CWC 2019, NZvsPAK: न्यूजीलैंड के खिलाफ जीत के बाद सरफराज अहमद ने 1992 विश्व कप के संयोग पर रखी राय

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

CWC 2019, NZvsPAK: न्यूजीलैंड के खिलाफ जीत के बाद सरफराज अहमद ने 1992 विश्व कप से संयोग पर रखी राय 

CWC 2019, NZvsPAK: न्यूजीलैंड के खिलाफ जीत के बाद सरफराज अहमद ने 1992 विश्व कप से संयोग पर रखी राय

आईसीसी विश्व कप 2019 में पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के बीच मुकाबला खेला गया। कीवी कप्तान केन विलियमसन ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। दोनों टीमों के लिए यह मुकाबला महत्वपूर्ण था। पाकिस्तान की टीम लक्ष्य का पीछा करने में बेहतरीन नहीं मानी जाती लेकिन टीम ने इस मैच को 6 विकेट से जीत लिया। उनके बल्लेबाजों और गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन किया।

फील्डिंग पर की मेहनत

CWC 2019, NZvsPAK: न्यूजीलैंड के खिलाफ जीत के बाद सरफराज अहमद ने 1992 विश्व कप से संयोग पर रखी राय 1

इस विश्व कप में पाकिस्तान की फील्डिंग पर लगातार सवाल खड़े हो रहे थे। इसके लिए खिलाड़ियों की फिटनेस को जिम्मेदार माना जा रहा था लेकिन आज टीम ने शानदार फील्डिंग की। कप्तान सरफराज अहमद ने खुद कूदकर रॉस टेलर का कैच लपका था। जीत के बाद कप्तान सरफराज अहमद ने कहा

“दर्शक हमेशा पाकिस्तान टीम का समर्थन करते हैं। सभी तरह के समर्थन के लिए आपको धन्यवाद। क्षेत्ररक्षण महत्वपूर्ण है, लेकिन हमने आज तक अच्छा प्रदर्शन नहीं किया था और हमने अपने अभ्यास सत्रों में कड़ी मेहनत की है। आज अच्छा परिणाम देखने को मिला है। जब भी पाकिस्तान टीम को कोने पर धकेला जाता है, हम अच्छा करते हैं। यह एक बेहतरीन टीम प्रयास है, सबसे पहले गेंदबाज बेहतरीन थी। आमिर ने जिस तरह से शुरुआत की और फिर शाहीन और बीच के ओवरों में शादाब ने अच्छा किया।”

बाबर आजम की जमकर तारीफ की

CWC 2019, NZvsPAK: न्यूजीलैंड के खिलाफ जीत के बाद सरफराज अहमद ने 1992 विश्व कप से संयोग पर रखी राय 2

पाकिस्तान के युवा बल्लेबाज बाबर आजम ने शानदार शतक बनाकर टीम को जीत दिलाई। उन्होंने 127 गेंदों में 101 रनों की बेहतरीन पारी खेली। इस पारी के बाद कप्तान सरफराज अहमद ने उनकी जमकर तारीफ की। इसके साथ ही उन्होंने यह भी साफ़ कर दिया कि उनकी टीम 1992 विश्व कप के बारे में नहीं सोच रही है। उन्होंने कहा

“जिस तरफ से बाबर और हारिश ने बल्लेबाजी की। मेरे लिए यह बाबर की सबसे बेहतरीन पारियों में से एक है। यह मुश्किल पिच था और हम 50 ओवर खेलने की तरफ देख रहे थे। हारिश को भी श्रेय जाता है क्योंकि उन्होंने दबाव को काफी बेहतरीन तरीके से संभाला।ऑफ स्पिन गेंदबाज के सामने बल्लेबाजी करना आसान नहीं था। हम 1992 के बारे में नहीं सोच रहे बल्कि यहाँ मैच दर मैच सोच रहे हैं। उम्मीद है आगे भी ऐसा ही प्रदर्शन जारी रहेगा।”

Related posts