टीम इंडिया को अगर जीतना है विश्वकप तो इन तीन चीजों को सुलझा ले जल्द से जल्द

Trending News

Blog Post

TOP 5/10

टीम इंडिया को अगर जीतना है विश्वकप तो इन तीन कमजोरियों का जल्द से जल्द निकालना होगा हल 

टीम इंडिया को अगर जीतना है विश्वकप तो इन तीन कमजोरियों का जल्द से जल्द निकालना होगा हल

टीम इंडिया वैसे तो इस समय फार्म में हैं, उसने अभी तक के विश्वकप के मैचों में शानदार प्रर्दशन किया है, लेकिन इन मैचों में टीम की कुछ कमियां उजागर हुई हैं. जिनको इंडिया टीम समय रहते दुरुस्त कर लें नहीं तो उसे विश्वकप जैसे प्रतिष्ठित ट्राफी से हाथ धोना पड़ सकता है. और एक बार फिर भारतीय प्रशंसको की आलोचना झेलना पड़ सकता है.

धीमी ओपनिंग साझेदारीः

टीम इंडिया की इन मैचों के दौरान एक समस्या देखने को मिली है कि ओपनर बल्लेबाजों ने टीम को धीमी शुरुआत दी है, जिसके कारण आगे के बल्लेबाज दबाव में आ जाते हैं, और वह अपना विकेट गंवा देते हैं. अफगान टीम के खिलाफ 53 गेंदो में राहुल ने 30 रन बनाए, इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट 56.60 रहा. साथ में रोहित शर्मा ने 10 गेंदो में 1 रन ही बनाया. इस तरह की धीमी शुरुआत टीम को आगे के मैचों में परेशानी में ड़ाल सकती है, इसलिए इसमें सुधार की आवश्यकता है.

शीर्ष क्रम के लड़खड़ाने पर मध्यक्रम भी हो जाता है फेलः

टीम इंडिया की सबसे बड़ी परेशानी ये है कि जब शीर्ष क्रम लड़खड़ा जाता है तो मध्यक्रम भी लड़खड़ा जाता है. हालांकि हर मैच में शीर्ष क्रम अच्छा प्रर्दशन करें ये भी संभव नहीं है, इसलिए मध्यक्रम को जिम्मेदारी से खेलना चाहिए. अफगान टीम के खिलाफ देखने को मिला कि शीरिष क्रम लड़खड़ा गया तो कोई भी बल्लेबाज मध्यक्रम में टीम को मजबूता प्रदान नहीं कर सका. अगर विराट कोहली की पारी को छोड़ दि्या जाए तो कोई भी बल्लेबाज मैदान पर टिककर नहीं खेल सका.

पावर हिटर की कमीः

टीम इंडिया के पास अंत के ओवरों में पावर हिटर की कमी है, अगर हार्दिक पांड्या को छोड़ दिया जाए तो कोई भी बल्लेबाज ऐसा नहीं है, जो अंत में बड़े-बड़े शाट मारकर टीम के स्कोर को बढ़ा सके, ये भी कमी टीम इंडिया को खलती है, अगर विश्वकप में एक बार फिर से टीम इंडिया को कब्जा करना है तो वह जल्दी से जल्दी से इन कमियों को दूर कर लें.

Related posts