बीसीसीआई

अजिंक्या रहाणे की कप्तानी वाली भारतीय क्रिकेट टीम ने बॉर्डर-गावस्कर सीरीज के फाइनल मैच में गाबा टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलिया को 3 विकेट से हराकर ऐतिहासिक जीत दर्ज की। इसी के साथ टीम इंडिया ने इस सीरीज को भी 2-1 से अपने नाम कर लिया है। ऐतिहासिक जीत के बाद टीम के कोच रवि शास्त्री ड्रेसिंग रूम में सभी खिलाड़ियों की तारीफ करते नजर आए, लेकिन वह एक बड़े खिलाड़ी की तारीफ करना भूल गए।

रवि शास्त्री ने ड्रेसिंग रूम में

भारतीय क्रिकेट टीम ने जिस तरह से ऑस्ट्रेलिया को इस बॉर्डर-गावस्कर सीरीज में मात दी है, उसे क्रिकेट के गलियारों में सदियों तक याद किया जाएगा। टीम इंडिया के कोच रवि शास्त्री ने इस ऐतिहासिक जीत के लिए भारतीय टीम के खिलाड़ियों का मनोबल बढ़ाने हुए, ड्रेसिंग रूम में शुभमन गिल से लेकर ऋषभ पंत तक सभी खिलाड़ियों की जमकर तारीफ की।

सभी खिलाड़ी तारीफ के पात्र हैं, क्योंकि विराट कोहली, जसप्रीत बुमराह, रविंद्र जडेजा, अश्विन तमाम अनुभवी खिलाड़ियों की गैरमौजूदगी में ये सीरीज जीतकर खिलाड़ियों ने भारत को ऐतिहासिक जीत दिलाई है और ट्रॉफी को अपने पास बरकरार रखा।

शुभमन गिल से पंत तक सबको सराहा

भारतीय क्रिकेट टीम की शानदार जीत के बाद जब सभी खिलाड़ी ड्रेसिंग रूम में जश्न मना रहे थे, तभी टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री वहां पहुंचे और उन्होंने खिलाड़ियों को एक-एक करके उनके प्रदर्शन के लिए सराहा। उन्होंने कहा,

डेब्यू सीरीज खेल रहे खिलाड़ी शुभमन गिल का नाम लेते हुए उन्होंने कहा कि तुमने काफी बेहतरीन प्रदर्शन किया और तुम्हारी पारी महान हैं।

वहीं, चेतेश्वर पुजारा जो इंजरी के बाद भी टीम के लिए खड़े रहे और अश्विन के साथ मिलकर शानदार पारी खेली। उनके लिए कोच ने कहा कि तुम एक अल्टीमेट वॉरियर हो।

टेस्ट मैच के आखिरी दिन मैच के हीरो रहे ऋषभ पंत को लेकर उन्होंने कहा कि आप काफी ज्यादा बेहतरीन हैं। जब आप बैटिंग कर रहे थे तो आपने कई लोगों को हार्ट अटैक दिया।

बुमराह सिराज जैसे खिलाड़ियों को भूल गए शास्त्री

टीम इंडिया

भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री ने टीम के युवा खिलाड़ियों को तो सराहा, लेकिन वह भारत के लिए सबसे ज्यादा 13 विकेट लेने वाले मोहम्मद सिराज, 11 विकेट लेने वाले जसप्रीत बुमराह, 11 विकेट व सिडनी टेस्ट मैच में 39 रनों की ऐतिहासिक पारी खेलने वाले रविचंद्रन अश्विन जैसे खिलाड़ियों का नाम लेना ही भूल गए।

इस बात में कोई शक नहीं है कि पुजारा, पंत, गिल आदि ने कमाल का खेल दिखाया, लेकिन सिराज, बुमराह, अश्विन, जडेजा भी तारीफ के हकदार हैं, क्योंकि उन्होंने इस सीरीज को जिताने में अपना अहम योगदान दिया।