दक्षिण अफ्रीका

क्रिकेट में पिछला सत्र दक्षिण अफ्रीका टीम के लिए और उस समय टीम के कप्तान रहे फाफ डू प्लेसिस के लिए बहुत मुश्किल रहे थे. इस टीम को अपने घर में टेस्ट सीरीज में हार मिली और विश्व कप में बहुत ही ख़राब प्रदर्शन रहा. अब दक्षिण अफ्रीका टीम के कप्तान फाफ डू प्लेसिस ने खुद माना है की पिछला सत्र उनके लिए सबसे ज्यादा मुश्किल था.

दक्षिण अफ्रीका के फाफ डू प्लेसिस ने कहा पिछला सत्र रहा सबसे मुश्किल

फाफ डू प्लेसिस

इंग्लैंड में खेले गये विश्व कप 2019 के दौरान दक्षिण अफ्रीका की टीम जीत के लिए तरस रही थी. उसके बाद भी इस टीम को पहले भारतीय टीम और फिर अपने घर में इंग्लैंड के खिलाफ बुरी तरह से हार का सामना करना पड़ा था. जिसके कारण टीम के कप्तान फाफ डू प्लेसिस को अपनी कप्तानी भी छोड़नी पड़ी. अब उस सत्र को याद करते हुए फाफ डू प्लेसिस ने ईएसपीएन क्रिकइन्फो से कहा कि

” जो सीजन बीता वो मेरे करियर का सबसे मुश्किल सत्र रहा था. जिसमें कई और बातें भी रही क्रिकेट के अलावा. टीम ने फिर से अच्छा प्रदर्शन नहीं किया और दबाव बढ़ने के कारण बहुत ही ऊर्जा मेरे तरफ आई. जिसने मुझे पीछे कर दिया. मुझे बस लगा की मैं दक्षिण अफ्रीका के लिए अच्छे से इस लड़ाई में लड़ रहा हूँ. मैंने इस लड़ाई में अपना सबकुछ दे दिया.”

फाफ डू प्लेसिस ने बताया क्यों छोड़ी टीम की कप्तानी

फाफ डू प्लेसिस

पिछले साल घरेलू मैदान पर इंग्लैंड से टेस्ट सीरीज हारने के बाद फाफ डू प्लेसिस ने टीम की कप्तानी छोड़ी थी. जिसके बारें में अब उन्होंने कहा कि

” टेस्ट सीरीज के बाद जवाब में जब मुझे लगा तो मैंने कप्तानी को छोड़ने का फैसला कर लिया. मुझे लगा है की नए कोचिंग स्टाफ में वो किसी नए व्यक्ति के साथ शुरुआत कर सकते हैं. लेकिन मेरे पास इस टीम को देने के लिए अभी कुछ मौजूद हैं. मुझे लगता है की मैं नए कप्तान को आगे बढ़ने में और थोड़ी मदद कर सकता हूँ. यही कारण है की मैंने पीछे होकर काम करने का फैसला किया.”

क्विंटन डी कॉक हैं अब दक्षिण अफ्रीका के नए कप्तान

दक्षिण अफ्रीका

इस तरह से जब फाफ डू प्लेसिस ने दक्षिण अफ्रीका टीम की कप्तानी छोड़ी तो अब पूरी जिम्मेदारी युवा विकेटकीपर बल्लेबाज क्विंटन डी कॉक पर आ गयी है. सीमित ओवर फ़ॉर्मेट में वो अब दक्षिण अफ्रीका टीम के नए कप्तान है. इसके साथ ही उम्मीद है की टेस्ट फ़ॉर्मेट में भी उन्हें ही टीम का कप्तान बनाया जायेगा.