युवराज को नहीं मिलेगा भारतीय टीम में वापसी का मौका: सौरव गांगुली

SAGAR MHATRE / 19 December 2015

भारतीय पूर्व कप्तान सौरव गांगुली को ऐसा लगता है कि, युवराज सिंह को भारतीय टीम में जगह मिलना मुश्किल है.

गांगुली ने यह भी कहा कि, युवराज को शायद कभी भी भारतीय टीम में मौका नहीं मिल सकता.

युवराज ने भारत के लिए अपना आखिरी मैच पिछले साल टी ट्वेंटी विश्वकप में खेला था. इस साल युवराज ने रणजी और विजय हजारे ट्रॉफी में शानदार प्रदर्शन किया है.

गांगुली ने कहा, युवराज ने शानदार प्रदर्शन किया है, लेकिन चयनकर्ताओं ने उन्हें 2015 विश्वकप के लिए नहीं चुना था, तो अब अॉस्ट्रेलियाई दौरे पर उनको मौका देना मुश्किल लग रहा है. मै युवराज की बल्लेबाजी का चहेता हू.

युवराज ने अपना पदार्पण 2000 में गांगुली की कप्तानी में किया था. लेकिन गांगुली को लगता है कि, चयनकर्ताओं को उन पर विश्वास नहीं है.

युवराज ने पंजाब के लिए शानदार प्रदर्शन किया है, और कई मैच जिताये है. लेकिन गांगुली को लगता है कि, चयनकर्ता गेंदबाज को चुनेंगे.

 

गांगुली ने कहा, भारतीय टीम के लिए बल्लेबाजी से ज्यादा गेंदबाजी  महत्वपूर्ण मुद्दा है . चयनकर्ता गेंदबाज को चुनने पर ज्यादा ध्यान दे सकते है.

गांगुली ने कहा, भारत को अॉस्ट्रेलियाई दौरे पर दों स्पिनरों के साथ जाना चाहिए, और अक्षर पटेल को भी मौका मिलना चाहिए. उन्होंने कहा, रविंद्र जडेजा ने टेस्ट क्रिकेट में शानदार वापसी की है, लेकिन उनका रिकॉर्ड अॉस्ट्रेलिया में अच्छा नहीं है, और रवीचन्द्र अश्विन के साथ अक्षर पटेल को ही अॉस्ट्रेलिया भेजना चाहिए.

तेज गेंदबाजी पर गांगुली ने कहा, उमेश यादव का मौका सबसे पहले बनता है. और मै चाहुंगा कि, अशोक डिंडा जैसे गेंदबाज को मौका मिलना चाहिए, जो प्रथम श्रेणी क्रिकेट में लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे है. उन्होंने कहा, मोहित शर्मा और भुवनेश्वर कुमार में से किसी एक को मौका मिलना चाहिए.

गांगुली ने कहा, धोनी पर काफी दबाव होगा अच्छा करने का, लेकिन मुझे लगता है कि, टी ट्वेंटी विश्वकप तक उन पर कोई अंगुली नहीं उठायेगा.

गांगुली ने आखिर में कहा, धोनी को आखिरी मौका मिलेगा, और मुझे लगता है की, टी ट्वेंटी विश्वकप के बाद, धोनी की जगह कोहली को मौका मिलना चाहिए, और 2019 के विश्वकप के लिए नयी टीम तैयार करनी होगी.

Related Topics