सौरव गांगुली के नाम दर्ज है ऐसा रिकॉर्ड जिसे अभी तक नहीं तोड़ पाया कोई भी खिलाड़ी

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

21 साल से सौरव गांगुली के नाम दर्ज है ऐसा रिकॉर्ड जिसे अभी तक नहीं तोड़ पाया कोई भी खिलाड़ी 

21 साल से सौरव गांगुली के नाम दर्ज है ऐसा रिकॉर्ड जिसे अभी तक नहीं तोड़ पाया कोई भी खिलाड़ी

क्रिकेट का क्रेज़ आज के समय में बहुत ज्यादा बढ़ गया है. इसमें कई दिग्गजों ने अपने नाम दर्ज किये हैं. साथ ही ऐसे भी कई खिलाड़ी हैं जिनके नाम शानदार रिकॉर्ड दर्ज हैं, जिन्हें कोई भी खिलाड़ी तोड़ पाने में नाकामयाब साबित हो रहे हैं. इसमें सिर्फ भारतीय टीम के खिलाड़ी ही नहीं बल्कि विदेशों के खिलाड़ी भी शामिल हैं.

21 साल से सौरव गांगुली के नाम दर्ज है ऐसा रिकॉर्ड जिसे अभी तक नहीं तोड़ पाया कोई भी खिलाड़ी 1

चार बार बने ‘मैन ऑफ़ द मैच’ 

21 साल से सौरव गांगुली के नाम दर्ज है ऐसा रिकॉर्ड जिसे अभी तक नहीं तोड़ पाया कोई भी खिलाड़ी 2

ऐसा ही एक रिकाॅर्ड भारतीय टीम के पूर्व कप्तान साैरव गांगुली के नाम भी दर्ज है. यह रिकाॅर्ड है लगातार सबसे ज्यादा बार ‘मैन आॅफ द मैच’ अवाॅर्ड हासिल करने का. पाकिस्तान के खिलाफ 1997 को टोरेंटो में हुई वनडे सीरीज के दौरान गांगुली ने लगातार चार बार ‘मैन आॅफ द मैच’ अवार्ड अपने नाम किया था.

उनके इस प्रदर्शन से उन्हें ‘मैन आॅफ द सीरीज’ अवार्ड भी मिला. गांगुली का यह रिकाॅर्ड अभी भी कोई नहीं तोड़ पाया. गांगुली के बाद मोहिंदर अमरनाथ ने 1983 में इंग्लैंड, वेस्टइंडीज और पाकिस्तान के खिलाफ लगातार तीन मैचों में ‘मैन ऑफ द मैच’ खिताब जीते थे.

पहला और दूसरा मैच (जीत)

21 साल से सौरव गांगुली के नाम दर्ज है ऐसा रिकॉर्ड जिसे अभी तक नहीं तोड़ पाया कोई भी खिलाड़ी 3

भारत और पाकिस्तान के बीच हुई इस सीरीज का पहला मैच इंडिया ने 20 रनों से जीत लिया था, लेकिन उसमें मैन ऑफ द मैच का खिताब अजय जडेजा को 49 रन बनाने के बाद मिला था. हालांकि इस मैच में गांगुली 17 रन ही बना पाए थे, लेकिन बॉलिंग में उन्होंने 2 विकेट झटके थे.

इसके अगले मैच में उन्होंने शानदार तरीके से वापसी की. दादा ने पहले बैटिंग कर रही पाकिस्तान टीम को अपनी गेंदबाजी से खूब परेशान किया. उन्होंने अपने 9 ओवरों में 16 रन देकर 2 विकेट अपने नाम करते हुए पाकिस्तान को 116 रन में ही समेट देने में अहम भूमिका निभाई. फिर बल्लेबाजी में भी कमाल का खेलते हुए टीम की ओर से सर्वाधिक 32 रनों का योगदान देते हुए जीत दिला दी. ऑलराउंड प्रदर्शन के लिए उन्हें सीरीज का पहला ‘मैन ऑफ द मैच’ मिला.

तीसरा मैच (जीत)

21 साल से सौरव गांगुली के नाम दर्ज है ऐसा रिकॉर्ड जिसे अभी तक नहीं तोड़ पाया कोई भी खिलाड़ी 4

तीसरे मैच में गांगुली ने बल्ले से नहीं बल्कि गेंद से कमाल का प्रदर्शन किया. एक बार फिर धीमे विकेट पर भारतीय टीम ने 50 ओवरों में 182 रन का लक्ष्य रखा. विकेट को देखते हुए पाकिस्तान के लिए लक्ष्य आसान नहीं था, लेकिन गांगुली ने अपनी गेंदों से पाकिस्तानी बल्लेबाजों को एक के बाद एक पवेलियन लौटा दिया. उन्होंने 10 ओवर में से 3 मैडन रखते हुए महज 16 रन खर्च करके 5 विकेट झटके और फिर ‘मैन ऑफ द मैच’ बन गए.

चौथा मैच (जीत)

21 साल से सौरव गांगुली के नाम दर्ज है ऐसा रिकॉर्ड जिसे अभी तक नहीं तोड़ पाया कोई भी खिलाड़ी 5

बारिश से बाधित सीरीज के चौथे मैच में भी गांगुली का ही सिक्का चला. इस बार उन्होंने पहले गेंदबाजी से दम दिखाया और 6 ओवरों में 29 रन देकर 2 विकेट अपने नाम किए. फिर बल्लेबाजी में 159 रन का पीछा करते हुए नाबाद 75 रन बनाए.

54 रन पर टीम के 3 विकेट गिर गए थे. फिर उन्होंने अजय जडेजा के साथ 108 रन की साझेदारी करते हुए टीम को जीत तक पहुंचा दिया. उन्होंने 8 चौके और एक छक्का लगाया. उन्हें लगातार तीसरी बार ‘मैन ऑफ द मैच’ मिला.

पांचवां मैच (हार)

21 साल से सौरव गांगुली के नाम दर्ज है ऐसा रिकॉर्ड जिसे अभी तक नहीं तोड़ पाया कोई भी खिलाड़ी 6

भारतीय टीम की लगातार चार जीत पर गांगुली का ही हाथ था. सीरीज का पांचवां मैच चाहे पाकिस्तान जीत गई, लेकिन इस मुकाबले में भी दादा को ही ‘मैन आॅफ द मैच’ अवार्ड मिला. टूर्नामेंट के आखिरी मैच में भारतीय टीम ने पहले खेलते हुए 5 विकेट पर 250 रन बनाए थे, जिसमें गांगुली के बल्ले ने एक बार फिर चमक बिखेरी और 96 रन बनाए, जिस दौरान उन्होंने 5 चौके और 2 छक्के लगाए. पूरी सीरीज की तरह उन्होंने गेंद से भी कमाल किया और 2 विकेट झटके, लेकिन टीम को हार से नहीं बचा पाए.

Related posts

Leave a Reply