श्रीलंका को 1996 विश्व कप जीताने वाला ये खिलाड़ी, परिवार चलाने के लिए जंगल में हाथियों के बीच कर रहा गुजारा 1

एक क्रिकेट का करियर बड़ा ही अलग तरह का होता है। जिसमें जब तक उसका इंटरनेशनल करियर चल रहा होता है तो फैंस उस क्रिकेटर के दीवाने होते हैं। उस क्रिकेटर्स की फैंस फॉलोइंग जबरदस्त होती है जो एक तरह से अपने प्रदर्शन के दम पर फैंस के दिलों की धड़कन बन जाता है।

रिटायरमेंट के बाद कई खिलाड़ियों को भूल जाते हैं फैंस

लेकिन जैसे ही कोई क्रिकेटर अपने करियर को अलविदा कह देता है या फिर उसका करियर खत्म हो जाता है उसके बाद फैंस के दिलों से उस क्रिकेटर की छाप धीरे-धीरे खत्म होती जाती है और एक दिन ऐसा भी आ जाता है जब उस खिलाड़ी का नाम पूरी तरह से गायब हो जाता है।

श्रीलंका को 1996 विश्व कप जीताने वाला ये खिलाड़ी, परिवार चलाने के लिए जंगल में हाथियों के बीच कर रहा गुजारा 2

वैसे ऐसे कई खिलाड़ी हैं जो रिटायरमेंट के बाद किसी ना किसी रूप से क्रिकेट से जुड़े रहते हैं लेकिन कुछ ऐसे क्रिकेटर्स हैं जो क्रिकेट से ना जुड़े रहकर अपना परिवार चलाने के लिए दूसरा काम करने को मजबूर हो जाते हैं और वो खिलाड़ी फैंस के बीच अपनी लोकप्रियता को भी खो देते हैं।

रोमेश कालूवितरना का श्रीलंका के जंगलों में हाथियों के बीच है कमाई का जरिया

आज हम आपको इस रिपोर्ट में ऐसे ही खिलाड़ी से रूबरू करवाने जा रहे हैं जो एक दौर में खतरनाक विकेटकीपर बल्लेबाज था लेकिन आज एक पहचान का मोहताज हो गया है जो परिवार का गुजारा करने के लिए जंगलों में हाथी के बीच रहता है।

श्रीलंका को 1996 विश्व कप जीताने वाला ये खिलाड़ी, परिवार चलाने के लिए जंगल में हाथियों के बीच कर रहा गुजारा 3

श्रीलंका को 1996 विश्व कप जीताने वाला ये खिलाड़ी, परिवार चलाने के लिए जंगल में हाथियों के बीच कर रहा गुजारा 4

हम यहां पर बात कर रहे हैं श्रीलंका के विश्व चैंपियन बल्लेबाज रहे रोमेश कालूवितरना की। साल 1996 में खेले गए विश्व कप में श्रीलंका की जीत में बड़े नायक रहे कालूवितरना इन दिनों जंगल में रहकर हथियों के बीच रहते हैं। दरअसल रोमेश कालूवितरना का श्रीलंका के जंगलों में एक रिसॉर्ट है। जिसमें एक नेशनल पार्क बना है जहां कालूवितरना का 14 कमरों वाला होटल है। जिसमें हाथी देखने वाले सेलानी इस रिसॉर्ट में ठहरते हैं।

कालूवितरना के परिवार पर हाथियों का झूंड कर चुका है हमला

वैसे कालूवितरना के परिवार पर एक बार हाथियों के झूंड ने हमला तक कर दिया था जिसमें रोमेश का परिवार बाल-बाल बचा था। लेकिन फिर भी उनका जंगलों से प्रेम बरकरार है। ये प्रेम आज का नहीं बल्कि वो जब से श्रीलंका में खेलते थे तब से है। और वो जंगलों में सफारी के लिए बीच-बीच में जाया करते थे।

श्रीलंका को 1996 विश्व कप जीताने वाला ये खिलाड़ी, परिवार चलाने के लिए जंगल में हाथियों के बीच कर रहा गुजारा 5

कालुवितरना ने एक बार बताया था कि उनके परिवार पर हाथियों के झूंड़ ने हमला कर दिया था। 6 हाथियों ने मिलकर परिवार पर हमला कर दिया लेकिन परिवार बाल-बाल बच गया। इसी कारण से रोमेश ये मानते हैं कि हथियों का डर तो पिच पर तेज गेंदबाजों के खिलाफ खेलने से भी ज्यादा है।

कालूवितरना श्रीलंका के लिए 49 टेस्ट मैच में 1933 रन बनाने में सफल रहे जिसमें 3 शतक शामिल रहे तो 189 वनडे मैच भी खेले जहां इन्होंने 3771 रन बनाए। विकेट के पीछे की बात करें तो टेस्ट में 93 कैच और 26 स्टंपिंग की तो वनडे में 132 कैच के साथ 75 स्टंप किए।