tahlia mcgrath harmanpreet kaur statement

रविवार को खेले गये कॉमनवेल्थ गेम्स के क्रिकेट के फाइनल मुकाबले में भारतीय महिला टीम को ऑस्ट्रेलिया के हाथों 9 रनों से शिकस्त मिली थी और इसी के साथ ही उनका स्वर्ण पदक जीतने का सपना भी टूट गया। इस मुकाबले के दौरान कुछ ऐसा भी हुआ जिसने मैनेजमेंट को विवादों के घेरे में लाकर खड़ा कर दिया।

दरअसल, ऑस्ट्रेलियाई ऑलराउंडर टहलिए मैकग्रा (Tahlia McGrath) के कोविड संक्रमित होने के बावजूद उन्हें खेलने की अनुमति दी गयी थी। हालांकि, भारतीय टीम की कप्तान हरमनप्रीत कौर (Harmanpreet Kaur) ने खुद इस बात का खुलासा किया कि उन्होंने भी टहलिए मैकग्रा को खेलने की अनुमति दी थी।

भारतीय कप्तान की रजामंदी से मिली थी अनुमति

Tahlia McGrath
Tahlia McGrath

रविवार को एजबेस्टन में खेले गये फाइनल मुकाबले में कोविड पॉजिटिव होने के बावजूद टहलिए मैकग्रा (Tahlia McGrath) को खेलने की अनुमति दी जाने पर विवाद जारी है। इस बात पर भारतीय कप्तान हरमनप्रीत कौर ने खुलासा करते हुए बताया कि उन्हें टॉस से पहले ही मैकग्रा के पॉजिटिव होने के बारे में सूचित किया गया था, और उन्हें ऑस्ट्रेलिया के लिए मैच खेलने की अनुमति देने में कोई भी आपत्ति नहीं थी। साथ ही साथ उन्होंने स्पोर्टर्समैनशिप का उल्लेख करते हुए बयान दिया है। जिस पर चलिए आगे जानते हैं।

कौर ने दिया बयान

Harmanpreet Kaur
Harmanpreet Kaur

टहलिए मैकग्रा (Tahlia McGrath) के कोविड पॉजिटिव की बात भारतीय टीम को टॉस से पहले ही दे दी गयी थी, जिसे भारतीय कप्तान हरमनप्रीत कौर ने खुद ही खुलासा किया है। उन्होंने स्पोर्ट्समैनशिप की बात करते हुए कहा-

“उन्होंने हमें टॉस से पहले ही सूचित कर दिया था। यह हमारे नियंत्रण में नहीं था क्योंकि राष्ट्रमंडल को फैसला लेना था। हमें अनुमति देने में कोई आपत्ति नहीं थी क्योंकि वो ज्यादा बीमार नहीं थीं, इसलिए हमने खेलने का फैसला किया था।” 

अपने बयान को आगे बढ़ाते हुए कहा-

“हमारे खिलाड़ी का जज्बा दिखाना था। हमें खुशी है कि हमने टहलिए मैकग्रा को ना नहीं कहा, क्योंकि फाइनल न खेलना टहलिए के लिए बहुत मुश्किल होता।” 

फाइनल मुकाबले में भारत को मिली हार

Indian Women's Cricket Team
Indian Women’s Cricket Team

फाइनल मुकाबले में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए ऑस्ट्रेलियाई टीम भारत के सामने 162 रनों का लक्ष्य रखी थी जिसमें बेथ मूनी 8 चौको की मदद से 41 गेंदों में 61 रन की पारी खेलकर आउट हुईं। वहीं भारत की तरफ से रेनुका सिंह और स्नेह राणा 2-2 विकेट लेने में कामयाब रही।

ऑस्ट्रेलिया के द्वारा दिये गये लक्ष्य का पीछा करते हुए भारतीय टीम महज 152 रन ही बनाने में कामयाब हो पायी। भारत की तरफ से कप्तान हरमनप्रीत कौर के बल्ले से 65 रन निकले, लेकिन कप्तान के आउट होते ही मिडिल ऑर्डर ताश की पत्तों की तरह बिखर गयी और टीम स्वर्ण पदक से चूक गयी।