लम्बे समय से टीम इंडिया से बाहर चल रहे सुरेश रैना ने मैच फिनिशर की भूमिका पर दिया बड़ा बयान | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

लम्बे समय से टीम इंडिया से बाहर चल रहे सुरेश रैना ने मैच फिनिशर की भूमिका पर दिया बड़ा बयान 

लम्बे समय से टीम इंडिया से बाहर चल रहे सुरेश रैना ने मैच फिनिशर की भूमिका पर दिया बड़ा बयान
photo credit : Getty images

2011 के वर्ल्ड कप का क्वाटर फाइनल मुकाबला भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच अहमदाबाद के मोटेरा स्टेडियम में चल रहा था, जिसमे भारत की जीत के बाद युवराज सिंह ने जिस तरह से मैच जीतने के बाद पिच पर के ऊपर बैठ कर बल्ले को घुमाया था, वो दृश्य सभी को याद होगा और दूसरी तरफ नॉन स्ट्राइक एंड पर खड़े सुरेश रैना युवराज सिंह की तरफ दौड़ कर गए और पूरा देश उस समय युवराज सिंह की उस पारी का मुरीद हो गया युवराज ने उस मैच में 57 रन की नाबाद पारी खेली लेकिन उस मैच में एक ऐसा भी खिलाड़ी था, जिसका भारत की जीत में काफी बड़ा योगदान था. कुंबले के इस्तीफे पर टीम इंडिया के फील्डिंग कोच आर श्रीधर ने तोड़ी चुप्पी और कुंबले पर ही लगाये ये इल्जाम

सुरेश रैना थे छुपे हुए हीरो

लम्बे समय से टीम इंडिया से बाहर चल रहे सुरेश रैना ने मैच फिनिशर की भूमिका पर दिया बड़ा बयान 1
photo credit : Getty images

सुरेश रैना ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वर्ल्ड कप के क्वाटर फाइनल मुकाबले में जब बल्लेबाजी करने के लिए क्रीज पर आये तो उस समय भारतीय टीम का स्कोर 187 रन पर पांच विकेट हो चुका था और उस समय भारत की टीम को 12 ओवर में 74 रन चाहिए थे और भारत की टीम उस मैच में काफी बुरी स्थिती में आ गयी थी, जिसके बाद युवराज सिंह का साथ देने के लिए सुरेश रैना क्रीज पर उतरे और उन्होंने युवराज के ऊपर से दबाव हटाते हुए आक्रामक बल्लेबाजी की और 28 गेंदों में 34 रन बना दिए, रैना का ये दूसरा वर्ल्ड कप मैच था और उन्होंने जिस तरह की पारी खेली थी, उसे काफी लोगो ने नजर अंदाज जरूर कर दिया लेकिन रैना को एक छिपा हुआ हीरो जरुर मान सकते है.

अपनी जिम्मेदारियों को समझना होगा

लम्बे समय से टीम इंडिया से बाहर चल रहे सुरेश रैना ने मैच फिनिशर की भूमिका पर दिया बड़ा बयान 2
photo credit : Getty images

सुरेश रैना से जब एक इंटरव्यू के दौरान पूछा गया कि एक फिनिशर के रूप में कितना दबाव होता है, आप पर तो इस पर सुरेश रैना ने कहा, कि जब आप निचले क्रम में बल्लेबाजी करते है, तो आपके पास हीरों बनने का मौका रहता है और मैंने पिछले कई सालों से यही किया है, मैंने आईपीएल में भी इसी तरह से खेला है और प्रथम श्रेणी क्रिकेट में भी और मैं समझता हूँ कि यही मेरा रोल है.खुलासा- सिर्फ विराट कोहली ही नहीं CAC ने भी कुंबले की साथ नाइंसाफी, नहीं सुनी कुंबले की बात बस विराट से ही जाना पूरा मामला

मैच को फिनिश करना आना चाहिए

लम्बे समय से टीम इंडिया से बाहर चल रहे सुरेश रैना ने मैच फिनिशर की भूमिका पर दिया बड़ा बयान 3
photo credit : Getty images

रैना ने अपने इस बयान में आगे कहा कि जब आप नंबर 6 पर बल्लेबाजी करने के लिए जाते है, तो आपको परफॉर्म करना ही पड़ता है, जब मैच फसा हो तो आप की ये जिम्मेदारी बनती है, कि आप उस मैच को खत्म करके वापस आये और ये चीज आपको हमेशा संतोष देती है, जिस कारण मैं काफी अधिक जिम्मेदार बन गया जो कि काफी अच्छी चीज है.विराट कोहली और बीसीसीआई नहीं बल्कि इस दिग्गज खिलाड़ी के कहने पर रवि शास्त्री ने किया कोच पद के लिए आवेदन

लम्बे समय से टीम इंडिया से बाहर चल रहे सुरेश रैना ने मैच फिनिशर की भूमिका पर दिया बड़ा बयान 4
photo credit : Getty images

Related posts