व्यंग: जब धोनी के पास आकर रोने लगा श्रीलंकाई गेंदबाज

क्रिकेट डेस्क। सुनने में अजीब जरूर लगेगा पर भारत और श्रीलंका के बीच खेले गए टी-20 में ऐसा कुछ होगा इसकी उम्मीद किसी ने नहीं की थी। शिखर धवन के अर्द्धशतकीय पारी और गेंदबाजों के दमदार प्रदर्शन की मदद से भारत ने दूसरे टी-20 मैच में श्रीलंका को 69 रनों से हरा तो दिया लेकिन यह धोनी के लिए मुसीबत बन गया। मैच खत्म होने के बाद धोनी ने जैसे ही श्रीलंकाई खिलाडि़यों से हाथ मिलाना शुरू किया थिसारा परेरा ने उनका हाथ पकड़ लिया और उसकी आंखों में आंसू थे। धोनी का ध्यान उस पर गया तो उन्होंने पूछा कि क्या बात है, इतने दुखी क्यों हो जीत हार तो मैच में चलती है और पिछला मैच तो हम ही लोग हार गए थे।

धोनी के काफी समझाने के बाद परेरा ने कहा भाई ये तो मैं भी जानता हूं कि जीत हार चलती रहती है लेकिन किसी गेंदबाज की ऐसी भी पिटाई नहीं करनी चा‍हिए, कि उसे अपना करियर खत्म सा नजर आने लगे। वो तो शुक्र है श्रीलंकाई भगवान महाराज रावण का जो हैटट्रिक लग गई नहीं तो किसी को मुंह दिखाने के लायक नहीं छोड़ा था, आज तो आप लोगों ने भाई। आज धवन भैया को क्या हो गया था वो तो ऐसे खेल रहे थे जैसे आज उनका आखरी मैच हो। रजीथा तो मारे डर के ड्रेसिंग रूम से निकल ही नहीं रहा है।

 

 

धोनी ने उसे काफी समझाया और साथ में यह भी कहा कि तुम लोग अपने नाम ठीक कर लो परेरा, चमीरा, रजीथा इस टाइप के नाम सुनकर ही हम लोगों की मारने की इच्छा होने लगती है। और इस बात का भी ध्यान रखना कि जब विकेट लो तो इतना नहीं उचकना चाहिए कि अगली बार बल्लेबाज विकेट लेने के लायक ना छोड़े। परेरा को अपनी गलती का अहसास हुआ और धीरे से धोनी से बोला भाई इससे हमारे आईपीएल करियर पर तो फर्क नहीं पड़ेगा। क्यूंकि हम नहीं चाहते कि हमारे खिलाडि़यों की हालत वेस्ट इंडीज के खिलाडि़यों जैसी हो जाए जिन्‍हें सैलरी ही टाइम पर नहीं मिलती। धोनी ने परेरा को आश्वासन दिया ऐसा नहीं होगा भाई मै हूँ ना! तब जाके परेरा ने धोनी का हाथ छोड़ा।

हाहाहा हाहाहा…

नोट: यह एक काल्पनिक पोस्ट है, जिसे सिर्फ मनोरंजन को ध्यान में रखते हुए लिखा गया है, इसे किसी की भावनाओ को ठेस पहुंचाने के लिए नहीं लिखा गया है, अगर आपको यह पोस्ट या किसी खिलाड़ी के बारे में लिखी गयी, कोई बात बुरी लगे तो उसके लिए माफ़ कीजियेगा, इसे सिर्फ मनोरंजन के लिए ही पढ़े।

Related Topics