शिवम दुबे ने बताया तीसरे मैच के दौरान रोहित शर्मा ने सबको बुलाकर डांटते हुए कही थी ये बात 1

बांग्लादेश के खिलाफ टी-20 सीरीज में शिवम दुबे भारतीय टीम का हिस्सा थे। हार्दिक पांड्या की चोट की वजह से दुबे को टीम में जगह मिली थी। पहले दो मैच में वह कुछ खास नहीं कर पाए लेकिन अंतिम मैच में मुश्किल समय में तीन विकेट लेकर टीम को जीत दिलाई। इसमें रहीम और मोहम्मद नईम के विकेट भी शामिल थे।

डेब्यू का दबाव था?

शिवम दुबे ने बताया तीसरे मैच के दौरान रोहित शर्मा ने सबको बुलाकर डांटते हुए कही थी ये बात 2

शिवम दुबे को दिल्ली में हुए पहले मैच में डेब्यू का मौका मिला। इस मैच में गेंद और बल्ले से वह कुछ खास नहीं कर पाए। मैच से पहले हर खिलाड़ी दबाव महसूस करता है। इस बारे में इंडियन एक्सप्रेस को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा

“मैं इसे भारत के लिए खेलने का दबाव कहूंगा। लेकिन सपोर्ट स्टाफ ने समझाया और यह सुनिश्चित किया कि मैं उस दबाव को महसूस न करूं। उन्होंने मेरा समर्थन किया, रवि (शास्त्री) आए और कहा कि दबाव मत लो, बस अपना खेल खेलो। उन्होंने मुझे बताया कि एक टी 20 खेल में सबको पड़ती है। जब यह आपका दिन होगा, तो आप अच्छा करेंगे लेकिन महत्वपूर्ण बात यह है कि जब यह आपका दिन न हो तो इसे कैसे निकलते हैं।”

शिवम दुबे ने बताया तीसरे मैच के दौरान रोहित शर्मा ने सबको बुलाकर डांटते हुए कही थी ये बात 3

रोहित शर्मा ने क्या कहा?

शिवम दुबे ने बताया तीसरे मैच के दौरान रोहित शर्मा ने सबको बुलाकर डांटते हुए कही थी ये बात 4

नागपुर में बांग्लादेश के खिलाफ सीरीज के अंतिम मैच में भारतीय टीम हार की तरफ बढ़ रही थी। इसके बाद रोहित शर्मा ने खिलाड़ियों को बुलाकर उनसे बात की। इसके बाद मैच का रुख पूरी तरह बदल गया। शिवम दुबे ने इसपर कहा

“हमने विकेट लिया था और रोहित भाई हमारी शारीरिक भाषा से खुश नहीं थे। उन्होंने हमसे कहा कि हम मैदान पर और अधिक प्रयास करें और हम यहां से खेल को बदल सकते हैं। उसने हमें प्रोत्साहित किया।”

शिवम दुबे अपने प्रदर्शन से खुश हैं?

शिवम दुबे ने बताया तीसरे मैच के दौरान रोहित शर्मा ने सबको बुलाकर डांटते हुए कही थी ये बात 5

शिवम दुबे के लिए पहले दो मैच खास नहीं रहे थे। तीसरे मैच में गेंदबाजी में उन्होंने कमाल किया लेकिन अभी भी अपने प्रदर्शन से संतुष्ट नहीं हैं। इस बारे में सवाल पूछे जाने पर उन्होंने कहा

“मुझे खुशी है कि हमने सीरीज जीती, लेकिन मैं संतुष्ट नहीं हूं क्योंकि मुझे लगता है कि मेरा प्रदर्शन बेहतर हो सकता था। यह एक सीखने की प्रक्रिया है, हर मैच पिछले से बेहतर करने की कोशिश की है।”