निदहास ट्रॉफी के बाद 13 सौ प्रतिशत बढ़ी शिखर धवन की फीस,लेकिन इन दिग्गजों के

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

निदहास ट्रॉफी के बाद 13 सौ प्रतिशत बढ़ी शिखर धवन की फीस, लेकिन इन दिग्गजों के हाथ लगी निराशा 

निदहास ट्रॉफी के बाद 13 सौ प्रतिशत बढ़ी शिखर धवन की फीस, लेकिन इन दिग्गजों के हाथ लगी निराशा

हाल ही में भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने नई ग्रेड प्रणाली के जरिए कुछ उम्दा क्रिकेटरों को वेतन में वृद्धि की है। लेकिन इसके बावजूद मैच अंपायर,रेफरी और अन्य अधिकारियों को अभी भी वेतन वृद्धि का इंतजार है। हालांकि सात मार्च को नए पेय स्केल के बाद घरेलू क्रिकेटरों के मैच फीस में काफी इजाफा हो गया है। जो क्रिकेटर पहले घरेलू टीम में प्लेइंग इलेवन में खेलते थे वो अब 10 से 3.5 लाख प्रतिदिन पा रहे हैं। इस मामले में सबसे ज्यादा मुनाफा शिखर धवन का हुआ है।

13 सौ फीसदी बढ़ी शिखर की कमाई

निदहास ट्रॉफी के बाद 13 सौ प्रतिशत बढ़ी शिखर धवन की फीस, लेकिन इन दिग्गजों के हाथ लगी निराशा 1

बीसीसीआई के नए फैसले से सबसे अधिक फायदा धुरांधार बल्लेबाज शिखर धवन को हुआ है। बता दें कि पहले शिखर 50 लाख वार्षिक अनुबंध के साथ ग्रेड सी में शामिल थे। लेकिन हाल ही में विनोद राय की अध्यक्षता वाली अनुशासक समति ने ग्रेड ए प्लस का गठन किया है,जिसमें पांच खिलाड़ियों की जगह दी गई है। इन्हीं में से एक हैं शिखर धवन। शिखर धवन को अब सलाना सात करोड़ रुपये का भुगतान किया जाएगा।

महिला क्रिकेट टीम को भी हुआ फायदा

निदहास ट्रॉफी के बाद 13 सौ प्रतिशत बढ़ी शिखर धवन की फीस, लेकिन इन दिग्गजों के हाथ लगी निराशा 2

नए केंद्रीय अनुबंध का फायदा भारतीय महिला क्रिकेट टीम को भी हुआ है। पुराने अनुबंध के मुताबिक महिला क्रिकेटरों को 10 लाख वार्षिक अनुबंध में रखा गया था, लेकिन नए अनुंबध में इसे बढ़ाकर 50 लाख रूपये सालाना कर दिया गया। टीम को सदस्य और प्रबंधन से परामर्श के बाद इसकी घोषणा बीसीसीआई की अनुशासक समिति ने की।

इन दिग्गजों के हाथ लगी मायूसी

निदहास ट्रॉफी के बाद 13 सौ प्रतिशत बढ़ी शिखर धवन की फीस, लेकिन इन दिग्गजों के हाथ लगी निराशा 3

प्रत्येक मैच में क्रिकेटरों के आलावा कुछ ऐसे लोग भी होते हैं जो मैच को सफल बनाते हैं। जैसे की अंपायर,रेफरी,स्कोरर,वीडियो विश्वलेषक आदि। लेकिन इस सभी मैच अधिकारियों के हाथ मायूषी लगी है।

नए पेय स्केल में इन सभी को जगह नहीं दी गई है। अंतिम बार इनके वेतन में वृद्धि साल 2007 में हुई थी। हालांकि आधिकारियों के वेतन का भुगतान 2012 के वेतनमान के आधार पर किया जा रहा है।

इस वेतनमान के अनुसार आईसीसी के पूर्व अंपायर और कुछ शीर्ष अंपायरों को प्रतिदिन 20000 रूपये का भुगतान किया जाता है। वहीं दूसरे दर्जे के अंपायरों को प्रतिदिन 15000 रुपये बतौर फीस मिलते हैं।

मैच रेफरी को भी 15000 रुपये का भुगतान किया जाता है। वहीं स्कोर को प्रति मैच 5 हजार रुपये मिलते हैं। टी-20 मैचों में ये फीस आधी हो जाती है।

100 अंपायर हैं बीसीसीआई के पैनल में

निदहास ट्रॉफी के बाद 13 सौ प्रतिशत बढ़ी शिखर धवन की फीस, लेकिन इन दिग्गजों के हाथ लगी निराशा 4

 

मौजूदा समय में बीसीसीआई के पैनल में 100 अंपायर शामिल हैं। इनमें से 20 अंपायर विशेष पैनल में हैं,जिन्हें रोजाना 20000 रुपये वेतन के तौर पर मिलते हैं। हालांकि आमतौर पर एक सीजन में अंपायर को 35 से 50 दिन के बीच ही काम होता है।

Related posts

Leave a Reply