सौरव गांगुली ने बताया, कैसे पाकिस्तान के सुरक्षा कर्मियों को चकमा देकर पहुंच गए थे कवाब खाने

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

सौरव गांगुली ने बताया पाकिस्तानी कवाब के लिए पहली बार तोड़े थे नियम, किया था कुछ ऐसा 

सौरव गांगुली ने बताया पाकिस्तानी कवाब के लिए पहली बार तोड़े थे नियम, किया था कुछ ऐसा

भारत ने साल 2004 में पाकिस्तान का दौरा किया था. इस दौरे में भारत ने टेस्ट और वनडे दोनों ही सीरीज को अपने नाम किया था. इस दौरे में भारतीय टीम की कप्तानी सौरव गांगुली ने की थी. इसी बीच उन्होंने उस दौरे से जुड़ा एक किस्सा बताया है. जब वह सुरक्षाकर्मियों को चकमा देकर कवाब खाने पहुंच गए थे.

सुरक्षा व्यवस्था से आ गया था तंग

सौरव गांगुली ने बताया पाकिस्तानी कवाब के लिए पहली बार तोड़े थे नियम, किया था कुछ ऐसा 1

सौरव गांगुली ने इंडिया टुडे को दिए गए अपने एक बयान में कहा, “मैं वास्तव में पाकिस्तानी की जरुरत से ज्यादा सुरक्षा व्यवस्था से तंग आ गया था. मैं जब पहले दिन होटल के कमरे से बाहर गया था, तो देखा सामने दो लोग एके -47 के साथ खड़े थे.

एक दरवाजे की ओर देख रहा था और एक दूसरी तरफ देख रहा था, इसलिए मैं होटल के प्रबंधक के पास गया और उससे कहा कि हम यहां 45 दिनों के लिए हैं, आप कमरे के सामने से सुरक्षा हटा दें और उन्हें लॉबी में भेज दें, क्योंकि हम रोज सुबह उठकर किसी को यहां एके -47 के साथ खड़े नहीं देख सकते हैं. कभी कोई गोली चल गई तो क्या होगा.”

रोड साइड कवाब खाने था पहुंचा

सौरव गांगुली ने बताया पाकिस्तानी कवाब के लिए पहली बार तोड़े थे नियम, किया था कुछ ऐसा 2

सौरव गांगुली ने रोड साइड कवाब खान का किस्सा बताते हुए कहा, “एक दिन मैं भोजन करने के लिए बाहर गया था और मैंने सुरक्षाकर्मियों को सूचित नहीं किया था और मैं अपनी एक टोपी लगाकर रोड साइड कवाब खा रहा था. वहां हमारे प्रिय मित्र राजदीप सरदेसाई ने मुझे पकड़ लिया था और कहा कि भारतीय कप्तान सड़क पर कवाब खा रहे हैं.”

सुरक्षा के चलते दूसरी और चौथी मंजिल में कोई नहीं था ठहरा

सौरव गांगुली ने बताया पाकिस्तानी कवाब के लिए पहली बार तोड़े थे नियम, किया था कुछ ऐसा 3

सौरव गांगुली ने आगे पाकिस्तान की सुरक्षा को लेकर अपने बयान में कहा, “कराची एयरपोर्ट से बाहर आकर होटल की ओर गाड़ी चल रही थी. पूरी सड़क बंद थी और यह एक अच्छा 10 किलोमीटर की ड्राइव थी. मुख्य सड़क पर जाने वाले हर साइड रोड को ब्लॉक कर दिया गया था. 

हर तरफ सुरक्षाकर्मी, मिलिट्री और टाइगर्स थे जो हर नुक्कड़ और कोने में दिखते थे. हम कराची में जिस होटल में ठहरे थे, मुझे लगता है कि यह तीसरी मंजिल पर था, इसलिए किसी भी मेहमान को दूसरी और चौथी मंजिल नहीं दी गई थी.”

Related posts