आईसीसी
Former Indian cricketer and current BCCI (Board Of Control for Cricket in India) president Sourav Ganguly reacts during a press conference at the BCCI headquarters in Mumbai, India, October 23, 2019. REUTERS/Francis Mascarenhas

इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल यानि आईसीसी के चैयरमैन के पद से शशांक मनोहर ने बुधवार को इस्तीफा दे दिया है।  भारत के शशांक मनोहर पिछले कुछ साल से आईसीसी के चैयरमैन के पद पर आसीन थे। जिन्होंने इस पद पर दो बार अपने कार्यकाल को पूरा किया जिसके बाद अब उन्होंने इस पद से बाय-बाय कर दिया है।

आईसीसी के चैयरमैन के पद पर हैं कई दिग्गज दावेदार

शशांक मनोहर के चैयरमैन पद से इस्तीफें के बाद अब आईसीसी के इस अहम पद के लिए चुनाव किया जाएगा। फिलहाल तो डिप्टी चैयरमैन इमरान ख्वाजा चैयरमैन के पद को संभालेंगे जो चुनाव होने और नए चैयरमैन मिलने तक इस जिम्मेदारी पर बने रहेंगे।

शशांक मनोहर

आईसीसी अब चैयरमैन के पद के लिए चुनाव कराएगा जिसकी कुछ ही समय में घोषणा कर दी जाएगी। जहां तक आईसीसी के नए चैयरमैन का सवाल है इस पद पर कई लोग दावेदार हैं।

सौरव गांगुली को माना जा रहा है चैयरमैन पद के लिए सबसे प्रबल दावेदार

इन दावेदारों में सबसे ज्यादा नजरें बीसीसीआई के मौजूदा अध्यक्ष सौरव गांगुली पर हैं। सौरव गांगुली फिलहाल बीसीसीआई के अध्यक्ष हैं उन्होंने एक जबरदस्त प्रशासक की क्षमता दिखायी है इसी कारण से गांगुली सबसे ज्यादा इस पद के दावेदार माने जा रहे हैं। इसके अलावा उन्हें सबसे ज्यादा चुनौती ईसीबी के पूर्व चैयरमैन कोलिन ग्रेव्स से मिलेगी।

बीसीसीआई

अगर सौरव गांगुली इस पद के लिए अपना नाम आगे बढ़ाते हैं तो उनका बनना ज्यादा संभावित है. क्योंकि उन्हें क्रिकेट के कई दिग्गज सौरव गांगुली के पक्ष में अपना बयान दे चुके हैं जिनका साफ मानना है कि आईसीसी को इस आर्थिक संकट की घड़ी में सौरव गांगुली जैसा क्रिकेट प्रशासक ही उबार सकता है।

बीसीसीआई के साथ सौरव गांगुली का ऐसे हो रहा है 31 जुलाई को कार्यकाल खत्म

सौरव गांगुली के अलावा इस पद के लिए बात करें तो ईसीबी के पूर्व चैयरमैन कोलिन ग्रेव्स के साथ ही वेस्टइंडीज के डेव कैमरन, न्यूजीलैंड के ग्रेगोर बार्कले, दक्षिण अफ्रीका के क्रिस नेनजानी भी इस पद के लिए अपना दावा ठोक रहे हैं।

सौरव गांगुली

बीसीसीआई और राज्य क्रिकेट संघ से सौरव गांगुली पिछले 6 साल से जुड़े हैं। और बीसीसीआई के संविधान के नियमों के अनुसार सौरव गांगुली का कार्यकाल 31 जुलाई को खत्म हो रहा है। मामला सुप्रीम कोर्ट में है। जहां फैसला होगा कि कूलिंग ऑफ पीरियड में गांगुली को बीसीसीआई के साथ आगे मौका मिलेगा या नहीं।