भारतीय टीम

मौजूदा समय में अगर विश्व की सबसे बेहतरीन ओपनिंग जोड़ी की बात की जाये, तो सबसे पहले स्थान पर शिखर धवन और रोहित शर्मा का ही नाम आएगा. इस बात को बिलकुल भी नहीं ठुकराया जा सकता हैं, कि शिखर धवन और रोहित शर्मा ने अकेले अपने दम पर भारतीय क्रिकेट टीम अनगिनत मुकाबलें जीताये हैं.

बहुत ही जल्द इंग्लैंड और वेल्स में आईसीसी एकदिवसीय विश्व कप का आगाज होने वाला हैं और तमाम भारतीय खेल प्रेमियों को इस बात की पूरी उम्मीद हैं, कि वर्ल्ड कप के दौरान भी धवन और रोहित की जोड़ी हर बार की तरह कामयाब सिद्ध होगी.

रोहित नहीं हैं मेरी बीवी 

रोहित मेरी बीवी थोड़े ही हैं, जो मैं हर समय उससे बात करता रहूँ : शिखर धवन 1

वर्ल्ड कप शुरू होने से पहले टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने आईएएनएस से खास बातचीत के दौरान विश्व कप से जुड़ी बातो का जवाब दिया. इतना ही नहीं जब धवन से रोहित शर्मा के साथ लगातार टच में रहने का सवाल किया गया तो शिखर ने अपने ही मस्तमौला अंदाज में जवाब देते हुए कहा, कि

”बातें करके क्या होगा… रोहित मेरी बीवी थोड़े ही हैं, जो मैं हमेशा उनसे बात करता रहूँ. बात करने से कुछ भी नया नहीं होगा. हम सालों से साथ खेलते आ रहे है और इस वजह से हमे एक दूसरे को समझने को भी जरूरत नहीं ह. आईपीएल में पृथ्वी शॉ के साथ भी यही बातें समान रही.”

नहीं रहने वाला दबाव 

Rohit-Dhawan ahead of Sachin-Sehwag

आईपीएल में दिल्ली कैपिटल्स के लिए खेलते हुए शिखर धवन के बल्ले से 521 रन निकले. जब शिखर से यह पूछा गया कि क्या आपके ऊपर विश्व कप का दबाव रहेगा, तो उन्होंने अपने जवाब में कहा

मैं इस तरह के इन्सान नहीं हूँ, जो दबाव महसूस करे. मैं अविचलित रहता हूँ. आलोचक अपना काम कर रहे हैं. अगर मैं 5-10 मैचों में अच्छा ना कर सका तो इसका मतलब यह नहीं हैं कि सब कुछ खत्म हो गया. मुझे पता हैं कि मैं क्या कर सकता हूँ…

ना तो मैं अख़बार पढ़ता हूँ और ना ही टीवी देखता हूँ, इसलिए मेरे ऊपर आलोचना का कोई असर नहीं होता. मैं सोशल मीडिया से भी दूर रहना पसंद करता हूँ और ट्विटर और इन्स्टाग्राम का भी कम ही उपयोग करता हूँ.”

दादा की हुई तारीफ 

रोहित मेरी बीवी थोड़े ही हैं, जो मैं हर समय उससे बात करता रहूँ : शिखर धवन 2

शिखर धवन ने अपने बयान में आगे दिल्ली कैपिटल्स की टीम के हेड कोच रिकी पोंटिंग और टीम के सलाहकार सौरव गांगुली की भी तारीफ की… धवन ने कहा

”रिकी पोंटिंग और दादा (सौरव गांगुली) दोनों अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कप्तान रहे हैं और दोनों ने चैंपियन खिलाड़ी तैयार किये हैं. दोनों की मौजूदगी से मुझे काफी कुछ सीखने को मिला. दोनों ने मुझे यह कहा कि मेरी तकनीक में कोई दिक्कत नहीं हैं.”

Akhil Gupta

Content Manager & Senior Writer at #Sportzwiki, An ardent cricket lover, Cricket Statistician.