व्यंग:कुंबले के कोच बनाये जाने से निराश कोहली ने दिया टेस्ट कप्तान पद से इस्तीफा धोनी दोबारा बनेंगे भारतीय टीम के कप्तान | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

व्यंग:कुंबले के कोच बनाये जाने से निराश कोहली ने दिया टेस्ट कप्तान पद से इस्तीफा धोनी दोबारा बनेंगे भारतीय टीम के कप्तान 

व्यंग:कुंबले के कोच बनाये जाने से निराश कोहली ने दिया टेस्ट कप्तान पद से इस्तीफा धोनी दोबारा बनेंगे भारतीय टीम के कप्तान

पुरे 1 साल 5 महीने तक भारतीय टीम बिना कोच के खेलती रही, इस बीच भारतीय टीम में कोच की भूमिका टीम डायरेक्टर और पूर्व भारतीय खिलाड़ी रवि शास्त्री निभाते आये थे. बिना कोच के खेल रही भारतीय टीम ने इन 1 सालो में एक भी वनडे सीरीज नहीं जीती, वहीं टेस्ट सीरीज में ऐतिहासिक जीत दर्ज किया.

2011 में भारत के विश्व विजेता बनने के बाद से भारत के सफल कोच गुरु गैरी क्रिस्टन का करार खत्म हुआ था, और उसके बाद डंकन फ्लेचर भारतीय टीम के कोच बने थे, लेकिन फ्लेचर के कोच बनने के बाद से बीसीसीआई ने कोच से ज्यादा विश्वास टीम डायरेक्टर रवि शास्त्री पर जताया. फ्लेचर के समय में ही भारतीय टीम से सचिन, सहवाग, राहुल द्रविड़ और लक्ष्मण के साथ गौतम गंभीर और जहीर खान जैसे प्रतिभाशाली खिलाड़ियों को बाहर का रास्ता दिखाया गया.

इन दिग्गज खिलाड़ियों के जाने के बाद भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने युवा खिलाड़ियों के साथ खेलना शुरू किया और भारतीय टीम का प्रदर्शन पहले से थोड़ा सा खराब हुआ, और लोगों के साथ साथ कुछ दिग्गज खिलाड़ी भी धोनी को संयास लेने का सलाह देने लगे. इन्ही में एक नाम रवि शास्त्री का भी है, जिन्होंने स्पष्ट रूप से कभी नहीं कहा कि अब धोनी को टीम से बाहर कर देना चाहिए, बल्कि समय समय पर ये जरुर कहते आये है, कि अब धोनी की जगह विराट कोहली को भारतीय टीम का कप्तान बनाया जाना चाहिए और शायद यही कारण रहा, कि ऑस्ट्रेलिया दौरे पर पहले 2 मैचों में धोनी नहीं खेले उस समय कोहली टीम के कप्तान थे और शानदार बल्लेबाजी किया, लेकिन जब वापस धोनी टीम  वापस टीम में आये तो विराट कोहली ने सबसे खराब प्रदर्शन किया, जिसके बाद बस 2 मैच खेलकर धोनी ने सीरीज खत्म होने से पहले ही सन्यास की घोषणा कर दिया ऐसे में ये बात सामने आया था कि धोनी को टीम से अलग करने में रवि शास्त्री और विराट कोहली की बड़ी राजनीति रही है.

हमेशा से रवि शास्त्री और भारतीय टेस्ट कप्तान विराट कोहली एक साथ नजर आये है, तो धोनी को इन दोनों ने अलग रखा है. कई बार विराट और धोनी के बीच आपसी मतभेद की खबर सामने आई, लेकिन हर बार इसे अफवाह बता कर दबाने की कोशिस किया गया.

अब जब अनिल कुंबले भारतीय टीम के कोच बन गये है, तो 1 साल और भारतीय टीम का सुनहरा पल वापस आने वाला है.

सुबह जब से अनुराग ठाकुर ने सबको चौकाते हुए 1 दिन पहले ही भारतीय टीम के कोच की घोषणा का फैसला सरेआम किया,तब से विराट कोहली मुंबई में अपने नये घर में चिप्स, कोल्डड्रिंक लेकर टीवी के सामने बैठकर हिंदी न्यूज़ चैनल देख रहे थे, कोहली को पूरा विश्वास था कि अगला भारतीय कोच रवि शास्त्री ही बनेंगे और इसके साथ ही उन्हें पूरा विश्वास था कि शास्त्री के कोच बनते ही भारतीय टीम के सभी फ़ॉर्मेट का कप्तान बनने का उनका सपना सच हो जायेगा. शास्त्री और कोहली के बीच इस बात को लेकर पहले ही करार हो चूका था, लेकिन जैसे ही बीसीसीआई ने अनिल कुंबले के नाम की घोषणा किया विराट ने अपना टीवी पाकिस्तानी प्रसंशको की तरह गुस्से में तोड़ दिया और तुरंत ही रवि शास्त्री को कॉल किया इस समय रवि शास्त्री भारत में मौजूद नहीं है और वो आईपीएल बाद से ही विदेशो में अपनी थकान निकाल रहे है.

शास्त्री उस समय किसी मीटिंग में व्यस्त थे और इसी वजह से वो विराट कोहली का कॉल पिक नहीं कर सके इधर शास्त्री द्वारा कॉल पिक न किये जाने से विराट कोहली का पारा सातवे आसमान पर था, और विराट कोहली अब तक के अपने सभी अवार्ड्स के सामने बैठे रो रहे थे, लेकिन जैसे ही शास्त्री को समय मिला उन्होंने  विराट को कॉल किया तब कही जाकर शास्त्री को पता चला, कि बीसीसीआई ने एक दिन पहले ही कोच की घोषणा करते हुए अनिल कुंबले को भारत का कोच बना दिया है.

शास्त्री ये बात सुनकर काफी गुस्सा हुए लेकिन विराट को दुखी देख उन्होंने विराट को सांत्वना देते हुए कहा, कि वो इसी वक्त भारत के लिए निकल रहे है. भारत पहुँच कर वो सीधे बीसीसीआई कार्यलय पहुंचे और उन्होंने अनुराग ठाकुर सहित सभी को काफी खरी खोटी सुनाते हुए उन्हें भारत का कोच बनाने की मांग किया, अनुराग ठाकुर नें कहा अभी तो यह सम्भव नहीं है, लेकिन अगले साल तुम्हे ही भारतीय टीम का कोच बनाया जायेगा, तब जाकर कही शास्त्री का गुस्सा शांत हुआ और उन्होंने विराट को कॉल कर 1 साल और क्रिकेट के छोटे फ़ॉर्मेट में उपकप्तान बने रहने के लिए कहा कोहली भी अब इस बात से सहमत है और वो 1 साल तक इंतजार करेगें.

लेकिन शास्त्री के ये सब कहने से पहले ही विराट कोहली बीसीसीआई ऑफिस में अनुराग ठाकुर को कॉल कर ये बोल चुके थे, कि अगर शास्त्री को कोच नहीं बनाया गया तो मै भारतीय टीम की कप्तानी नहीं करूंगा और मै टेस्ट कप्तान पद से इस्तीफा दे रहा हूँ.

इधर परिवार के साथ ज़िम्बाब्वे दौरे से वापस आकर वक्त बीता रहे धोनी को जैसे ही यह खबर मिली तो धोनी ने कहा, कि अब वो एक बार फिर से भारतीय टेस्ट टीम में वापसी करेंगे, क्यूंकि अब शास्त्री का टीम पर कोई कण्ट्रोल नहीं है, तो अब मै दोबारा से टेस्ट खेलना चाहता हूँ, और कुंबले के साथ मिलकर पिछले बार की तरह भारतीय टीम को नम्बर 1 बनाना चाहता हूँ.

इस पर जब एक पत्रकार ने धोनी से उनके अचानक से सन्यास लेकर फिर दोबारा टीम में 1 साल के अंदर वापसी के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा अगर शाहिद अफरीदी 2 बार सन्यास लेने के बाद पाकिस्तान टीम के कप्तान बन सकते है, तो मैंने तो भारत को आईसीसी टी-20 विश्वकप, विश्वकप 2101, चैम्पियंस ट्राफी दिया है, इसके साथ ही मैंने भारत को टी-20, वनडे और टेस्ट सभी फ़ॉर्मेट में विश्व की नम्बर 1 टीम बनाया है, तो मै क्यों वापसी करके भारतीय टीम का कप्तान नहीं बन सकता हूँ.

धोनी की ये बात जब मिडिया द्वारा अनुराग ठाकुर को लगी तो उन्होंने कहा, हमे एक अच्छे कप्तान की तलास थी और धोनी से बेहतर विकल्प इस समय और कौन हो सकता है, ऐसे में हम धोनी को वेस्टइंडीज दौरे पर टेस्ट टीम की कमान के साथ वेस्टइंडीज भेज रहे है.

नोट: यह लेख सिर्फ मनोरंजन के लिए लिखा गया है, इसका वास्तविकता से कोई सम्बन्ध नही है, इसे सिर्फ मनोरंजन के लिए ही लिखा गया है तो इसे सिर्फ मनोरंजन के लिए ही पढ़े और सच मानते हुए अपनी किसी प्रकार की व्यक्तिगत प्रतिक्रिया व्यक्त न करे. इस खबर में कोई भी सच्चाई नहीं है किसी के भी द्वारा कहे गये कथन सत्य नहीं है धोनी टेस्ट टीम से सन्यास ले चुके है और ऐसे में अब वो भारत की परम्परा का निर्वाह करते हुए युवा खिलाड़ियों को मौका देंगे किसी अन्य देश के खिलाड़ियों की तरह दोबारा टीम में वापसी नहीं करेंगे. यह लेख सिर्फ लोगों के मनोरंजन हेतु लिखा गया है.

Related posts