शंकर बासु ने मोहम्मद शमी के साथ इन भारतीय खिलाड़ियों का बताया फिटनेस राज

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

शंकर बासु ने इस भारतीय खिलाड़ी को बताया विराट कोहली से भी ज्यादा फिट 

शंकर बासु ने इस भारतीय खिलाड़ी को बताया विराट कोहली से भी ज्यादा फिट

क्रिकेट करियर मे कोई भी खिलाड़ी कभी खाली नहीं बैठ सकता है, क्योंकि कोई न कोई टूर्नामेंट लगा ही रहता है. एक तरफ टीम इंडिया इंग्लैंड और वेल्स मे इस विश्व कप विजेता बनने के लिए अपना दम आजमा रही है. वहीं दूसरी ओर भारत के तेज़ गेंदबाज मोहम्मद शमी  अपनी फिटनेस पर पूरा ध्यान दे रहे हैं. भुवनेश्वर कुमार के चोटिल हो जाने के बाद अब शमी को प्लेइंग इलेवन में जगह मिलना तय माना जा रहा है.

शंकर बासु ने बताया शमी का फिटनेस मंत्र

शंकर बासु

केदार जाधव और शमी कभी भी अपनी फिटनेस को लेकर ज्यदा चिंतित नही होते थे. उन्होंने बताया की शमी को फिट करना उनकी सबसे बड़ी उपलब्धी है. शमी को चोट लगने के बाद से कई कारणों से वह खुद को फिट नही रख पा रहे थे.

पिछली साल वह वह अपने फिटनेस टेस्ट मे फेल हो गए थे. पहले वो लगातार ट्रेनिंग नही कर पाते थे, और अब वह हर रोज़ नियमित तौर पर एक्सरसाइज करते है.

उन्होंने आगे कहा 

“यह सोचने की बात है की पिछले साल एक फिटनेस परीक्षण में शमी विफल रहे थे, और उनके निजी जीवन में भी कुछ मुद्दे थे. एक बार जब वह वापस आया, तो उसने एक प्रतिशोध के साथ प्रशिक्षण शुरू किया. मैंने शमी से कहा था कि 20 दिनों तक कड़ी मेहनत करने का कोई मतलब नहीं है, फिर भी वह लगातार लगा रहा.”

बुमराह की फिटनेस को लेकर यह कहा शंकर बासु ने

शंकर बासु

एक और खिलाड़ी जिन्होंने उल्लेखनीय सुधार दिखाया है, वह हैं जसप्रीत बुमराह. बसु ने जसप्रीत बुमराह को अपनी फिटनेस सुधारने के लिए और अपना  स्तर उठाने के लिए उनकी प्रशंसा की है.

बुमराह जब टीम में आए थे तो वह फिट खिलाड़ियों मे नही थे. आज वह अपने कठिन परिश्रम, उचित आहार, अच्छी नींद के पैटर्न के कारण उस शीर्ष पर पहुंचे है.

बासु ने बताया की यह कहना गलत है की टीम का हर खिलाड़ी अपने कप्तान की तरह ग्रिल्ड भोजन खाता है. बुमराह और केएल राहुल बहुत से प्लीमेट्रिक अभ्यास करते हैं जिनमें कूदना शामिल है. इससे बिजली जैसी गति पैदा करने में मदद मिलती है. तो एक  उनके शरीर अलग हैं और इसलिए दिनचर्या भी अलग है

शंकर बासु ने बताया महेंद्र सिंह धोनी रखते हैं खुद की फिटनेस का ख्याल

शंकर बासु

महेंद्र सिंह धोनी के बारे में बात करते हुए कहा कि पूर्व कप्तान अपनी सेहत पर बहुत ध्यान देते हैं, वो कोई भी ऐसा काम नही करते जिससे उनके शरीर पर कोई असर पड़े. वह अपने शरीर को बहुत अच्छे से जानते है.

शंकर बासू ने कहा कि

“अगर हम पाशविक शक्ति के बारे में बात करते हैं, तो मैं तीन नाम लूंगा जो पहाड़ी क्षेत्रों से उनकी पृष्ठभूमि के कारण संभवतः सबसे मजबूत हैं. महेंद्र सिंह धोनी, ऋषभ पंत और पवन नेगी. ऋषभ के पास अविश्वसनीय शक्ति है.”

बासू ने खुद को मॉडल विफलता एथलीट बताया, जिसने 1987 में टोक्यो में एशियाई जूनियर एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में भारत का प्रतिनिधित्व किया था.

 

Related posts