आज ही के दिन श्रीलंका ने टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में बनाया था ये अटूट रिकॉर्ड 1

श्रीलंका क्रिकेट टीम ने आज ही दिन यानी 6 अगस्त को वर्ष 1987 में टेस्ट क्रिकेट इतिहास का सबसे बड़ा स्कोर खड़ा किया था. श्रीलंका के द्वारा बनाया गया यह रिकॉर्ड आज भी अटूट है. आईसीसी ने श्रीलंका के इस अविश्वसनीय रिकॉर्ड को अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से साझा करते बताया कि, आज ही के दिन श्रीलंका ने भारत के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में इतिहास रचा था.

आईसीसी ने साझा की उस ऐतिहासिक मैच की तस्वीर

आज ही के दिन श्रीलंका ने टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में बनाया था ये अटूट रिकॉर्ड 2

दरअसल आईसीसी ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से श्रीलंका के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज रोशन महानामा की एक तस्वीर साझा की, जिसकी कैप्सन में आईसीसी ने लिखा,

“आज ही के दिन वर्ष 1997 में श्रीलंका ने भारत के खिलाफ 6 विकेट के नुकसान पर 952 रनों का स्कोर खड़ा किया था, जो आज भी टेस्ट क्रिकेट के इतिहास का एक टीम के द्वारा एक इनिंग में बनाया गया सर्वश्रेष्ठ स्कोर है.”

आपको बता दें कि श्रीलंका के ये स्कोर भारत के खिलाफ 2 टेस्ट मैचों की सीरीज के पहले मैच में खड़ा किया था, इस ऐतिहासिक मैच का गवाह बना था कोलंबो का आर प्रेम्बदासा क्रिकेट स्टेडियम.

आज ही के दिन श्रीलंका ने टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में बनाया था ये अटूट रिकॉर्ड 3

सनाथ जयसूर्या ने जड़ा था तेहरा शतक

सनथ जयसूर्या

भारत के पहले इनिंग के टोटल ( 537/8 ) के जवाब में श्रीलंका की टीम ने यह पहाड़ के सामान विशाल स्कोर खड़ा किया था. इस मैच में श्रीलंका के पूर्व दिग्गाज बल्लेबाज सनाथ जयसूर्या की 578 गेंदों में 340 रनों की पारी को आज भी सच्चा क्रिकेट फैन भूल नहीं पाया है. इस पारी में जयसूर्या के बल्ले से 36 चौके तथा 2 गगनचुम्बी छक्के निकले थे.

इसी मैच में सनाथ जयसूर्या श्रीलंका की तरफ से तेहरा शतक जड़ने वाले पहले खिलाड़ी बने थे. हालाँकि इसके बाद कुमार संगकारा तथा महेला जयवर्धने ने यह मुकाम हासिल किया.

सचिन, सिद्धू तथा अजहरुद्दीन ने जड़ा था शतक

आज ही के दिन श्रीलंका ने टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में बनाया था ये अटूट रिकॉर्ड 4

इसी मैच की पहली पारी में भारत की तरफ से नवजोत सिंह सिद्धू के ( 111 ), मोहम्मद अजहरुद्दीन के ( 126 ) तथा उस समय के मौजूदा कप्तान सचिन तेंदुलकर के 143 रनों की बदौलत भारतीय टीम ने 6 विकेट के नुकसान पर 537 रनों का स्कोर खड़ा किया था. इसी मैच में जयसूर्या ने 3 विकेट भी चटकाए थे. इसके अलावा मुथैया मुरलीधरन और रविन्द्र पुष्पकुमारा ने भी 2-2 विकेट चटकाए थे.

हालाँकि यह ऐतिहासिक मैच बेनतीजा रहा था. इस मैच में दोनों टीमों ने एक ही पारी खेली थी. किसी भी टीम को इस मैच में दूसरी पारी खेलने का भी मौका नहीं मिला था. उल्लेखनीय रूप से, टेस्ट क्रिकेट में भारत की सर्वोच्च पारी चेपॉक में इंग्लैंड के खिलाफ सात विकेट पर 759 रन की थी क्योंकि मेजबान टीम उस मैच को पारी और 75 रनों से जीत गई थी.

Ashutosh Tripathi

Sport Journalist