संजू सैमसन

कहते हैं कि एक पुरुष की कामयाबी के पीछे किसी महिला का हाथ होता है। ठीक उसी तरह एक क्रिकेटर के पीछे कई लोगों का त्याग छुपा होता है। अब वो त्याग भाई या मां का हो सकता है या फिर पिता या बहन का भी हो सकता है। जिस तरह मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के महान क्रिकेटर बनने में उनके बड़े भाई अजीत तेंदुलकर का बहुत बड़ा योगदान रहा है। ठीक उसी तरह आज हम आईपीएल (IPL) में खेलने वाले एक ऐसे युवा खिलाड़ी के बारे में बात करेंगे, जिनके लिए उनके पिता ने अपनी पुलिस की नौकरी भी छोड़ दी थी।

13 वर्ष की उम्र में किया क्रिकेट में पदार्पण

संजू सैमसन

आज हम जिस खिलाड़ी की बात करने जा रहे हैं, उसने सिर्फ 13 साल की उम्र में ही पदार्पण कर लिया था। जी हाँ, हम बात कर रहे हैं आईपीएल (IPL) टीम राजस्थान रॉयल्स (Rajasthan Royals) के कप्तान संजू सैमसन (Sanju Samson) की आपको बता दें कि संजू दिल्ली में पढ़ते थे और दिल्ली की अंडर-13 टीम के लिए ट्रायल भी दिया था, लेकिन उन्हें नहीं चुना गया।

इसके बाद उनके पिता जो दिल्ली पुलिस में कांस्टेबल थे, उन्होंने अपनी नौकरी छोड़ दी और परिवार को लेकर केरल चले आए। वैसे आपको बता दें कि संजू सैमसन के पिता विश्वनाथ सैमसन ने दिल्ली के लिए फुटबाल खेला भी है और कोच भी रह चुके हैं। केरल आने के बाद संजू को केरल की अंडर-13 टीम में चुन लिया गया। यही नहीं सिर्फ 15 साल की उम्र में ही वो केरल की रणजी टीम में चुन लिए गए थे।

2015 में किया अंतरराष्ट्रीय पदार्पण

संजू सैमसन IPL

घरेलु क्रिकेट में अपने शानदार खेल से सभी को प्रेरित करने वाले संजू सैमसन को 2014 में इंग्लैंड गई भारतीय टीम में अतिरिक्त विकेटकीपर बल्लेबाज के रूप में शामिल किया गया। हालांकि उन्हें खेलने का मौका नहीं मिला। इसके बाद संजू को हरारे में जिम्बाम्बे के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय टी20 में पदार्पण करने का मौका मिला, उस वक्त वो सिर्फ 21 साल के थे।

इतना ही नहीं घरेलू क्रिकेट में लगातार अच्छा प्रदर्शन करने का फायदा उन्हें मिला और 2012 में आईपीएल (IPL) टीम कोलकाता नाईट राईडर्स ने उन्हें खरीद लिया। उस सीजन को तो संजू ने बेंच पर बैठ कर ही बिता दिया। लेकिन, 2013 में उनकी किस्मत चमकी और राजस्थान रॉयल्स ने उन्हें अपनी टीम में शामिल कर खेलने का मौका दिया।

अब हैं राजस्थान के कप्तान

संजू सैमसन IPL

संजू सैमसन 8 सालों से आईपीएल (IPL) का हिस्सा हैं। 2013 से लेकर 2015 तक वो राजस्थान रॉयल्स के लिए 28 मैच खेले, इस दौरान उनकी बल्ले से 4 अर्धशतक और 749 रन निकले। इसके बाद 2016 में जब राजस्थान आईपीएल का हिस्सा नहीं थी, तब संजू को दिल्ली डेयरडेविल्स ने 4 करोड़ 20 लाख में खरीद लिया। उस साल दिल्ली के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में संजू (291) तीसरे नम्बर पर रहे।

साल दर साल उनके खेल में और सुधर होता गया। अब तो आलम यह है कि पिछले कुछ सालों से सैमसन राजस्थान रॉयल्स के मुख्य खिलाड़ियों में से एक हैं। आईपीएल (IPL) में संजू के नाम 2 शतक और 13 अर्धशतक दर्ज हैं। ये उनके खेल का ही परिणाम है कि आइपीएल के 14वें संस्करण में राजस्थान रॉयल्स ने संजू सैमसन को अपना कप्तान बनाया है।