महज 3 साल में ही पृथ्वी शॉ ने उठा लिया था बल्ला, मुंबई में कोई भी नहीं करना चाहता था अपनी अकेडमी में शामिल | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

महज 3 साल में ही पृथ्वी शॉ ने उठा लिया था बल्ला, मुंबई में कोई भी नहीं करना चाहता था अपनी अकेडमी में शामिल 

महज 3 साल में ही पृथ्वी शॉ ने उठा लिया था बल्ला, मुंबई में कोई भी नहीं करना चाहता था अपनी अकेडमी में शामिल

अंडर 19 की भारतीय क्रिकेट टीम ने इतिहास रचते हुए वर्ल्ड कप का खिताब पर कब्जा कर लिया। खेले गए फाइनल मुकाबले में टीम इण्डिया की युवा टीम ने जबरदस्त खेल दिखाते हुए आॅस्ट्रेलिया टीम को बड़ी आसानी के साथ मात दे दी।इसी के साथ अंडर 19 की युवा भारतीय टीम का यह चौथा वर्ल्ड कप का खिताब था,जिसे हासिल कर दुनिया की पहली बन गयी।

कोच ने किया पृथ्वी शाॅ से जुड़ी यादों को ताजा

महज 3 साल में ही पृथ्वी शॉ ने उठा लिया था बल्ला, मुंबई में कोई भी नहीं करना चाहता था अपनी अकेडमी में शामिल 1

वर्ल्ड कप का खिताब पाने वाली टीम इण्डिया के युवा कप्तान पृथ्वी शाॅ की चौतरफा प्रशंसा की जा रही है। अपने कप्तानी के अलावा पृथ्वी शाॅ ने गजब के बल्लेबाजी का प्रदर्शन दिखायी. इसी बीच पृथ्वी शाॅ के पहले कोच संतोष पिंगुलकर ने मीडिया से किए गए खास बातचीत में खुलासा करते हुए कहा कि,

“पृथ्वी शाॅ को जब मैने पहली दफा देखा तो वह उस वक्त मात्र तीन साल का था। उस वक्त मैं नगर निगम के ग्राउंड पर था। मैें औरंगाबाद से स्थानीय मैदान के लिए अनुमति लेने विरार आया था,जब मैने उसे खेलते हुए देखा था।” 

महज तीन साल के उम्र में देखा पहली दफा

महज 3 साल में ही पृथ्वी शॉ ने उठा लिया था बल्ला, मुंबई में कोई भी नहीं करना चाहता था अपनी अकेडमी में शामिल 2

अपनी बात को जारी रखते हुए संतोष पिंगुलकर ने कहा कि,

“यह सबसे हैरान कर देने वाली बात थी, कि उसे मुंबई में कोई नहीं ले रहा था, क्योंकि उसकी उम्र काफी कम थी। हमने गोल्डन स्टार अकेडमी में उसे डाला। वह हमारा पहला छात्र था। “

बचपन से ही थी क्रिकेट खेलनी की प्रतिभा

महज 3 साल में ही पृथ्वी शॉ ने उठा लिया था बल्ला, मुंबई में कोई भी नहीं करना चाहता था अपनी अकेडमी में शामिल 3

पृथ्वी शाॅ के महज तीन साल के उम्र में क्रिकेट करियर के शुरूआत करने के सवााल पर उनके पहले वाले कोच ने जवाब देते हुए कहा कि,

“पृथ्वी शाॅ के अन्दर क्रिकेट खेलनी की प्रतिभा बचपन से ही थी। वह 2–2 में हमारी अकादमी में आया और लगातार क्रिकेट की प्रैक्टिस करने लगा। ऐसे में अब यह मुझे पूरी उम्मीद है कि आने वाले समय में वह भारतीय टीम का सबसे चमकता सितारा बनेगा। इसके अलावा उसकी किस्मत काफी अच्छी रही कि उसे राहुल द्रविड़ जैसा कोच मिला।”

Related posts

Leave a Reply