क्रिकेट

आज भारतीय क्रिकेट के गलियारों में उस वक्त शोक का सन्नाटा पसर गया, जब पूर्व भारतीय क्रिकेटर सदाशिव पाटिल का 86 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। इस खिलाड़ी ने भारत के लिए उस वक्त क्रिकेट खेला, जब भारतीय क्रिकेट की नींव रखी जा रही थी। उन्होंने 1955 में भारत के लिए 1 टेस्ट मैच खेला था और आज उनका निधन हो गया।

सदाशिव पाटिल का हुआ निधन

सदाशिव पाटिल

एक तरफ आईपीएल के आगाज की तैयारियों से क्रिकेट के गलियारों में फैंस खुशियां मनाते नजर आ रहे हैं। तो वहीं आज पूर्व भारतीय क्रिकेटर सदाशिव पाटिल की 86 वर्ष की उम्र में निधन हो गया है। कोल्हापुर जिला क्रिकेट संघ के पूर्व पदाधिकारी रमेश कदम ने पीटीआई को बताया,

”उनका (पाटिल का) कोल्हापुर की रुईकर कॉलोनी में अपने आवास पर मंगलवार तड़के सोते हुए निधन हो गया।”

पूर्व भारतीय क्रिकेटर का हुआ निधन, क्रिकेट बिरादरी में छाई शोक की लहर 1

भारत के लिए खेला एक 1 टेस्ट मैच

आज भारतीय क्रिकेट  जिन बुलंदियों पर है। उसे इस स्तर पर पहुंचाने का श्रेय उन पुराने खिलाड़ियों को जाता है, जो 50, 60 में खेलते थे। तेज गेंदबाजी आलराउंडर पाटिल ने 1955 में न्यूजीलैंड के खिलाफ एक टेस्ट मैच में भारत का प्रतिनिधित्व किया। उन्होंने हालांकि इसके बाद देश का प्रतिनिधित्व करने का मौका नहीं मिला।

पाटिल ने 1952-1964 के बीच महाराष्ट्र के लिए 36 फर्स्ट क्लास मैचों में 866 रन बनाने के अलावा 83 विकेट चटकाए। उन्होंने रणजी ट्रॉफी में महाराष्ट्र की कप्तानी भी की।

हाल ही में वसंत रायजी का भी हुआ निधन

क्रिकेटर

बीते दिनों में भारतीय क्रिकेट के दिग्गज वसंत रायजी का भी निधन हो गया था। विश्व क्रिकेट के सबसे उम्रदराज क्रिकेटर वसंत रायजी का निधन हो गया। दाएं हाथ के इस खिलाड़ी ने 40 के दशक में 9 फर्स्ट क्लास मैच खेले थे। इस दौरान उन्होंने 277 रन बनाए थे और उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर 68 था।

वसंत रायजी के निधन पर सचिन ने भी ट्वीट कर उनकी मौत पर दुख जताते हुए कहा था-मैं इस साल की शुरुआत में वसंत रायजी का 100वां जन्मदिन मनाने के लिए उनके घर गया था। खेल के लिए उनका जोश और जुनून देखने लायक था. उनके निधन से मैं दुखी हूं।