IND vs SL, तीसरा टी-20: शार्दुल ठाकुर ने मैन ऑफ द मैच मिलने के बारे अपनी बल्लेबाजी पर दिया बयान

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

IND vs SL, तीसरा टी-20: शार्दुल ठाकुर ने मैन ऑफ द मैच मिलने के बारे अपनी बल्लेबाजी पर दिया बयान 

IND vs SL, तीसरा टी-20: शार्दुल ठाकुर ने मैन ऑफ द मैच मिलने के बारे अपनी बल्लेबाजी पर दिया बयान

भारत और श्रीलंका के बीच पुणे के महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन क्रिकेट स्टेडियम में टी-20 सीरीज का अंतिम मुकाबला खेला गया। इस मैच को 78 रनों से अपने नाम कर भारत ने सीरीज को 2-0 से अपने नाम किया। गुवाहाटी में हुआ पहला मैच बारिश की वजह से रद्द हो गया था वहीं इंदौर टी-20 को भारत ने 7 विकेट से अपने नाम किया था।

शार्दुल ठाकुर मैन ऑफ द मैच बने

IND vs SL, तीसरा टी-20: शार्दुल ठाकुर ने मैन ऑफ द मैच मिलने के बारे अपनी बल्लेबाजी पर दिया बयान 1

भारतीय टीम के तेज गेंदबाज शार्दुल ठाकुर को मैन ऑफ द मैच का अवॉर्ड दिया गया। उन्होंने पहले निचले क्रम में आकर 8 गेंदों में 22 रनों की पारी खेली। इस पारी में दो चौके के साथ ही एक छक्का शामिल था।

इसके बाद गेंदबाजी में भी उनका शानदार प्रदर्शन रहा। तीन ओवर में उन्होंने 19 रन देकर 2 विकेट लिए। इसमें सलामी बल्लेबाज अविष्का फर्नांडो और दसुन शनाका का विकेट शामिल था।

अपनी बल्लेबाजी पर बोले

IND vs SL, तीसरा टी-20: शार्दुल ठाकुर ने मैन ऑफ द मैच मिलने के बारे अपनी बल्लेबाजी पर दिया बयान 2

शार्दुल ठाकुर ने इस मुकाबले से पहले वेस्टइंडीज के खिलाफ वनडे मैच की आखिरी पारी में शानदार बल्लेबाजी की थी। अपनी बल्लेबाजी और गेंदबाजी पर बात करते हुए ठाकुर ने मैन ऑफ द मैच लेने के बाद बात करते हुए उन्होंने कहा

“मेरा मानना है कि मेरे पास बल्ले की क्षमता है और मैं अच्छा अभ्यास कर रहा हूं। अगर मैं आठवें नंबर पर योगदान दे सकता हूं, तो यह टीम के लिए हमेशा महत्वपूर्ण होता है। अपने एक्शन के बारे में बात करुं, मैं आउटस्विंगर गेंदबाज़ी कर सकता हूं, इसलिए ध्यान गेंद को जल्दी स्विंग करने पर है।”

कप्तान और मैनेजमेंट की तारीफ की

IND vs SL, तीसरा टी-20: शार्दुल ठाकुर ने मैन ऑफ द मैच मिलने के बारे अपनी बल्लेबाजी पर दिया बयान 3

शार्दुक ठाकुर ने मैच के बाद टीम मैनेजमेंट और कप्तान की भी तारीफ की। वह करीब एक साल तक टीम से बाहर थे लेकिन उन्हें कभी ऐसा महसूस नहीं हुआ। उन्होंने आगे बात करते हुए कहा

“मुझे 2016 में टीम में पहली बार शामिल किया गया था, तब से टीम में काफी समय बिताया है। मुझे एक घरेलू भावना मिलती है और यह महसूस नहीं होता है, इसलिए इसका श्रेय कप्तान और प्रबंधन को जाता है। मैं खुद को बल्लेबाजी के लिए तैयार कर रहा हूं जब मैं बाहर इंतजार कर रहा हूं और जब मैं अंदर आता हूं तो मुझ पर दबाव नहीं बनाता है।”

Related posts