स्पोर्ट्स राउंड अप: एक नजर में पढ़े 17 मार्च 2018 की खेल से जुड़ी हर एक बड़ी खबर

Akhil Gupta / 17 March 2018

इस लेख के माध्यम से हम आपके पास तक लेकर आये हैं, दिनभर का स्पोर्ट्स अपडेट. यहाँ आप सिर्फ एक ही नजर में खेल जगत से जुड़ी हर एक बड़ी खबर आसानी से पढ़ सकेंगे.

आइये डालते हैं, एक नजर शनिवार (17 मार्च) के स्पोर्ट्स राउंड अप पर:-

~ निदहास ट्रॉफी: श्रीलंका को हरा फाइनल में पहुंचा बांग्लादेश, 18 को होगा भारत से सामना 

शुक्रवार, 16 मार्च को निदहास ट्रॉफी त्रिकोणीय श्रृंखला में मेजबान श्रीलंका और बांग्लादेश के बीच निर्णायक और सबसे अहम मुकाबला खेला गया. दोनों टीमों के बीच यह मैच कोलम्बो के आर. प्रेमदासा क्रिकेट स्टेडियम में खेला गया. जहाँ बांग्लादेश की टीम ने सभी को हैरानी में डालते हुए श्रीलंका को पूरे दो विकेट से हराकर शानदार जीत दर्ज की और फाइनल में भी जगह बनाई.

मैच की शुरुआत बांग्लादेश की टीम के टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने के साथ हुई थी और श्रीलंका की टीम के लिए पहले खेलना ज्यादा सही ना रहा. टीम अपने निर्धारित 20 ओवर के खेल में सात विकेट के नुकसान पर मात्र 159 रन ही बना सकी. टीम के लिए शानदार फॉर्म में चल रहे कुसल परेरा 61 और कप्तान थिसारा परेरा 58 और ने सबसे ज्यादा रन बनाये. बांग्लादेश के लिए एम. रहमान सबसे ज्यादा दो विकेट लेने में सफल रहे.

बांग्लादेश की टीम के सामने मैच जीतने के लिए 160 रनों का लक्ष्य था, जिसे टीम ने एक गेंद शेष रहते ही हासिल कर लिया. टीम यह मैच पूरे दो विकेट से जीतने में कामयाब हुई. टीम की जीत में महम्दुल्लाह ने सबसे ज्यादा नाबाद 43 रन बनाये. इसी जीत के साथ श्रीलंका की टीम इस सीरीज से बाहर और बांग्लादेश की टीम ने फाइनल में जगह बनाई.

~ फीफा ने 2018 विश्व कप में वीएआर को दी मंजूरी

विश्व फुटबाल की नियामक संस्था फीफा ने वीडियो असिस्टेंट रेफरी (वीएआर) को इसी साल रूस में होने वाले विश्व कप में शामिल करने का फैसला किया है। इसी महीने की शुरुआत में इस तकनीक को आईएफएबी ने अपनी मंजूरी दे दी थी, लेकिन फीफा को इसे आखिरी बार परखना था।

अब यह तकनीक रूस में 14 जून से 15 जुलाई के बीच खेले जाने वाले विश्व कप में उपयोग में ली जाएगी।

~ टीम के तौर पर हमने कुछ गलतियां की : कुशल

बांग्लादेश के खिलाफ निदास ट्रॉफी के आखिरी नॉकआउट मुकाबले में हार के बाद श्रीलंका टीम के बल्लेबाज कुशल परेरा ने कहा है कि एक टीम के तौर पर की गई गलतियां मेजबानों को भारी पड़ीं और इसी कारण वह फाइनल में जाने से महरूम रह गई। श्रीलंका ने पहले बल्लेबाजी करते हुए कुशल के 61 और तिषारा परेरा के 58 रनों की मदद से बांग्लादेश के सामने 160 रनों की चुनौती रखी थी। बांग्लादेश ने इसे एक गेंद शेष रहते हुए हासिल कर लिया था।

वेबसाइट ईएसपीएनक्रिकइंफो ने कुशल के हवाले से लिखा है, “एक टीम के तौर पर हमने अपनी रणनीति के पालन में कुछ गलतियां कीं। इस विकेट पर 160 शानदार स्कोर था। मैच के दौरान हमने जो फैसले लिए वो गलत साबित हुए। मैं मानता हूं कि गेंदबाजी, बल्लेबाजी और फील्डिंग में हमें सुधार करने की जरूरत है। इन क्षेत्रों में लगातार आगे सुधार करते हुए ही हम एक टीम के तौर पर आगे बढ़ सकते हैं।”

~ इंडियन वेल्स सेमीफाइनल में उलटफेर का शिकार हुईं वीनस, हालेप

जापान की नाओमी ओसाका और रूस की दारिया कासाटकिना ने इंडियन वेल्स टेनिस टूर्नामेंट के फाइनल में जगह बना ली है। इन दोनों खिलाड़ियों ने सेमीफाइनल मे विश्व टेनिस की दो दिग्गजों को उलटफेर कर मात देते हुए सेमीफाइनल में प्रवेश किया।

ओसाका ने वर्ल्ड नंबर-1 रोमानिया की सिमोना हालेप को मात दी तो वहीं दारिया ने अमेरिका की वर्ल्ड नंबर-8 वीनस विलियम्स को हराया। बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, वर्ल्ड नंबर-44 ओसाका ने हालेप को 64 मिनट तक चले मुकाबले में 6-3, 6-0 से मात दी।

वहीं 20 साल की दारिया ने सात बार की ग्रैंड स्लैम विजेता वीनस को तीन सेटों तक चले मुकाबले में 4-6 6-4 7-5 से मात दी। यह दारिया की शीर्ष-10 में शामिल खिलाड़ियों पर लगातार तीसरी जीत है।

~ रिद्धिमान साहा क्रिकेट के छोटे स्वरुप के एक काबिल खिलाड़ी हैं: लक्षमण 

भारत के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज और सनराईजर्स हैदराबाद की टीम के मेंटर वीवीएस लक्ष्मण ने रिद्धीमान साहा को चुनने को लेकर कहा कि “वो केवल अच्छी तरह से विकेटकीपिंग ही नहीं कर सकते हैं बल्कि वो क्रिकेट के इस छोटे फॉर्मेट में शानदार बल्लेबाजी भी कर सकते हैं। वो किसी भी पोजिशन पर खेल सकते हैं और वो बेहतरीन रन हासिल करने वाले हैं। रिद्धीमान साहा इस समय भारत के सर्वश्रेष्ठ विकेटकीपर हैं। जब जडेजा और अश्विन टेस्ट में गेंदबाजी करते हैं तो वो अच्छी विकेटकीपिंग करते हैं।”

इसके साथ ही वीवीएस लक्ष्मण ने अपनी टीम में अफगानिस्तान के स्टार स्पिन गेंदबाज राशिद खान को बड़ी रकम देने को लेकर कहा कि “हमारी टीम में राशिद खान मौजूद हैं। वो अपनी आर्म से शानदार गुगली और फ्लिपर गेंदबाजी डाल सकते हैं।” 

~ ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन के सेमीफाइनल में पहुंचीं सिंधु

रियो ओलम्पिक-2016 की रजत पदक विजेता भारत की पी.वी.सिंधु ने शुक्रवार को जापान की नोजोमी ओकुहारा को मात देकर ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन चैम्पियनशिप के महिला एकल वर्ग के सेमीफाइनल में जगह बना ली है। वर्ल्ड नंबर-3 सिंधु और ओकुहारा के बीच मुकाबला हमेशा से बेहद रोचक होता है और इस बार भी यही हुआ। सिंधु इस कड़े मुकाबले को 20-22, 21-18, 21-18 से जीतने में सफल रहीं।

पहला गेम हारकर सिंधु ने अपने प्रशंसकों को निराश किया, लेकिन अगले दो गेमों में उन्होंने ओकुहारा को शिकस्त देकर सेमीफाइनल में कदम रखा।

~ कर्सन घावेरी हुए भारतीय तेज गेंदबाजो के फैन अपने बयान में कहा..

क्रिकेट कंट्री से बात करते हुए कर्सन घावरी ने बताया कि भुवनेश्वर, शमी, बुमराह, इशांत, उमेश और हार्दिक में से उन्हें सबसे ज्यादा प्रभावित किसकी गेंदबाजी करती है। 100 विकेट लेने वाले इस दूसरे पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज ने बिना सोचे भुवनेश्वर कुमार का नाम लिया।

”भुवी दोनों तरफ गेंद को सटीक लाइन लेंथ के साथ घुमा सकते हैं। वो जानते हैं कि गेंदबाजी में सिर्फ स्पीड होने से कुछ नहीं होता। गेंदबाजी में सटीकता और विविधताओं से विकेट झटके जाते हैं.अगर कोई गेंदबाज गेम को पढ़ना जानता है। किस बल्लेबाज को कैसी गेंद करनी है ये पता होना एक अच्छे गेंदबाज के लिए काफी जरूरी है। भुवनेश्वर इसमें बिल्कुल फिट बैठते हैं। वहीं शमी भी बहुत अच्छे गेंदबाज हैं। वहीं हार्दिक और बुमराह को अभी भी बहुत कुछ सीखना बाकी है.” 

~ निशानेबाजी से पहले कई खेल आजमा चुकी हैं स्वर्ण पदक विजेता मनु

हाल ही में मैक्सिको में खत्म हुए आईएसएसएफ विश्व कप में भले ही युवा निशानेबाज मनु भाकेर दो स्वर्ण पदक जीतें हों, लेकिन मनु शुरू से ही निशानेबाजी नहीं करती थी। उन्होंने निशानेबाजी से पहले कई खेलों पर अपना हाथ आजमाया है।

मनु निशानेबाजी से पहले, मार्शल आटर्स, जूडो, मुक्केबाजी जैसे खेल खेल चुकी हैं और सफलता हासिल करने के बाद किन्हीं कारणों से उन्होंने इन खेलों को छोड़ दिया था। इस बात की जानकारी उनके पिता ने दी।

16 साल की मनु ने विश्व कप में महिलाओं की 10 मीटर पिस्टल और 10 मीटर पिस्टल मिश्रित टीम स्पर्धा में स्वर्ण पदक हासिल कर सुर्खियां बटोरी हैं। वह अगले महीने से आस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में खेले जाने वाले राष्ट्रमंडल खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगी।

~ महेंद्र सिंह धोनी ने दी नेपाल को वनडे टीम का दर्जा मिलने की बधाई, कहा…

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान व ‘कैप्टन कूल’ के नाम से मशहूर महेंद्र सिंह धोनी शुक्रवार को लखनऊ पहुंचे. जहां उन्होंने स्पोट्र्स गैलेक्सी का शिलान्यास किया. इस दौरान धोनी ने नेपाल क्रिकेट टीम को वनडे का दर्जा पाने के लिये मुबारकबाद दी. धोनी ने पत्रकारों से कहा कि ”वह वाकई बहुत अच्छा खेले. मुझे बतौर क्रिकेटर अच्छा लग रहा है कि क्रिकेट का विस्तार हो रहा है. नए देश भी क्रिकेट की तरफ रुझान दिखा रहे हैं.”

नेपाल टीम की सराहना करते हुए धोनी ने कहा कि ‘‘पिछले दिनों मैं नेपाल घूमने गया था. इस दौरान मै वहां के क्रिकेटरों से मिला था. मैने उनको सुझाव दिया था कि वे खेल पर फोकस करें. अंतर्राष्ट्रीय मुकाबलों में जीत के लिये बेंच स्ट्रैंथ बहुत महत्वपूर्ण होती है.” बता दें, नेपाल ने गुरूवार को जिम्बाब्वे में वल्र्ड कप क्वालीफायर में पापुआ न्यू गिनी की टीम को हराकर वन डे का दर्जा हासिल किया था.

~ मैं अब सीनियर रिकार्ड तोड़ना चाहती हूं : मेहुली घोष

हाल ही में मैक्सिको में खत्म हुए आईएसएसएफ विश्व कप में दो कांस्य पदक जीतने वाली युवा निशानेबाज मेहुली घोष की नजरें अब सीनियर विश्व रिकार्ड को तोड़ने पर हैं।

अपने पहले विश्व कप में शानदार प्रदर्शन करने वाली मेहुली महिलाओं की 10 मीटर एयर राइफल और मिश्रित टीम स्पर्धा में पदक जीतने में सफल रही थीं। अब उनकी कोशिश ज्यादा से ज्यादा टूर्नामेंट में इसी फॉर्म को जारी रखने की है। 2014 में पश्चिम बंगाल राज्य जूनियर चैम्पियनशिप में पहली बार अपनी छाप छोड़ने वाली मेहुली ने कहा कि वह हमेशा अपने पैर जमीन पर रखेंगी और इस सफलता को अपने ऊपर हावी नहीं होने देंगी।

मेहुली ने आईएएनएस से कहा, “मैंने जूनियर विश्व रिकार्ड बनाया था। अब मैं सीनियर विश्व रिकार्ड बनाना चाहती हूं। मैं जितने टूर्नामेंट में अच्छा प्रदर्शन कर सकती हूं करना चाहती हूं। मैं संतुष्ट होकर बैठने वाली नहीं हूं।”

~ भारतीय मूल के इस खिलाड़ी पर लगे सनसनीखेज आरोप, ईसीबी ने लगाया 6 महीनों का प्रतिबंध

भारतीय मूल के कई खिलाड़ी इंग्लैंड में खेले जाने वाले काउंटी क्रिकेट में अपना जबरदस्त करियर बनाते हैं। इसी तरह के कई भारतीय खिलाड़ी काउंटी क्रिकेट में अपना दमखम दिखा रहे हैं। उसी में से एक हैं भारतीय मूल के पूर्व इंग्लिश अंडर-19 टीम के कप्तान रह चुके शिव ठाकुर जिन्हें एक घटिया हरकत के लिए 6 महीनों के लिए प्रतिबंधित कर दिया है।

जी हां भारतीय मूल के इंग्लिश काउंटी क्रिकेट में लीसेस्टरशायर की ओर से खेलने वाले शिव ठाकुर को इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड ने खेल को बदनाम करने के लिए 6 महीनों के लिए बैन कर दिया है। शिव ठाकुर पर इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड के अनुशासन आयोग में की कई सुनवायी के दौरान ये कदम उठाया गया। इस आयोग में शामिल रिकी निधम, एडवर्ड सिलिंगर और क्लैर टेलर ने मिलकर ये फैसला सुनाया।