शोएब अख्तर ने कहा हम घास खा लेंगे, लेकिन पाकिस्तानी सेना का बजट बढ़ाएंगे 1

दुनिया के दिग्गज तेज गेंदबाजों में शुमार पाकिस्तान के पूर्व पेसर शोएब अख्तर को अपने समय में क्रिकेट के मैदान पर आक्रामक गेंदबाजी करने के लिए जाना जाता था, लेकिन अब मैदान के बाहर भी शोएब अख्तर आक्रामक नजर आ रहे हैं. शोएब अख्तर ने हाल ही में अपने देश की आर्मी से जुदा बयान दिया है. अपने इस बयान में शोएब अख्तर ने कहा है कि वह घास खाने के लिए तैयार हैं, लेकिन इससे उनके देश की सेना के बजट में बढ़ोत्तरी होनी चाहिए.

हम घास खा लेंगे, लेकिन पाकिस्तानी सेना का बजट बढ़ाएंगे

शोएब अख्तर ने कहा हम घास खा लेंगे, लेकिन पाकिस्तानी सेना का बजट बढ़ाएंगे 2

पाकिस्तानी चैनल एआरवाई न्यूज को दिए इंटरव्यू में शोएब अख्तर ने पाकिस्तान आर्मी का मुद्दा उठाया है. इस दौरान शोएब अख्तर ने कहा,

“अगर अल्लाह ने मुझे कभी अधिकार दिया तो मैं खुद घास खाऊंगा, लेकिन सेना का बजट बढ़ा दूंगा.”

क्रिकेट के इतिहास में सबसे तेज गेंद फेंकने वाले अख्तर ने कहा कि उन्हें समझ नहीं आता कि असैन्य क्षेत्र सशस्त्र बलों के साथ मिलकर काम क्यों नहीं कर सकता.

60 फीसदी कर दूंगा पाक का रक्षा बजट

अख्तर

शोएब अख्तर ने कहा हम घास खा लेंगे, लेकिन पाकिस्तानी सेना का बजट बढ़ाएंगे 3

रावलपिंडी एक्सप्रेस‘ के नाम से फेमस शोएब अख्तर ने अपना रक्षा बजट 20 फीसदी से बढ़ाकर 60 फीसदी करने की भी भी बात की. इसी विषय पर बात करते हुए अख्तर ने कहा है,

“मैं अपने सेना प्रमुख को मेरे साथ बैठने और निर्णय लेने के लिए कहूंगा. अगर बजट 20 फीसदी है, तो मैं इसे 60 फीसदी कर दूंगा. अगर हम एक-दूसरे का अपमान करते हैं, तो नुकसान हमारा ही है. कारगिल के वक्त मैं अपने देश के लिए गोली खाने के लिए भी तैयार था.”

आपको बता दें कि, इससे पहले शोएब अख्तर ने दावा किया था कि उन्होंने नॉटिंघमशायर के लिए काउंटी क्रिकेट खेलने के लिए 175,000 पाउंड के अनुबंध को ठुकरा दिया था ताकि वह कारगिल युद्ध में लड़ सकें. भारत और पाकिस्तान की सेना के बीच साल 1999 में कारगिल युद्ध हुआ था.

ऐसा था शोएब अख्तर का क्रिकेट करियर

शोएब अख्तर ने कहा हम घास खा लेंगे, लेकिन पाकिस्तानी सेना का बजट बढ़ाएंगे 4

अपने क्रिकेट करियर में शोएब अख्तर ने 46 टेस्ट मैच और 163 वनडे खेले. उनके नाम 178 टेस्ट विकेट और 247 वनडे विकेट रहे. टेस्ट में उन्होंने 12 बार 5 विकेट लिए और दो टेस्ट में दोनों पारियों में कुल 10 विकेट लेने का कारनामा भी किया. शोएब के नाम ही क्रिकेट इतिहास की सबसे तेज गेंद फेंकने का रिकॉर्ड रहा है.

उनकी गेंद से कई बल्लेबाज भी चोटिल हो चुके हैं. वे ज्यादातर चोट या विवादों  के कारण टीम से बाहर रहे. उन्हें एक बार अपने एक्शन में भी सुधार करना पड़ा और वह एक बार ड्रग्स लेने के विवाद में भी फंस गए थे.