in ,

भारतीय गेंदबाजों की हमेशा धुनाई करते हैं शॉन मार्श, खुद देख लीजिये आंकडें

ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच खेले जा रहे वनडे सीरीज में दोनों ही टीमें 1-1 से बराबरी पर है। सीरीज का अंतिम और निर्णायक मुकाबला 18 जनवरी को मेलबर्न के मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर खेला जायेगा। इस सीरीज में कम अनुभवी होने के बावजूद ऑस्ट्रेलिया की टीम ने शानदार प्रदर्शन किया है। दोनों मैचों में उनके बल्लेबाजों ने भारतीय गेंदबाजों के सामने करीब 300 रन बना दिए।

शॉन मार्श की शानदार बल्लेबाजी

ऑस्ट्रेलिया की इस टीम में सबसे अनुभवी बल्लेबाज शॉन मार्श हैं। उन्होंने 2008 में ही वनडे डेब्यू किया था। मार्श ने दोनों ही मैचों में शानदार बल्लेबाजी की और अपनी टीम को बड़े स्कोर तक पहुंचाया।

सिडनी में हुए पहले मैच में उन्होंने 54 रनों की पारी खेल ऑस्ट्रेलिया के बड़े स्कोर की नींव रखी वहीं दूसरे मैच में उन्होंने शानदार 131 रनों की पारी खेली। यह उनका दूसरा सबसे बड़ा वनडे स्कोर भी था।

पिछले 5 मैचों में भारत के खिलाफ शानदार प्रदर्शन

शॉन सिर्फ इसी सीरीज में भारत के खिलाफ अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रहे। उससे पहले के तीन मैच देखें तो उसके दो में उन्होंने शानदार बल्लेबाजी की थी। ये तीनों मैच भारत के 2016 ऑस्ट्रेलिया दौरे पर खेले गये थे।

5 मैचों की उस सीरीज में मार्श को तीन ही मैच खेलने का मौका मिला और उन्होंने इसमें 71, 61 और 7 का स्कोर बनाया था। अंतिम मैच में भी वह बड़ा स्कोर बना सकते थे लेकिन रन आउट होकर पवेलियन लौटना पड़ा।

स्पिन गेंदबाजी के बेहतरीन बल्लेबाज

शॉन मार्श मुख्य रूप से सलामी बल्लेबाज हैं लेकिन वह स्पिन गेंदबाजी भी काफी अच्छी खेलते हैं। इसी वजह से ऑस्ट्रेलिया उन्हें इस सीरीज में नंबर 4 पर बल्लेबाजी करवा रही है और उन्हें इसका फायदा भी मिल रहा।

सिडनी और फिर एडिलेड में उन्होंने कुलदीप यादव और रविन्द्र जडेजा के खिलाफ अच्छी बल्लेबाजी की और जरूरत पड़ने पर बड़े शॉट भी खेले। ऑस्ट्रेलिया कोा अगर सीरीज पर कब्जा करना है तो मार्श को अंतिम मैच में भी ऐसी ही बल्लेबाजी करने पड़ेगी।

 

अगर आपको हमारा आर्टिकल पसंद आया, तो प्लीज इसे लाइक करें। अपने दोस्तों तक ये खबर सबसे पहले पहुंचाने के लिए शेयर करें और साथ ही अगर आप कोई सुझाव देना चाहते हैं, तो प्लीज कमेंट करें। अगर आपने अब तक हमारा पेज लाइक नहीं किया हैं, तो कृपया अभी लाइक करें, जिससे लेटेस्ट अपडेट हम आपको जल्दी पहुंचा सकें।