बांग्लादेश का क्लीन स्वीप करने के बाद शास्त्री ने कही ये बात

Trending News

Blog Post

इंटरव्यूज

बांग्लादेश का क्लीन स्वीप करने के बाद मुख्य कोच रवि शास्त्री ने गेंदबाजों के लिए कही दिल छू लेने वाली बात 

बांग्लादेश का क्लीन स्वीप करने के बाद मुख्य कोच रवि शास्त्री ने गेंदबाजों के लिए कही दिल छू लेने वाली बात

भारतीय क्रिकेट इतिहास के पहले डे-नाइट टेस्ट मैच को विराट कोहली एंड कंपनी ने मैच के तीसरे दिन के शुरुआती पहले घंटे में ही अपने नाम कर लिया। कोलकाता के ऐतिहासिक मैदान में खेले गए पिंक बॉल के इस ऐतिहासिक टेस्ट मैच को भारत ने जीत के साथ ही यादगार बना दिया है।

पिंक बॉल टेस्ट जीतकर भारत ने बांग्लादेश का किया क्लीन स्वीप

भारत के इस पहले डे-नाइट टेस्ट मैच में भारतीय टीम ने जबरदस्त प्रदर्शन किया और दो मैचों की टेस्ट सीरीज में बांग्लादेश को दूसरे मैच में पारी और 46 रनों से धुल चटाकर सीरीज को 2-0 से अपने नाम किया।

पिंक बॉल टेस्ट

दो मैचों की टेस्ट सीरीज का पहला टेस्ट मैच भारत ने आसानी से जीत लिया था जिसके बाद दूसरे टेस्ट के दूसरे ही दिन भारतीय टीम ने बांग्लादेश पर बड़ी जीत की तैयारी कर ली थी।

जीत के बाद भारतीय टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री हैं खुश

मैच के तीसरे दिन बांग्लादेश ने अपनी दूसरी पारी के स्कोर 6 विकेट पर 152 रनों से आगे खेलना शुरू किया और मैच शुरू होने के पहले ही घंटे में बांग्लादेशी पारी 195 के स्कोर पर ढेर हो गई।

विराट कोहली

दो दिन और तीसरे दिन के कुछ ही ओवरों में जीत दर्ज करने के बाद भारतीय टीम ने पिछले 7 टेस्ट मैचों में 7वीं जीत हासिल की। इस जीत से भारतीय टीम के कोच रवि शास्त्री काफी प्रफुल्लित हैं।

गेंदबाजी में है जबरदस्त भूख

बांग्लादेश को पिंक बॉल टेस्ट में पटकने के बाद भारतीय टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री ने कहा कि

विराट कोहली

हम एक यूनिट के रूप में गेंदबाजी कर रहे हैं, ऐसे प्रोफेशनल तरीके से इन गेंदबाजों को गेंदबाजी करते हुए देख रहे हैं। उन्होंने पिछले 15 महीनों में विदेश में बहुत ज्यादा क्रिकेट खेली है और यहीं से वो सीखे हैं. अनुशानसन और भूख….। वे जानते हैं कि वे यकिनन दुनिया में सबसे अच्छी साइड हैं। वे कुछ समय के लिए रहे हैं और वो जानते हैं कि कोई छोड़ा रास्ता नहीं है। वो जानते हैं कि एक व्यक्ति से नहीं जीता जाता। जब आपके पास इस तरह की भीड़ होती है तो उनसे फीस ली जाती है।”

उन्हें(बांग्लादेश) जोखिम उठाने की जरूरत है, वे अपने देश में बहुत मजबूत हैं लेकिन जब वो टूर करते हैं तो सीखने की जरूरत है। जितना ज्यादा एक्सपोजर होगा उतना ही बेहतर होगा। विदेशों में अपने पेस अटैक में उन्हें और भी मजबूती की जरूरत है। अगर उनके पास ऐसा है तो वे बेहतर प्रतिस्पर्धी हो सकते हैं।”

Related posts