सूर्यकुमार यादव को न्यूजीलैंड से खेलने के ऑफर पर दानिश कनेरिया ने अब कही ये बड़ी बात 1

संयुक्त अरब अमीरात में इंडियन प्रीमियर लीग का 13वां सीजन खेला गया था। इस सीजन में भारतीय क्रिकेट के कई युवा सितारों ने बहुत ही जबरदस्त प्रदर्शन किया था। इनमें से कुछ खिलाड़ियों को ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर मौका दिया गया। लेकिन आईपीएल में शानदार प्रदर्शन करने वाले सूर्यकुमार यादव को एक बार फिर से नजरअंदाज किया गया।

सूर्यकुमार यादव को अच्छे प्रदर्शन के बाद भी नहीं चुना गया टीम में

मुंबई इंडियंस की टीम को चैंपियन बनवाने में सूर्यकुमार यादव का अभूतपूर्व योगदान रहा। उन्होंने शानदार बल्लेबाजी दिखाकर 500 से ज्यादा रन बनाए और भारतीय टीम में जगह बनाने का दावा भी ठोका था।

सूर्यकुमार यादव को न्यूजीलैंड से खेलने के ऑफर पर दानिश कनेरिया ने अब कही ये बड़ी बात 2

लेकिन सूर्यकुमार यादव को ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर नहीं चुना गया। सूर्या के प्रदर्शन को देखते हुए हर किसी को उन्हें चुने जाने की उम्मीद थी, लेकिन इस युवा खिलाड़ी को टीम में नहीं चुने जाने से हर किसी को काफी हैरानी हुई थी, और जमकर हो हल्ला मचा था।

सूर्यकुमार यादव को मिला था न्यूजीलैंड से खेलने का ऑफर

सूर्यकुमार यादव को इसके बाद न्यूजीलैंड के पूर्व क्रिकेटर स्कॉट स्टाइरिस ने न्यूजीलैंड से खेलने का ऑफर भी दिया था, लेकिन पाकिस्तान के पूर्व स्पिन गेंदबाज दानिश कनेरिया का मानना है कि सूर्यकुमार यादव जैसे खिलाड़ी को भारत कभी दूसरे देश में नहीं जाने देगा। उनका बोर्ड सूर्या के साथ खड़ा है।

दानिश कनेरिया ने पाकिस्तान के एक युवा प्रतिभाशाली क्रिकेटर सामी असलम का उदाहरण देकर ये बात कही। सामी असलम को पाकिस्तान में लगातार खेलने का मौका नहीं मिलने के बाद उन्होंने यूएसए का रूख कर लिया है।

दानिश कनेरिया ने कहा, सूर्या के साथ खड़ा है बीसीसीआई

इस पर दानिश कनेरिया ने अपने यू-ट्यूब चैनल के माध्यम से कहा कि

“वो(सामी असलम) एक निरंतर खिलाड़ी थे। उनके साथ अन्याय हुआ। उन्हें कभी वैसा मौका नहीं मिला जैसा शान मसूद, इमाम उल हक जैसे खिलाड़ियों को दिया गया।”

सूर्यकुमार यादव

“ये दुर्भाग्यपूर्ण है कि पीसीबी इस तरह का व्यवहार करता है कि खिलाड़ियों को अपने घर(देश) छोड़ने की जरूरत आ जाए। भारत के सूर्यकुमार यादव को न्यूजीलैंड के लिए खेलने के लिए स्कॉट स्टाइरिस ने प्रस्ताव दिया था, लेकिन उनका फ्रैंचाइजी उनके साथ खड़ा है। बीसीसीआई उनके साथ खड़ा है, इसलिए वो भारत नहीं छोड़ेंगे।”