किरकिरी होने के बाद DRS विवाद पर अफ्रीकी चैनल सुपरस्पोर्ट की सफाई, इंडियन प्लेयर को लेकर कही ये बात 1

IND vs SA: भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच (IND vs SA) 3 मैचों की टेस्ट सीरीज खत्म हो चुकी है। इस टेस्ट सीरीज ने खत्म होने के साथ ही एक बड़ा विवाद अपने साथ छोड़ दिया है। केपटाउन में भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच तीसरा और निर्णायक टेस्ट मैच खेला गया, जहां तीसरे दिन डीआरएस मामले को लेकर विवाद खड़ा हो गया। उपजे विवाद के बीच अफ्रीकी चैनल सुपरस्पोर्ट की सफाई भी आ गई है।

DRS को लेकर भारत के रिएक्शन पर सुपरस्पोर्ट का बयान

तीसरे और अंतिम टेस्ट मैच में तीसरे दिन दक्षिण अफ्रीका के कप्तान डीन एल्गर के एलबीडब्ल्यू मामले पर डीआरएस में फैसला पलटा गया, जिसके बाद भारतीय खिलाड़ियों ने खासी निराशा जतायी।

Virat Kohli

डीआरएस में आए फैसले के बाद भारतीय खिलाड़ियों ने टेक्नोलॉजी पर सवाल खड़े कर दिए तथा मैच के ब्रॉडकास्टर सुपरस्पोर्ट को सवालों के घेरे में ले लिया। जिसके बाद अब सुपरस्पोर्ट का रिएक्शन सामने आया है।

सुपरस्पोर्ट ने कहा, टेक्नोलॉजी पर नहीं है हमारा कन्ट्रोल

DRS-Controversy

सुपर स्पोर्ट ने भारतीय टीम के खिलाड़ियों के द्वारा की गई टिप्पणियों के बीच इसे लेकर अपना बयान पेश किया। सुपरस्पोर्ट ने अपने बयान में साफ कहा कि हॉक-आई टेक्नोलॉजी पर उनका कोई नियंत्रण नहीं है।

 

दरअसल पूरा मामला ये है कि जब तीसरे दिन के तीसरे सेशन का खेल चल रहा था, तो आर अश्विन की गेंद पर डीन एल्गर को अंपायर ने पगबाधा करार दे दिया। इसके बाद डीआरएस का फैसला किया गया तो उसमें गेंद हॉक आई में स्टंप के ऊपर जाती दिखायी पड़ी।

भारत के खिलाड़ियों का रहा था जबरदस्त रिएक्शन

इसके बाद भारतीय टीम के खिलाड़ियों का जबरदस्त रिएक्शन देखने को मिला था, जिसमें भारत के कप्तान विराट कोहली से लेकर केएल राहुल और आर अश्विन ने स्टंप माइक के पास खड़े रहकर प्रतिक्रिया जाहिर की, जो सभी रिएक्शन आने के बाद सुपरस्पोर्ट ने इस मामले पर अपनी सफाई दी।

किरकिरी होने के बाद DRS विवाद पर अफ्रीकी चैनल सुपरस्पोर्ट की सफाई, इंडियन प्लेयर को लेकर कही ये बात 2

समाचार एजेंसी AFP को दिए एक बयान में ब्रॉडकास्टर ने कहा,

“सुपरस्पोर्ट ने भारतीय क्रिकेट टीम के कुछ सदस्यों द्वारा की गई टिप्पणियों को देखा है. ‘हॉक-आई’ एक स्वतंत्र सेवा-प्रदाता है, जिसे ICC की अनुमति है और उनकी टेक्नोलॉजी को कई साल से DRS के अहम हिस्से के रूप में स्वीकार किया गया है. सुपरस्पोर्ट का हॉक-आई टेक्नोलॉजी पर किसी भी तरह का नियंत्रण नहीं है.”