बेटी के सीएए पर की गई पोस्टको लेकर सौरव गांगुली ने कही बात

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

सना को इससे दूर रखें: सौरव गांगुली ने CAA विरोध पर किया अपनी बेटी का बचाव 

सना को इससे दूर रखें: सौरव गांगुली ने CAA विरोध पर किया अपनी बेटी का बचाव

भारत सरकार ने पिछले ही दिनों देश की संसद भवन के दोनों ही सदनों में नागरिकता संशोधन बिल पारित किया। नागरिकता संशोधन बिल के पारित होने के बाद अब एक साथ ही देश के कई हिस्सों में इसका जोरदार विरोध प्रदर्शन हो रहा है। जिससे एक बड़ा विवाद खड़ा होता नजर आ रहा है।

सौरव गांगुली की बेटी ने किया था सीएए का विरोध

नागरिकता संशोधन बिल के पास होना का विरोध पश्चिम बंगाल में भी पूरी तरह से चरम पर हैं। जहां कई लोग और संघठन सड़कों पर उतर आए हैं और इस बिल को वापस लेने की मांग कर रहे हैं। इसी तरह से इस विरोध की ज्वाला में बीसीसीआई के अध्यक्ष सौरव गांगुली की बेटी का नाम भी सामने आया है।

सना को इससे दूर रखें: सौरव गांगुली ने CAA विरोध पर किया अपनी बेटी का बचाव 1

कोलकाता के रहने वाले सौरव गांगुली की बेटी सना की तरफ से भी नागरिकता संशोधन बिल का विरोध देखने को मिला है जो उनके इंस्टाग्राम अकाउंट पर पोस्ट किया गया है। ये इस्टाग्राम पोस्ट का स्क्रीन शॉट देखते ही देखते वायरल हो गया है। जिसमें सीएए के प्रति विरोध जताया गया था।

सौरव गांगुली ने अब बेटी को लेकर दी सफाई

लेकिन भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और बीसीसीआई के मौजूदा अध्यक्ष सौरव गांगुली ने अपनी बेटी सना के इस पोस्ट पर सफाई देते हुए साफ शब्दों में कहा कि इन चीजों से उनकी बेटी को दूर रखा जाए क्योंकि वो अभी बहुत छोटी है। इस पोस्ट को झूठा करार दिया।

सौरव गांगुली ने ट्विट कर अपनी बेटी की पोस्ट को लेकर सफाई देते हुए लिखा कि “ कृपया सना को इन मुद्दों से दूर रखें। ये पोस्ट सच नहीं है। राजनीति के बारे में कुछ भी जानने के लिए वो अभी बहुत छोटी लड़की है।

सौरव गांगुली की बेटी के अकाउंट से किया गया था ये पोस्ट

नागरिकता कानून के विरोध में उनके इंस्टाग्राम अकाउंट से पोस्ट किया गया था। लेकिन इसे कुछ देर के बाद हटा दिया गया। जिसमें सना गांगुली ने संघ पर निशाना साधा था। जिसके बाद सौरव गांगुली ने आगे आकर इस पोस्ट को गलत बनाकर अपनी बेटी का बचाव किया।

सना को इससे दूर रखें: सौरव गांगुली ने CAA विरोध पर किया अपनी बेटी का बचाव 2

इस पोस्ट में लिखा था कि “नफरत के आधार पर शुरू हुआ ये आंदोलन, भय और संघर्ष। के माहौल के बने रहने तक ही चलता है। आज के समय में जो ये सोचकर खुद को महफूज मान रहे हैं कि वो मुसलमान नहीं हैं। वो मूर्खों क दुनिया में हैं।”

 

Related posts