेंदुलकर ने कहा 2020 में खेल पर दिया जाए जोर

sachi

सचिन ने आगे कहा कि 2020 में खेल पर और ज्यादा जोर देने की जरूरत है. उन्होंने कहा, ‘खेल न सिर्फ हमारे बच्चों को सक्रिय और स्वस्थ रखता है बल्कि वह इससे साथ में काम करना भी सीखते हैं. हर बच्चे को जीवन के हर कदम पर समान मौके मिलने चाहिए और उनके साथ भेदभाव नहीं होना चाहिए.’

यह दशक होगा बच्चों के नाम

VIDEO : बिना पैर के क्रिकेट खेल रहे बच्चे को देख भावुक हुए सचिन तेंदुलकर, देख रो पड़ेंगे आप 3

सचिन तेंदुलकर ने नए साल से पहले भी आने वाले साल और दशक को बच्चों का बताया. उन्होंने कहा, ‘साल 2020 और इससे शुरू होने वाला दशक बच्चों का होना चाहिए. उनके साथ समय बिताएं, प्यार दें और उन्हें गलती करने की छूट देनी चाहिए, हमें उन्हें बड़े सपनों के लिए तैयार करना चाहिए.’ सचिन ने आगे कहा, ‘उनकी सेहत, पोषण और शिक्षा में सही तरह से निवेश कर हम उन्हें उनके सपने सच करने के लिए प्रेरित कर सकते हैं.’

Ashutosh Tripathi

Sport Journalist