बीसीसीआई की राजनीति ने लिया नया मोड़, शशांक मनोहर होंगे बीसीसीआई के नये प्रेसिडेंट | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

बीसीसीआई की राजनीति ने लिया नया मोड़, शशांक मनोहर होंगे बीसीसीआई के नये प्रेसिडेंट 

बीसीसीआई की राजनीति ने एक नया मोड़ ले लिया है| अब शशांक मनोहर को बीसीसीआई का दोबारा प्रेसिडेंट बनाया जायेगा| इसके लिए मनोहर को अनुराग ठाकुर और शरद पवार दोनों गुट का सपोर्ट मिल गया है| उधर सौरव गांगुली को CAB का प्रेसिडेंट बना दिया गया है| कहा जा रहा है कि ममता ने अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए बंगाल के सबसे लोकप्रिय युवा चेहरे सौरव को प्रेसिडेंट बनवाया| और ये भी माना जा रहा है कि सौरव ने ममता के इस होशियारी का फायदा भी उठाया है|

सौरव गांगुली ये जानते थे कि अगर CAB (क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ़ बंगाल) में चुनाव होता है तो वो कभी भी नहीं जीत पाते क्योंकि उनका संबंध सिर्फ जगमोहन डालमिया से ही था| एक ख़बर के अनुसार पता चला है कि सौरव अपने इस पद को छोड़ देंगे| और इसके बाद बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन या नेशनल क्रिकेट क्लब इस पद के लिए शशांक मनोहर के नाम का प्रपोजल रखेगा| मजे की बात ये है कि इन दोनों बोर्ड के चीफ़ सौरव गांगुली ही हैं| मतलब नया प्रेसिडेंट बनाने में सौरव गांगुली का अहम् रोल होगा|

शशांक मनोहर जो अब बीसीसीआई के नये प्रेसिडेंट बनने वाले हैं वो 2008 से 2011 तक बीसीसीआई के प्रेसिडेंट रह चुके हैं| एक खबर से पता चला है कि अरुण जेटली और अनुराग ठाकुर के मनाने पर ही मनोहर इस पद को संभालने के लिए तैयार हुए हैं|

अगर हम सौरव गांगुली की बात करें तो वो ज्यादा होशियार निकले क्योंकि वे जानते थे कि प्रेसिडेंट के हटने के बाद दो महीने नया प्रेसिडेंट सेलेक्ट करना होता है। यदि नियम से चलते तो दो महीने के भीतर वोटों का गणित सौरव के विरोध में जाने का खतरा था। चित्रक मित्रा या विश्वरूप डे का प्रेसिडेंट बनना करीब तय था। सौरव ने डालमिया की मौत के बाद पहले ममता को सारी बातें बताई और उनसे कहा कि वे ही प्रेसिडेंट पोस्ट का एलान कर दें नहीं तो डालमिया की मेहनत पर पानी फिर जाएगा।

Related posts

Leave a Reply