Shreyas Iyer Team India Dinesh Kartik virat kohli

Shreyas Iyer: भारत और बांग्लादेश के बीच मीरपुर मे दूसरे एकदिवसीय मैच ने कईयो के सोचने पर मजबूर कर दिया वहीं कई खिलाड़ी के प्रदर्शन से उनके आगामी करियर पर खतरे के बादल मडराने लगे है। इसी बीच एक खिलाड़ी ने अपने प्रदर्शन से प्रशंसकों के बीच अपनी नामों को उछालना शुरू कर दिया है।

डूबती नैया के खेवैया बनते नजर आए ये खिलाड़ी

दूसरे वनडे मे जब टीम इंडिया की नैया डूबती नजर आ रही थी तभी इस खिलाड़ी ने अपने जिम्मेदारी की बागडोर को संभाला और अपने आप को साबित किया जिससे दिनेश कार्तिक भी प्रशंसा करते नजर आए। हम बात कर रहे है टीम इंडिया के उभरते सितारे श्रेयस अय्यर  जिन्होंने अपने बेहतरीन प्रदर्शन से टीम इंडिया को जीत के करीब ले जाने की कोशिश की। श्रेयस अय्यर (Shreyas Iyer) ने दूसरी मैच मे अपनी पारी को जिम्मेदारीपूर्ण और 80.39 के स्ट्राइक रेट से 82 रन बनाए और टीम को जीत के नजदीक ले गए।

क्रिकबज़ से बात करते हुए दिनेश कार्तिक ने कहा कि “मेरे हिसाब से श्रेयस अय्यर (Shreyas Iyer) ने जिस तरह से लगातार खेला है वो काफी शानदार है। इसी साल वो 700 से ज्यादा रन बना चुके हैं और आप देख सकते हैं कि वो कितने कॉन्फिडेंट हैं। वो शुरूआत में कुछ गेंदें जरूर लेते हैं लेकिन उसके बाद अटैकिंग शॉट खेलना शुरू करते हैं।”

इस कड़ी मे आगे अपनी बातों जोड़ते हुए कार्तिक ने कहा कि,  वो स्पिनर्स को काफी अच्छी तरह से खेलते हैं और अच्छी बात ये है कि जब भी वो बल्लेबाजी के लिए आते हैं गेंदबाज छोटी गेंद डालकर उनका इम्तिहान जरूर लेते हैं लेकिन वो हर समय बेहतर होकर निकलते हैं। हालांकि अगर आपको विराट कोहली जैसा बड़ा नाम कमाना है तो फिर 120-130 नाबाद रन बनाने होंगे और टीम को मैच जिताकर आना होगा ” 

प्रशंसाओ के बीच श्रेयस अय्यर (Shreyas Iyer) का करियर ग्राफ

पिछले कई मैचों मे अय्यर (Shreyas Iyer) के बेहतरीन प्रदर्शन से कई पूर्व खिलाड़ी इनकी प्रशंसा कर चुके है और इन्होंने अपने अधिकतर मैचों मे अपने आप को पिच पर साबित किया है वो भी तब जब इनकी टीम के शुरुआती दीवार ढह चुकी होती है। अब तक अय्यर (Shreyas Iyer) ने अपने करियर मे कुल 38 मैचों मे 1534 रन बनाए है। जिसमे दो शतक और 14 अर्धशतक शामिल है। वहीं टेस्ट क्रिकेट मे पाँच मैच खेले है जिसमे अपने बेहतरीन प्रदर्शन से 422 रन बनाए है।

इतने पूर्व खिलाड़ियों के प्रशंसाओ से जाहिर है कि इनका मनोबल काफी ऊपर गया होगा और इनके बल्लेबाजी के धार और भी तेज होगी, अब इनका प्रदर्शन ही बताएगा की ये लोगों और चयनकर्ताओ के विश्वास पर कहे उतरते है या नहीं।