संजय बांगर ने टीम इंडिया के कोचिंग स्टाफ से निकाले जाने के बाद किए खुलासे

Trending News

Blog Post

इंटरव्यूज

कोचिंग स्टाफ से निकाले जाने के बाद छल्का संजय बांगर का छलका दर्द, नंबर-4 बल्लेबाजी क्रम को लेकर किया खुलासा 

कोचिंग स्टाफ से निकाले जाने के बाद छल्का संजय बांगर का छलका दर्द, नंबर-4 बल्लेबाजी क्रम को लेकर किया खुलासा

5 सालों तक भारतीय क्रिकेट टीम के बल्लेबाजी कोच रहने के बाद संजय बांगर के कार्यकाल को नवीनीकृत नहीं किया गया। उनकी जगह पूर्व क्रिकेटर और सिलेक्टर रह चुके विक्रम राठौर को बल्लेबाजी कोच नियुक्त किया गया है। ऐसे में टीम इंडिया के स्टाफ से बाहर होने के बाद संजय ने टाइम्स ऑफ़ इंडिया को दिए इंटरव्यू में अपना रिपोर्ट कार्ड दिया है। उनका मानना है की टीम इंडिया के टेस्ट में नंबर वन बनने के बावजूद सिर्फ उन्हें टीम से निकला जाना निराशाजनक है।

बांगर ने बताया कोचिंग स्टाफ से बाहर होना निराशाजन

संजय बांगर के कार्यकाल के दौरान भारतीय टेस्ट टीम नंबर-1 पर काबिज है और सीमित ओवरों में भी टीम का प्रदर्शन काफी अच्छा रहा है। इसपर बांगर उन्होंने कहा,

“मैं 2014 के बाद से टीम की प्रगति और तीन साल तक टेस्ट में नंबर 1 बने रहने पर खुशी के साथ आगे बढ़ता हूं।

हमने खेले गए 52 टेस्ट मैचों में से 30 जीते, जिनमें से 13 विदेशी सरजमीं पर थे। हमने सभी देशों में एकदिवसीय मैचों में भी लगातार जीत दर्ज की। हां, विश्व कप में हमें जीत नहीं मिल सकी।

बांगड़ ने आगे कहा,

“निराश होना स्वाभाविक था। कुछ दिनों तक मैं ऐसा रहा। लेकिन मैं बीसीसीआई और अन्य कोचों डंकन फ्लेचर, अनिल कुंबले और रवि शास्त्री का धन्यवाद देता हूं जिन्होंने मुझे पांच साल तक भारतीय क्रिकेट की सेवा करने का मौका दिया। यह ब्रेक मुझे तरोताजा और खुद को दोबारा तलाशने का मौका देगा।”

नंबर-4 बल्लेबाज चुनना मेरा अकेले का काम नहीं

पिछले 2 सालों से भारतीय क्रिकेट टीम अपने नंबर-4 के पक्के दावेदार की तलाश कर रही है। लेकिन अभी तक यह तलाश पूरी नहीं हो सकी। यहां तक की विश्व कप जैसे मैगा इवेंट में भी टीम इंडिया इस परेशानी से जूंझती दिखी। अब इस पर संजय बांगर ने कहा,

“पूरा टीम मैनेजमेंट और चयनकर्ता सभी नंबर चार कौन सा बल्लेबाज खेलेगा इस निर्णय के लिए जिम्मेदार हैं। हमारी प्राथमिकता यह थी कि वर्तमान में जो भी बल्लेबाज पूरी तरह से फिट और फॉर्म में होगा उसे चुनेंगे इतना ही नहीं वो बाएं हाथ का हो या गेंदबाजी भी कर लेता हो तो चलेगा।”

Related posts