सोशल मीडिया पर आलोचना का शिकार बनते हैं स्टुअर्ट बिन्नी, अब आलोचकों को दिया जवाब

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

सोशल मीडिया पर आलोचना का शिकार बनते हैं स्टुअर्ट बिन्नी, अब आलोचकों को दिया जवाब 

सोशल मीडिया पर आलोचना का शिकार बनते हैं स्टुअर्ट बिन्नी, अब आलोचकों को दिया जवाब

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व दिग्गज खिलाड़ी रोजर बिन्नी के बेटे स्टुअर्ट बिन्नी को एक समय माना जा रहा थी कि इन्होंने ऑलराउंडर की खोज पूरी कर दी. स्टुअर्ट बिन्नी तीनों ही फॉर्मेट खेल गए लेकिन इनके बल्ले या गेंद से वो प्रदर्शन नहीं निकल सका जिसकी उम्मीद की जा रही थी.

साल 2016 के बाद से चल रहे भारतीय टीम से बाहर

सोशल मीडिया पर आलोचना का शिकार बनते हैं स्टुअर्ट बिन्नी, अब आलोचकों को दिया जवाब 1

स्टुअर्ट बिन्नी ने 2013 के आईपीएल में अपने प्रदर्शन से खासा प्रभावित किया जिसके बाद उन्हें 2014 में न्यूजीलैंड के खिलाफ हेमिल्टन में मौका मिला. वनडे कैप के बाद बिन्नी टी-20 और टेस्ट खेलने में भी कामयाब रहे थे.

इसी दौरान उन्होंने बांग्लादेश के खिलाफ 4 रन देकर 6 विकेट लेने का कारनामा किया था, जो आज भी भारत का वनडे में सबसे अच्छा प्रदर्शन है.  हार्दिक पांड्या के आने के  बाद से स्टुअर्ट बिन्नी के लिए दरवाजे पूरी तरह से बंद हो गए हैं. वेस्टइंडीज के खिलाफ साल 2016 में फ्लोरिडा में खेले गए टी-20 मैच के बाद से वह टीम से बाहर चल रहे हैं.

आलोचना करने वालों को दिया जवाब

सोशल मीडिया पर आलोचना का शिकार बनते हैं स्टुअर्ट बिन्नी, अब आलोचकों को दिया जवाब 2

स्टुअर्ट बिन्नी ने हिन्दुस्तान टाइम्स को एक बयान दिया है. जिसमे उन्होंने अपनी आलोचना करने वालो को करारा जवाब दिया है. उन्होंने सोशल मीडिया पर होने वाली आलोचना को लेकर कहा, “ट्रोल और आलोचना को अनदेखा करने में समय लगा, लेकिन अब मैंने इसके बारे में हंसना सीख लिया है. मुझे इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता है कि कुछ टिप्पणी कितनी मूर्खतापूर्ण हो सकती है. पहले मैं इनके बारे में सोचता था, लेकिन अब मैं सिर्फ इन्हें देखकर हंसता हूं.”

अंतिम मैच के बारे में भी बोले बिन्नी

सोशल मीडिया पर आलोचना का शिकार बनते हैं स्टुअर्ट बिन्नी, अब आलोचकों को दिया जवाब 3

स्टुअर्ट बिन्नी ने अपने अंतिम मैच में वेस्टइंडीज के खिलाफ एक ओवर में पांच छक्के खर्च कार दिए थे. एविन लुईस ने उनके एक ओवर में कुल 32 रन बना डाले थे. अपने इस ओवर को लेकर उन्होंने कहा, “मैं उस वक्त गेंदबाजी करने आया था, जब पहले ही बल्लेबाज पूरी तरह से हम पर हावी थी. मैंने सभी गेंद पर अपना बेस्ट दिया. हालांकि बल्लेबाज ने मुझे पांच छक्के लगा डाले. निश्चित रूप से यह किसी भी खिलाड़ी के लिए निराशाजनक है, लेकिन उससे भी ज्यादा निराशा की बात यह थी, कि हम ये मैच मात्र 1 रन से हारे थे. मैंने अपनी पूरी कोशिश की, लेकिन शायद उस दिन मेरा दिन नहीं था.”

Related posts